नीतियां मजदूर

मोदी सरकार द्वारा श्रम कानूनों मे बदलाव व सार्वजनिक क्षेत्रो के निजीकरण के खिलाफ : देशभर में आज प्रदर्शन

ट्रेड यूनियनों का संयुक्त मंच,छत्तीसगढ़ रायपुर

रायगढ़ में 2 अगस्त को अपरान्ह 1.45 बजे जीवन बीमा निगम कार्यालय के सामने सत्ती गुड़ी चौक रायगढ़ में विरोध प्रदर्शन व सभा आयोजित है। समस्त ट्रेड यूनियन के साथियों से अनुरोध है कि विरोध प्रदर्शन व सभा में जरूर शिरकत करें।*

मजदूर वर्ग के अधिकारों को कुचलने के खिलाफ़ प्रदर्शन में सभी ट्रेड यूनियन संगठन एकजुट हों

वेतन संहिता विधेयक 2019 और कार्यस्थल पर सुरक्षा, स्वास्थ्य व काम की हालतें संहिता विधेयक 2019 – ये दो विधेयक पूंजीपति वर्ग के हित में, मजदूर वर्ग के खिलाफ़, केंद्र।सरकार संसद में पेश कर चुकी है। ये दोनों संहिता, उन सभी अधिकारों की जगह लेगा, जिन्हें मजदूरों ने सालों-सालों से संघर्ष करके हासिल किया है। उदाहरण के लिए, वेतन संहिता विधेयक में न्यूनतम मजदूरी प्रतिदिन 178 रु. या 4628 रु. मासिक प्रस्तावित है, जबकि मजदूर वर्ग आंदोलन ने कई सालों से 18,000 रु. मासिक न्यूनतम वेतन की मांग उठा रखी है।
नये कानून में काम के घन्टे 8 से बढ़ा दिये गये हैं । ओवर टाईम की कोई समय सीमा नहीं है ।

सुधारों के नाम पर श्रमिकों के 90 फीसद हिस्से को श्रम कानून के दायरे से ही बाहर कर दिया जाएगा क्योकि इसमे न्यूनतम श्रमिक संख्या 100 होने के बाद ही श्रम कानून किसी संस्थान मे श्रम कानून लागू होंगे, हमारे देश मे असंगठित क्षेत्र का हिस्सा 90 फीसद से अधिक है याने वे श्रम कानून के दायरे से बाहर हो जाएंगे। यहा तक कि वेतन संहिता मे 15 वे भारतीय श्रम सम्मेलन के द्वारा वेतन गणना के स्वीकृत प्रणाली और सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश उसमे 25% जोड़ने और जिसे 45 व 46 वे श्रम सम्मेलन मे सर्वसम्मति से स्वीकार किया गया था को भी पूरी तरह नजरंदाज कर श्रम मंत्रालय ने 10 जुलाई को एकतरफा तरीके से राष्ट्रीय न्यूनतम वेतन 4628/- प्रतिमाह की घोषणा कर दी जो कि 7 वे वेतन आयोग कि 18000/- न्यूनतम वेतन आयोग की सिफारिश के भी खिलाफ है । केंद्र सरकार ने रेल, रक्षा, बीमा, मीडिया, जैसी संस्थानो मे भी 100 फीसद एफ डी आई की अनुमति देने और सावजनिक क्षेत्रो के थोक मे निजीकरण का देशविरोधी फैसला का ऐलान किया है। देश के मजदूर वर्ग , जनादेश का अपमान कर संसद के बहुमत का दुरुपयोग देश को बेचने के लिए करने वाले इन मजदूर विरोधी कदमो को कतई लागू नहीं होने देंगे और कल 02 अगस्त को देशव्यापी विरोध कार्यवाही इसकी शुरुआत है।

रायगढ़ में 2 अगस्त को अपरान्ह 1.45 बजे जीवन बीमा निगम कार्यालय के पास सत्ती गुड़ी चौक रायगढ़ में समस्त ट्रेड यूनियन के साथी , विरोध प्रदर्शन व सभा में शिरकत करेंगे

गणेश कछवाहा
संयोजक
ट्रेड यूनियन कौंसिल रायगढ़।
मो-9425572284
धर्मराज महापात्र
संयोजक
ट्रेड यूनियनों का संयुक्त मंच, छत्तीसगढ़ ,रायपुर।
मो। 09425205198

Related posts

SECL के कोल इंडिया पालिसी के कारण पेड के नीचे जीवन यापन के लिए मजबूर – गेवरा ,कोरबा .

News Desk

कन्हैया कुमार को बिहार पुलिस ने किया गिरफ्तार, चंपारण से करने वाले थे जन-गण-मन यात्रा की शुरुआत

Anuj Shrivastava

भाजपा नेताओं की दबंगई के खिलाफ लडकर जमीन कराई खाली . संघर्ष जारी रहेगा j

News Desk