महिला सम्बन्धी मुद्दे

मस्तूरी : चार किशोरियों को गांव के युवक ने मानव तस्करी का शिकार होने से बचाया

खबर – ramabreaking.com से साभार

फ़ोटो सौजन्य – रामा ब्रेकिंग

मस्तूरी क्षेत्र की चार किशोरियां गांव के युवक की सक्रियता से मानव तस्करी का शिकार होने से बच गईं। पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए किशोरियों को बेचने के लिए पुणे लेकर जा रहे आरोपित को पकड़ लिया है।

मस्तूरी क्षेत्र के एक गांव की किशोरी को काम दिलाने के कोटमी सोनार निवासी दयानंद सोनी पिता सत्यनारायण दूसरे प्रदेश लेकर जाने की बात कह रहा था। इस बीच गांव के एक युवक को इसकी भनक लग गई। तब उसने दयानंद सोनी को गांव से भगा दिया और यहां से लड़कियों को बाहर ले जाने से मना किया। इस घटना के दो दिन बाद 18 फरवरी को युवक की बहन गायब हो गई। तब युवक ने गांव में पतासाजी शुरू की। पता चला कि गांव की तीन अन्य लड़कियां भी गायब हैं। उसे माजरा समझ में आ गया। बहन सहित किशोरियों को बाहर ले जाने की आशंका जताते हुए उसने टीआइ फैजूल शाह को सूचना दी। मानव तस्करी की आशंका को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने एसपी प्रशांत अग्रवाल व डीएसपी निमिषा पांडेय से मार्गदर्शन लिया। फिर टीम गठित कर संदेही युवक दयानंद सोनी की पतासाजी शुरू कर दी। इस बीच पता चला कि गायब लड़कियां मोबाइल से बातचीत भी कर रही हैं। लिहाजा, पुलिस की साइबर सेल की मदद से तकनीकी जांच कर उनका लोकेशन लिया गया।

इस दौरान आरोपित युवक पुलिस को चकमा देने के लिए कोटमी सोनार व अकलतरा में छिपा था। पुलिस ने उसकी पतासाजी की। तब वह बिलासपुर स्टेशन से बाहर जाने के फिराक में था। वहीं पुलिस की टीम स्टेशन पहुंची, तब वह गायब हो गया। वह लड़कियों को लेकर बस स्टैंड पहुंच गया था, जहां से पुलिस ने युवक को पकड़ लिया। साथ ही किशोरियां भी मिल गई। पुलिस की पूछताछ में आरोपित युवक दयानंद ने बताया कि वह साल भर पहले नागपुर में काम करता था। वहां काम करने के लिए लड़के-लड़कियों की आवश्यकता थी। इसके एवज में उसे कमीशन दिया जाता। पूछताछ में यह भी पता चला कि नागपुर से लड़कियों को पुणे में बेच दिया जाता।

पुलिस ने आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया है। उसके खिलाफ धारा 370 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। बहरहाल, युवक की सक्रियता व पुलिस की तत्परता से किशोरियां मानव तस्करी का शिकार होने से बच गई।

Related posts

देश के वंचित वर्ग द्वारा बुलाये गये भारत बंद का पीयूसीएल छतीसगढ समर्थन करता हैं .

News Desk

आखिर ऐसा क्या कर दिया शालिनी और ईशा ने कि एसपी उन्हें कुचलकर मार देना चाहते है

cgbasketwp

राजनैतिक ,आर्थिक मुक्ति से पहले जरूरी है सामाजिक बराबरी का आंदोलन ,बिना सामाजिक मुक्ति के राष्ट्र का निर्माण  संभव नहीँ .सम्विधान दिवस के आयोजन में वक्ताओं ने याद दिलाई कानून की ताकत .: बिलासपुर मैं हुआ भव्य आयोजन .:अम्बेडकर युवा मंच बिलासपुर की शानदार पहल .

News Desk