कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ

मोहब्बत तो इन्सान की फ़ितरत है

nand kashyap

नन्द कश्यप की कविता

मोहब्बत तो इन्सान की फितरत है
वर्ना वह जन्नत से धरती पर धकेला न जाता

न जाने कितने फिरोन, राजा, महाराजा
नफ़रत की फ़लसफ़ा से खुदा बनने की कोशिश किए

लेकिन इंसान का दिलफिदा रहा मोहब्बत के किरदारों पर
फिर वो लैला-मजनू शीरी-फरहाद
हीर-रांझा या जूलियट-रोमियो हों

जो इंसानियत से मोहब्बत करता है
वह दूसरों का हक़ कैसे छीन सकता है

समाजवाद तो मोहब्बत से लबरेज़ इंसान लाएंगे
उसके लिए किसी तानाशाह की जरूरत नहीं

ऐ नफ़रत के पैरोकार तानाशाहों
इंसानों के हत्यारे, हथियारों के सौदागरों
वोट पाने तुम अंबेडकर का नाम लेते हो
और सत्ता में आते ही संविधान की धज्जियां उड़ाते हो

और तुम्हें जब इंसान दिखना होता है
तुम बापू के साबरमती आश्रम जाते हो

या फिर
मोहब्बत के प्रतीक
ताजमहल के सामने फोटो खिंचवाते हो 

ऐ तानाशाहों तुम समझ ही नहीं सकते
कि
जो इंसानियत से प्रेम करते हैं 
वही अन्याय अत्याचार के खिलाफ लड़ते शहीद होते हैं,
और तुम्हें नेस्तनाबूद कर
बेहतर दुनिया बनाते हैं

Related posts

अब्राहम लिंकन द्वारा अपने पुत्र के शिक्षक को लिखा गया ख़त

News Desk

मजदूर दिवस पर शरद कोकास की तीन कविताएँ : हमारे हाथ अभी बाकी हैं

News Desk

ब्राम्हणों ने क्यों सिर्फ अंग्रेजो के खिलाफ ही लड़ाई की, क्यों उन्होंने मुघलों या तुर्कों के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ी. : कुछ भ्रांतियों के खिलाफ – तुहिन देब

News Desk