आदिवासी आंदोलन किसान आंदोलन राजनीति

मैनपुर ःः. जल जंगल जमीन पर आदिवासियों का अधिकार की मांग को लेकर किया धरना प्रदर्शन ःः आदिवासी भारत महासभा.

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन.

3.02.2019

आदिवासी भारत महासभा के नेतृत्व में 2फरवरी2019 को दुर्गा चौक मैनपुर में आदिवासियों ने जल जंगल और जमीन पर अपनी हक की मांग लेकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। धरना पश्चात छत्तीसगढ़ के माननीय राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम स्थानीय तहसीलदार को दस सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। वन अधिकार कानून को मुख्य रूप से कथन और कार्य मे एक समान लागू करने, वन उपजों को सरकार द्वारा समर्थन मूल्य में खरीदी करने,सलफ़ जलाशय को पूरा करने, फरसरा बांध के लिए किये जाने वाले विस्थापन पर रोक लगाने, सभी गैर कानूनी खदानों पर तत्काल रोक लगाने,सुपेबेडा मे किडनी की बिमारी से सैकडो लोगो की मौत हो चूकीहे ईसकी जांच कर ततकाल समुचित उपचार किया जाय,मैनपुर(कला)के मुख्य सडक बह गया है इसे ततकाल बनाया जाय, आदिवासियों के निवास स्थान, संस्कृति और भाषा का रक्षा करने, अभ्यारण्य, रिजर्व फॉरेस्ट एवं टाइगर प्रोजेक्ट के नाम पर किये जाने वाले विस्थापन पर रोक लगाने आदि की मांग ज्ञापन में किया गया है।

सभा को सम्बोधित करते हुए भाकपा (मा-ले) रेड स्टार के राज्य सचिव कॉमरेड सौरा यादव ने कहा कि भारत मे अंग्रेजों ने आदिवासी जनता को जल जंगल और जमीन पर उनके परंपरागत अधिकार से बेदखल कर आदिवासी इलाकों को सामंती, जमीन्दारी प्रथा के अधीन लाया। आज भी संविधान की पांचवीं-छठी अनुसूचि के तहत आदिवासियों की जमीन को दिये गए संरक्षण का कोई परिणाम नहीं निकला है।

अपने अधिकारों के लिए आवाज बुलंद करने वाले आदिवासियों, बुद्धिजीवियों, मानव अधिकार कार्यकर्ताओं आदि लोगों को कॉरपोरेट घरानों के इशारे पर तथाकथित माओवाद का लेबल लगाकर उन पर सरकार द्वारा दमन किया जा रहा है। आदिवासी भारत महासभा के अध्यक्ष कॉमरेड भोजलाल नेताम ने कहा कि सरकार द्वारा पूर्व में किये जाने वाले जान कल्याण के कार्यों से पीछे हट जाने की वजह से आदिवासियों का उत्त्पीडऩ और शोषण कई गुणा बढ़ गया है। बहुराष्ट्रीय कंपनियां और देशी कॉरपोरेट घराने जमीन, जंगल जल और खनिज संसाधनों को हड़पने पागलों की तरह दौड़े चले आ रहे हैं।

सभा को ए,आई,के,के,एस,के राज्य कमेटी सदस्य उतम साहू ,A.I,R,W,Oसे दीपा ,सियाराम ठाकुर,हनिफ मेनन,हसन खान, भीमसेन मरकाम ,बिसाहु राम मरकाम,घनशायम मरकाम,मिठठल विशवकरमा ,युवराज नेताम मुकुदं कुजामं,पदम नेताम ,हेमलाल मरकाम आदि ने संबोधित किया, कार्यक्रम में मैनपुर कला, भाठीगढ़,राजपुर,ईदागांव, कोनारी,कोयबा,ढोररा,गाडागाट ा बरदुला,कोनारी,दबनाई,राजपु गिरहोला, गौरघाट, सोभा, गोनाबेहारडीह , आदि ग्रामों से सैकड़ों आदिवासी महिला पुरूष शामिल रहे।

**

Related posts

पत्थल गांव ,जशपुर : जल जंगल जमीन पर जो संवैधानिक अधिकार प्राप्त है उसे अभियान के रूप में प्रारम्भ किया जायेगा .

News Desk

छत्तीसगढ़ के 21 किसान संगठन एकजुट हुये , सरकारों की वादाखिलाफी के विरोध में रायपुर में जुटेंगे हजारों किसान : 8 जनवरी को आयोजित होगा किसान संकल्प सम्मलेन ● आज रायपुर में पत्रकार वार्ता में 21 किसान संगठनों ने की अपील .

News Desk

पत्रकार के साथ मारपीट के खिलाफ़ प्रेस क्लब रायपुर के धरने को समर्थन देनें सामाजिक संगठन के लोग पहुचे.

News Desk