दलित वंचित समूह सांप्रदायिकता हिंसा

माँब लींचिग का अर्थशास्त्र .

देश में गाय को मारने या उसका व्यापार करने के नाम पर पिछले सालों में सांप्रदायिक संगठनों ने काफी हमले किये .जगह जगह मालपीट की गई .कई जगह मुस्लिम और दलित समुदाय के लोगो की हत्या भी की गई.
सामान्यतः यही लगता हैं कि कुछ गाय को अपनी माता मानने वाले या उसकी पूजा करने वाले भीड बनाकर हमला करते हैं।
यह एकदम गलत और धर्म के नाम पर भ्रम पैदा करने की कोशिश के अलावा कुछ नहीं है यह वाकायदा ब्यापार हैं .यह इस वीडियो को सुनकर भी प्रमाणित हो रहा हैं.

मुबंई के एक खोजी पत्रकार हैं निरंजन टाकले .उन्होंने दिल्ली के एक कार्यक्रम में आप बीती सुनाया । जिसे News MX ने जारी किया है .

थोड़ा धैर्य और कान में हैडफोन लगाकर सुनिये ..

निरजन टाकले खुद तीन महीने रफ़ीक कुरैशी बन कर गुजरात के अहमदाबाद में रहे. कैसे उन्होने जानवरो से भरे ट्रक गुजरात , महाराष्ट्र और राजस्थान में पार किये कैसे बजरंग दल के चौधरी से मिले सौदेबाज़ी की ,क्यों यह लोग माँबल़िचिंग करते है.इनका बिजनैस तरीका कैसे है ,यह सब उन्होंने दिल्ली की एक सभा म़े बताया.
तो सुनिये निरंजन टाकले ने क्या कहा .

Related posts

राजसमंद : जी हां, वो विक्षिप्त है उसे भगवा राष्ट्र के विचार ने विक्षिप्त बना दिया /कविता ,सीमा आज़ाद

News Desk

पत्थलगांव : पांचवी अनुसूची पर एक दिवसीय सेमिनार आयोजित .

News Desk

मध्यप्रदेश : ‘अंग्रेज़ों भारत छोड़ो’ की तर्ज़ पर चुटका परमाणु परियोजना के प्रभावितों ने ‘कंपनियां आदिवासी क्षेत्र छोड़ो’ का दिया नारा

Anuj Shrivastava