कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ

मोहब्बत तो इन्सान की फ़ितरत है

nand kashyap

नन्द कश्यप की कविता

मोहब्बत तो इन्सान की फितरत है
वर्ना वह जन्नत से धरती पर धकेला न जाता

न जाने कितने फिरोन, राजा, महाराजा
नफ़रत की फ़लसफ़ा से खुदा बनने की कोशिश किए

लेकिन इंसान का दिलफिदा रहा मोहब्बत के किरदारों पर
फिर वो लैला-मजनू शीरी-फरहाद
हीर-रांझा या जूलियट-रोमियो हों

जो इंसानियत से मोहब्बत करता है
वह दूसरों का हक़ कैसे छीन सकता है

समाजवाद तो मोहब्बत से लबरेज़ इंसान लाएंगे
उसके लिए किसी तानाशाह की जरूरत नहीं

ऐ नफ़रत के पैरोकार तानाशाहों
इंसानों के हत्यारे, हथियारों के सौदागरों
वोट पाने तुम अंबेडकर का नाम लेते हो
और सत्ता में आते ही संविधान की धज्जियां उड़ाते हो

और तुम्हें जब इंसान दिखना होता है
तुम बापू के साबरमती आश्रम जाते हो

या फिर
मोहब्बत के प्रतीक
ताजमहल के सामने फोटो खिंचवाते हो 

ऐ तानाशाहों तुम समझ ही नहीं सकते
कि
जो इंसानियत से प्रेम करते हैं 
वही अन्याय अत्याचार के खिलाफ लड़ते शहीद होते हैं,
और तुम्हें नेस्तनाबूद कर
बेहतर दुनिया बनाते हैं

Related posts

दर्पण के उस पार व्यथित विचलित मन : सावि  की डायरी के कुछ छिटके पन्ने ..।

News Desk

पत्रिका के राजकुमार सोनी को मिला गायन में पहला  पुरस्कार ,पद्मश्री ममता चंद्राकर ने किया सम्मानित .

News Desk

The All India Cultural Convention – Pratirodh Ek Jan Sanskritik Dakhal held at Bhillai.: We shall speak, we shall perform, we shall dance, we shall sing towards that dawn when the idea of justice is materialized in this country..

News Desk