कला साहित्य एवं संस्कृति मानव अधिकार सांप्रदायिकता

जुनेद को मार दो -राजेश जोशी-

जुनेद को मार दो
-राजेश जोशी-

बहाना कुछ भी करो
और जुनेद को मार डालो।
बहाना कुछ भी हो,जगह कोई भी
चलती ट्रेन हो,बस,सड़क,शौचालय या घर
नाम कुछ भी हो अख़लाक़,कॉमरेड जफ़र हुसैन या जुनेद
क्या फर्क पड़ता है
मकसद तो एक है
कि जुनेद को मार डालो!
ज़रुरी नहीं कि हर बार तुम ही जुनेद को मारो
तुम सिर्फ एक उन्माद पैदा करो,एक पागलपन
हत्यारे उनमें से अपने आप पैदा हो जायेंगे
और फिर,वो एक जुनेद तो क्या,हर जुनेद को
मार डालेंगे।
भीड़ हजारों की हो या लाखों की क्या फर्क पड़ता है
अंधे बहरों की भीड़ गवाही नहीं देती
हकला हकला कर उनमें से कोई कहेगा
कि हादिसा बारह बजकर उन्नीस मिनिट पर हुआ
पर वो तो उस दिन ग्यारह बजकर अट्ठावन मिनट पर
घर चला गया था,उसने कुछ नहीं देखा
ये डरे हुए लोगों की भीड़ है
जानते हैं कि अगर निशानदेही करेंगे
तो वो भी मार दिये जायेंगे
जुनेद को मारना उनका मकसद नहीं
पर क्या करें तानाशाही की सड़क
बिना लाशों के नहीं बनती !

Related posts

खरसिया में मूलनिवासी सर्वसमुदाय की महापंचायत ,रैली ,आमसभा -आज .

News Desk

लॉकडाउन के दौरान बच्चों के साथ हिंसा की शिकायत के लिए आ चुकी हैं 92 हज़ार कॉल

News Desk

आलेख ःः कहानी लिंगो की जिन्होंने रची है सृष्टि, खोजा है संगीत बस्तर और समाजशास्त्र  ःः  राजीव रजन प्रसाद

News Desk