आंदोलन औद्योगिकीकरण पर्यावरण मजदूर मानव अधिकार शासकीय दमन

रायगढ : एन टी पी सी लारा के अनशनकारियों एवं ग्रामीणों की गिरफ्तारी की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए उनके रिहाई की मांग की .:. 23 से ज्यादा जनसंगठनों के साझा मंच जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा .

13.09.2019 / रायगढ 

 

जिला बचाओ संघर्ष मोर्चा ने कहा कि रमन सरकार आखिर ग्रामीणों के साथ पूरी पारदर्शिता के साथ भू अर्जन,मुआवजा, विस्थापन नीति और कार्यवाही क्यों नहीं की?प्रभावितों को विश्वास में क्यों नहीं लिया?अब आनन फानन में दमनात्मक कार्यवाही की जा रही है जो पूर्णतः अलोकतांत्रिक एवं घोर निन्दाजनक है।मोर्चा आंदोलन कारियों के निशर्त तत्काल रिहाई की मांग करता है।

मोर्चा के साथीगण सर्वश्री शिवशरण पांडेय, सचिव बासु देव शर्मा, ट्रेड यूनियन के संयोजक गणेश कछवाहा, सीनियर सिटीजन एसोसिएशन के अध्यक्ष के के एस ठाकुर, पेंशनर संघ के साथी बी आर चैनी, एम पी अग्रवाल, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी संघ से एम एल जोगी, जयप्रकाश अग्रवाल, एकता परिषद के रघुवीर प्रधान, आ.भा. बैंक एम्प्लाईज एसोसिएशन के पूर्व पदाधिकारी टी के घोष, आ.भ.डाक कर्मचारी संघ के पूर्व पदाधिकारी के आर यादव, सर्वोदय मंडल से डॉक्टर सुरेश शर्मा जुरदा, सद्भावना सांस्कृतिक समिति के नील कंठ साहु, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ से अनिता नायक,काजल विश्वास, दवा प्रतिनिधि संघ से खगेश्वर पटेल, लीगल राइट फोरम के साथी विष्णु सेवक गुप्ता, माया गोस्वामी, सी पी आई से देवेंद्र श्रीवास्तव,सी पी एम के साथी श्याम जायसवाल, सामाजिक कार्यकर्ता एन आर प्रधान, आनंद प्रधान, डॉ एस एस गुप्ता, विजय अग्रवाल, विद्या सिंह,मुन्ना ,बजरंग अग्रवाल, किसान सभा के साथी लंबोदर साव,आप पार्टी से तपन बनर्जी, मदन पटेल,इत्यादि साथियों ने आंदोलन करियो एवं प्रभावित ग्रामीणों की तत्काल रिहाई तथा नियमानुसार मुआवजा, विस्थापन की मांग करते हैं।

**

 

Related posts

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने डीजीपी छतीसगढ़ को दिया आदेश ,सुनीता पोट्टम और मुन्नी पोट्टम की शिकायत की व्यकिगत जांच करें औऱ उनके गरिमा की रक्षा भी करें .: पीयूसीएल छतीसगढ़ ने निष्पक्ष जांच और दोनों की सुरक्षा की मांग की . :

News Desk

सत्ता क्यों डरती है, युवाओं के प्रेम करने से? : शेषनाथ वर्णवाल

News Desk

आतंकवाद जैसे गंभीर मसलों पर सरकार खुद फैला रही है अफवाह – रिहाई मंच

News Desk