जल जंगल ज़मीन

धरमजयगढ़ : सागरपुर ऐसा गाँव जहाँ हर परिवार का अपना है तालाब

150 परिवार है निवासरत उससे ज्यादा है तालाब सागरपुर में.

चूड़ामणि साहू की रिपोर्ट रायगढ़ @ पत्रिका ,

जल संरक्षण के लिए शासन कई प्रकार से योजना चला रही है , लेकिन इस योजना को आज भी अधिकांश लोग नजरअंदाज करते हैं । इसके विपरीत धरमजयगढ़ विकास खंड से कुछ दूर पर बसे सागरपुर गांव जहां हर परिवार के पास निजी तालाब है । इस तालाब से यहां के लोग जल संरक्षण का संदेश दे रहे हैं । प्रत्येक परिवार के पास तालाब होने का फायदा यह है कि गांव का जल स्तर कभी कम नहीं होता । जिले के शहरी क्षेत्र की बात करें जिला मुख्यालय रायगढ़ में परिसीमन के तहत 22 तालाब हुआ करते थे , लेकिन तालाबों को पाटते हुए कहीं मकान बना लिया गया तो कहीं कार्यालय बना लिया गया । इसके विपरीत करीब सात सौ की आबादी वाला गांव सागरपुर जल संरक्षण की दिशा में अहम भूमिका निभा रहा है । इस गांव के लोग पूरी तरह से कृषि कार्य पर ही निर्भर हैं । गांव के लोग कृषि कार्य करने के साथ तालाब को प्राथमिकता देते हैं ।

गांव में पहुंचते ही महसूस होता है कूल – कूल

सागरपुर गांव धरमजयगढ़ विकासखंड में आता है और यह गांव हाथी प्रभावित भी है । इसके बाद भी गांव के लोग पूरी मुस्तैदी से फसल की रखवाली करते है । वहीं गांव में भूजल स्तर नीचे नहीं होने के साथ बारह माह खेत फसल से लहलहा रहे होते हैं । इससे गांव पहुंचने के साथ ही ठंडक का एहसास होने लगता है ।

ग्रामीणों के द्वारा किया गया यह प्रयास काफी सराहनीय है । इसे क्षेत्र का जलस्तर भी नहीं घटेगा । अन्य गांव के लोगों को भी इस तरह जागरूक होकर जल संरक्षण की दिशा में प्रयास करना चाहिए |


नंद कुमार चौबे , एसडीएम धरमजयगढ़

गांव में अधिकांश परिवारों के पास तालाब है , इससे जल संरक्षण तो हो रहा है , वहीं गांव में कभी भी जल स्तर घटने की समस्या नहीं आती । इससे खेती का कार्य भी आसानी से होता है । –

सुरज विश्वाल , ग्रामीण

Related posts

आदिवासी संस्कृति पर संघी हमले धारा 144 में सदियों पुराने सरना देव

News Desk

सेव नेचर मार्च, युवाओं ने लगाए हसदेव अरण्य बचाओ के नारे

Anuj Shrivastava

किरंदूल : एन एम डी सी ने कहा कि स्वामित्व हमारे पास ही हैं ,नहीँ दिया गया किसी को .मालिक हम लेकिन खोदेंगे अदानी कंपनी .

News Desk