आंदोलन छत्तीसगढ़ मानव अधिकार राजकीय हिंसा राजनीति वंचित समूह शिक्षा-स्वास्थय सांप्रदायिकता हिंसा

माकपा ने की दिल्ली दंगा पीड़ितों के लिए राहत फंड की अपील

CPIM Delhi

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने हाल ही में उत्तर-पूर्व दिल्ली के इलाकों में हुए सांप्रदायिक दंगों से पीड़ित प्रभावितों के लिए राहत फंड एकत्रित करने का आह्वान किया है। माकपा सचिव संजय पराते ने बताया कि दिल्ली दंगा पीड़ितों और प्रभावितों के लिए बड़े पैमाने पर राहत और पुनर्वास का कार्य उनकी पार्टी द्वारा किया जा रहा है। पार्टी ने लोगों से अपील कि है कि  चेक/डीडी के ज़रिये वे भी इस कारी मे आर्थिक सहयोग करें। ये सहाता नई दिल्ली स्थित पार्टी के केंद्रीय कार्यालय में भेजा जा सकता है।

माकपा राज्य सचिवमंडल द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि इन दंगों में अभी तक 153 लोगों के हताहत होने और सैकड़ों लोगों के लापता होने की खबर है, जिसमें दोनों समुदायों के गरीब लोग ही हैं। अधिकांश असंगठित क्षेत्र के मजदूर हैं, जिनकी आजीविका और घरों को काफी नुकसान पहुंचा है। 

माकपा ने आरोप लगाया है कि इन दंगों में संघी गिरोह का पूरा-पूरा हाथ था और यही कारण है कि उकसावे के लिए जिम्मेदार संघी नेताओं पर अभी तक एफआईआर तक दर्ज नहीं की गई है और इतने संवेदनशील मुद्दे पर होली का बहाना बनाकर संसद में चर्चा तक टाल दी गई है। माकपा ने बताया कि मुस्लिम समुदाय के लोगों की जान-माल को हुए नुकसान की एफआईआर दर्ज नहीं की जा रही है और राहत कार्य को एफआईआर के साथ जोड़ दिया गया है। इससे स्पष्ट है कि सरकार दंगा प्रभावितों को राहत पहुंचाने के प्रति संवेदनहीन हैं। 

माकपा के छत्तीसगढ़ राज्य सचिव संजय पराते ने आम जनता से पार्टी राहत फंड में उदारतापूर्वक सहयोग देने की अपील की है। उन्होंने बताया कि माकपा धार्मिक विश्वास के आधार पर भेदभाव किये बिना सभी दंगा पीड़ितों व प्रभावितों तक राहत पहुंचाने और उनका पुनर्वास करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने बताया कि माकपा द्वारा पूरे प्रदेश में राहत फंड एकत्रित करने का अभियान चलाया जा रहा है।

माकपा नेता ने कहा कि छत्तीसगढ़ पार्टी के निम्न खाते में भी राहत फंड जमा किया जा सकता है और पार्टी को सूचना भेजी जा सकती है :

CPI(M), Chhattisgarh State Committee
Bank of Baroda, Pandri Branch, RaipurAcc. No. 17380100002622, 
IFSC code : BARBPAN0RAI, (मो) 094242-31650

Related posts

India, Pakistan #NOWAR #SayNoToWar: Global StandOut for Peace in South Asia

News Desk

नर्मदा सत्याग्रह बुलेटिन 4 अगस्त 2017, 9:00 am चाहें स्थिति कितनी भी गंभीर हो जाये, ना तो हम कोई चिकित्सा जांच करवायंगे और न ही अनशन से उठेंगे.

News Desk

सयुंक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में खुलासा : भारत में हैं 27 प्रतिशत बहुआयामी गरीब : देश में गरीबी की चपेट में हर दूसरा आदिवासी और हर तीसरा दलित .

News Desk