कला साहित्य एवं संस्कृति मानव अधिकार सांप्रदायिकता

जुनेद को मार दो -राजेश जोशी-

जुनेद को मार दो
-राजेश जोशी-

बहाना कुछ भी करो
और जुनेद को मार डालो।
बहाना कुछ भी हो,जगह कोई भी
चलती ट्रेन हो,बस,सड़क,शौचालय या घर
नाम कुछ भी हो अख़लाक़,कॉमरेड जफ़र हुसैन या जुनेद
क्या फर्क पड़ता है
मकसद तो एक है
कि जुनेद को मार डालो!
ज़रुरी नहीं कि हर बार तुम ही जुनेद को मारो
तुम सिर्फ एक उन्माद पैदा करो,एक पागलपन
हत्यारे उनमें से अपने आप पैदा हो जायेंगे
और फिर,वो एक जुनेद तो क्या,हर जुनेद को
मार डालेंगे।
भीड़ हजारों की हो या लाखों की क्या फर्क पड़ता है
अंधे बहरों की भीड़ गवाही नहीं देती
हकला हकला कर उनमें से कोई कहेगा
कि हादिसा बारह बजकर उन्नीस मिनिट पर हुआ
पर वो तो उस दिन ग्यारह बजकर अट्ठावन मिनट पर
घर चला गया था,उसने कुछ नहीं देखा
ये डरे हुए लोगों की भीड़ है
जानते हैं कि अगर निशानदेही करेंगे
तो वो भी मार दिये जायेंगे
जुनेद को मारना उनका मकसद नहीं
पर क्या करें तानाशाही की सड़क
बिना लाशों के नहीं बनती !

Related posts

छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता में अपनी एक विशिष्ट पहचान रखने वाले राजकुमार सोनी को एक बार फिर रायपुर प्रेस क्लब में सम्मानित : पत्रकारिता में उल्लेखनीय काम करने के लिए उन्हें अब तक केपी नारायणन स्मृति पुरस्कार, उदयन शर्मा पुरस्कार, चंदू लाल चंद्राकर पत्रकारिता फैलोशिप, पंडित झाबरमल सम्मान, किशोर मोहन त्रिपाठी सम्मान और पीयूसीएल के निर्भीक पत्रकारिता सम्मान ,

News Desk

बोद्धिकता के खिलाफ पुलिस और असामाजिक संघटनो का गठजोड़ .सुप्रीम कोर्ट और मानवाधिकार आयोग से भी खफा है ये लोग ,राज्यसरकार को भी घेरा ,

cgbasketwp

सुरेश सेन निशांत* की कविताएँ प्रस्तुत हैं. कविताओं पर चर्चा की उम्मीद है.: अनिल करमेले प्रस्तुत. दस्तक़ में आज.

News Desk