अदालत जल जंगल ज़मीन प्राकृतिक संसाधन

रायगढ : छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट का आदेश मेंबर सेक्रेटरी ही जनसुनवाई करें .

आज छत्तीसगढ़. हाई कोर्ट ने जन चेतना सदस्य व ग्रीन नोबल प्राइज विजेता रमेश.अग्रवाल की याचिका पर कल की तरह महाजेनको की जनसुवाई में दिये गये आर्डर को ही महावीर कोल वाशरी की 10 जुलाई को प्रस्तावित सुनवाई के लिये दोहरा दिया.अर्थात यह जनसुनवाई भी पर्यावरण. विभाग के मेंबर सेक्रेटरी ही कर सकेगे.
अब देखते है कि जिला प्रशासन महाजेनको की तरह जनसुनवाई स्थगित करते है या पर्यावरण विभाग के मेंबर सैकेट्री आते हैं जनसुनवाई के लिये।

महावीर कोल वाशरी के मामले में यह महत्वपूर्ण हैं कि किसी कोयला खदान के 25 कि. मी. दायरे में कोयले का भंडारण नही किया जा सकता । छ ग मिनरल ट्रांसपोर्ट एक्ट । SECL की छाल ओपन कास्ट माइंस से इस वाशरी की दूरी महज 13 KM है. इसके पहले भी तात्कालीन कलेक्टर ने इसी कारण जन सुनवाई की तिथि नही दी थी . किन्तु बाद के कलेक्टर ने इसका ध्यान नहीं रखा और जनसुनवाई का आदेश दे दिया था.

चेतना सदस्य व ग्रीन नोबल प्राइज विजेता रमेश अग्रवाल

चेतना सदस्य व ग्रीन नोबल प्राइज विजेता रमेश अग्रवाल

Related posts

10 Female Lawyers of India Who Defied Every Societal Norm and Are What Badass Looks Like

News Desk

रामानुजगंज : ठेकेदार से आहत ग्रमीणों ने अपने ही तेंदूपत्तो में लगाई आग .

News Desk

उदयपुर के एसडीएम ने ज्ञापन लेने से किया था इंकार . एसडीएम को हटाया मुख्यमंत्री ने.

News Desk