अभिव्यक्ति आंदोलन नीतियां मजदूर महिला सम्बन्धी मुद्दे वंचित समूह

मजदूरों को मिले सम्मानजनक वेतन वरना करेंगे सामूहिक आंदोलन

भिलाई. छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा मजदूर कार्यकर्ता समिति के द्वारा शुक्रवार को एक बड़ा जुलूस निकाला गया. जुलूस भिलाई नगर निगम कार्यालय पहुंचा और उसने मजदूरों की समस्याओं और मांगों के संबंध में अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा. निगम आयुक्त कार्यालय में मौजूद नहीं थे तो निगम के अधिकारियो ने कहा कि आयुक्त आने के बाद तुरन्त सफाई कर्मियों के लिए मीटिंग आहूत की जाएगी और समस्या का समाधान किया जाएगा.

फिर निगम से जुलूस निकालकर पावर हाउस में आम सभा की गई, सभा मे मजदूरो ने कहा कि अब हम इन कोरे आश्वासनों के बहकावे में आने वाले नहीं हैं. ये झूठे सरकारी आश्वासन कभी पूरे नहीं होते, न इनसे पेट भरता है न घर चलता है. अब हमें ठोस रिज़ल्ट चाहिए.

सभा मे वक्ताओं ने कहा कि सफाई कर्मी ही शहर को स्वच्छ बनाता है लेकिन उस सफाई कर्मी को जीने लायक वेतन नही मिलता. प्रमुख रूप से सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार समान काम समान वेतन देना होगा. मजदूरो को स्थाई करना होगा. एक अधिकारी एल गिलास पानी निकाल कर नही पिता उसका तनख्वाह लाखों में और जो हाड़ तोड़ मेहनत करता है उन मजदूरों को 6 हजार भी नही मिलता, ऊपर से छटनी किया जाना आम बात है.

छत्तीसगढ़ मुक्तिमोर्चा के कलादास डहरिया ने बताया कि यदि मजदूरों की मांग नहीं मांगी गई तो भिलाई इस्पात संयंत्र, ओउद्योगिक मजदूर सफाई कर्मि तथा प्रदेश के सभी मजदूर सकंगाथान एक साथ मिलकर बड़ा आंदोलन करेंगे.

सभा मे जे पी नायर, सुरेन्द मोहन्ती, नीरा डेहरीया, बंशी साहू लखन साहू, मनोज कोशरे, सोनू बेगम, मौतम भारती रेखा वर्मा, विष्णु पवार, जी एन सिंह, कामेश्वरी, पुष्पा कलादास डेहरीया आदि लोग शामिल रहे.

Related posts

शरद कोकास की चर्चित कविता : रोहित वेमुला का आख़िरी ख़त ” : दो साल हुये उन्हें गये . प्रस्तुति गणेश तिवारी

News Desk

मरवाही मनरेगा घोटाला: सरपंच, सचिव और ठेकेदार ने लाखों हड़प लिए, मजदूरों ने किया चुनाव का बहिष्कार

खुला पत्र : भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम इंदिरा जयसिंंह  एक खुला ख़त { हिन्दी  अनुवाद }

News Desk