ट्रेंडिंग महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार हिंसा

भीड़ वीडियो बनाती रही और कोरबा में उन्नाव हो गया

मुंगेली का रहवासी बताया जा रहा इन्द्रपाल टोंडे काम के सिलसिले में लगभग 6 महीने से कोरबा में रह रहा था. अक्टूबर माह में इन्द्रपाल टोंडे ने यहाँ एक महिला का नहाते हुए वीडियो बनाया उसपर साथ में रहने का दबाव बनाने लगा. माहिला के मना करने पर युवक ने वीडियो सोशल साईट्स पर अपलोड कर दिया. महिला की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार तो कर लिया लेकिन आरोप पत्र तैयार करने में ढील बरती. चार्जशीट ही पेश नहीं की जिसका फ़ायदा आरोपी को हुआ और उसे ज़मानत मिल गई. ज़मानत पर बाहर आते ही आरोपी ने हसिए से महिला पर जानलेवा हमला कर दिया. महिला पर लगभग 20 बार हसिए से वार किया गया.  

फ़ोटो सौजन्य : पत्रिका

उसे 200 टांके लगे

धारदार नुकीला हसिया जब किसी की गर्दन पर लगे तो कैसा घाव होगा आप सोच सकते हैं. आरोपी ने महिला पर हसिए से लगातार 20 बार वार किया. गंभीर रूप से घायल महिला को बिलासपुर के सिम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. महिला के चेहरे और गले में गंभीर चोट आई. हंसिए के 20 से ज्यादा घातक वारों के कारण महिला की आंख के ऊपर, नाक, गाल, गले के साथ-साथ हाथों पर भी गहरे जख्म. डॉक्टरों के मुताबिक महिला को 200  टांके लगाए गए थे और उसका बहुत खून बह चुका था. तीन दिनों तक मौत से लड़ती महिला ने रविवार की शाम अस्पताल में दम तोड़ दिया.

साथ में एक और वहशत चल रही थी

पुलिस की लापरवाही के कारण ज़मानत पर छूटा एक सनकी युवक जिस समय महिला की गर्दन को हसिए से चीर रहा था उसी समय, सात-साथ एक बहुत ख़तरनाक घटना घट रही थी…वो ये कि ये सबकुछ लोगों के सामने हो रहा था लेकिन किसी ने भी आगे बढ़कर महिला की मदद नहीं की. लोग मोबाइल पर वीडियो बनाते रहे. उस महिला का नाम यदि पद्मावती होता तो शायद कोई करणी सेना ही जाती उसे बचाने. इस दौरान महिला मदद के आवाज़ लगा रही थी  पर अफ़सोस न वो गाय थी न पद्मावती लिहाज़ा उसे मरता देख न किसी की भावनाएं आहत हुईं, न संस्कृति ख़तरे में आई और न देशप्रेम ही जागा. पुलिस ने भी आरोपी को पकड़ने में 30 घंटे लगाए.

पुलिस ने की लापरवाही

महिला का अश्लील वीडियो बनाने और उसे सोशल में डाल देने के आरोपी इंद्रपाल टोंडे को कोरबा पुलिस ने इसी साल 2 अक्टूबर को 506, 509 (ख) आईपीसी 66-ई (आईटी एक्ट) के तहत गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया था. जांच की रफ्तार ऐसी रही कि अब तक मामले में चार्जशीट ही पेश नहीं की गई है इस कारण आरोपी को ज़मानत मिल गई.

पीड़ित महिला के घर के आसपास रहने वाले लोगों ने बताया कि आरोपी आए दिन पीडि़ता के घर के सामने तमाशा करता था. महिला इस बात की सूचना पुलिस को देती भी थी, मगर पुलिस आती नहीं थी. शुक्रवार को जब आरोपी ने पीड़िता पर हंसिए से हमला किया तो पड़ोसियों ने पुलिस सहायता नंबर 112 पर कॉल किया लेकिन पुलिस नहीं पहुंची. इसके बाद पड़ोसी दौड़कर सीएसईबी चौक से पुलिस को बुलाकर लाए. तब तक आरोपी फरार हो चुका था.

पत्रिका अखबार के मुताबिक कोरबा एसपी ने कहा, पुलिस ने महिला पर जानलेवा हमले के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. वीडियो वायरल करने के आरोप में पहले भी उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. आरोपी जमानत पर बाहर था. जमानत किस आधार पर मिली, यह इंवेस्टिगेशन का पार्ट है. लेकिन वारदात का तरीका देखकर कहा जा सकता है कि कोई सनकी ही इस प्रकार का कृत्य कर सकता है. जांच में पता चला है कि आरोपी का महिला के घर आना जाना था.

Related posts

सवर्ण आरक्षण एवं संविधान संशोधन के खिलाफ तीन दिवसीय (12-13-14 जनवरी 2019) राष्ट्रव्यापी प्रतिवाद का आह्वान

News Desk

संविधान प्रमुख की जिम्मेदारी मिडिया की स्वतंत्रता को बरक़रार रखने की है न की उन्हें ठीक करने की .

News Desk

अब_गुजरात_में_प्रवासी_हुआ_हिन्दुस्तान !! ःः  यह एक्ट करने का समय है ; खामोशी महंगी पड़ जाएगी. -बादल सरोज 

News Desk