आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति मजदूर हिंसा

भिलाई : शहीद दिवस पर रैली शुरू .शहीद स्थल पर मजदूरों ने दी अपने शहीद साथियों को श्रधांजली.

भिलाई पावर हाउस , शहीद शंकरगुहा नियोगी के प्रतिमा स्थल से छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा और अन्य जन संगठनों की विशाल रैली प्रारंभ होकर पावर हाउस रेलवे स्टेशन प्लेटफॉर्म पर पहुच कर शहीदों के चित्र पर माला अर्पण किया और अपने शहीद साथियों को याद किया.

1 जुलाई 1992 को, भिलाई आन्दोलन के दौरान, हज़ारों मज़दूरों ने जीने लायक वेतन, बेहतर काम के हालात और मज़दूर नेता शहीद शंकर गुहा नियोगी के हत्या में न्याय की मांग करते हुए मजदूरों ने रेल रोको आंदोलन किया। मज़दूर हज़ारों के तादाद में शहर और गावों से निकले। जब जन सैलाब रेल पटरी पर थे तो पुलिस ने बर्बर गोलीचालन शुरू किया। 17 मज़दूर इसमें मारे गए और कई घायल हुए

शहीदों की याद में हर साल देश के वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए तमाम किसान आंदोलन, मजदूर आंदोलन, छात्र आंदोलन, आदिवासी, दलित आंदोलन ,सांस्कृतिक कर्मी, और जनवाद पसन्द जनता 1 जुलाई को भिलाई में रैली और सभा करते है।

अभी अभी रैली सभा स्थल पर पहुंच कर सभा प्रारंभ कर दिये है.
**

Related posts

हसदेव को बचाने का संकल्प ,ग्रामीण शुरू करेंगे अनिष्चित कालीन धरना प्रदर्शन। सरगुजा के प्रत्येक गांव से मांगा जाएगा समर्थन.

News Desk

कोल्हापुर यात्रा संस्मरण : कोल्हापुर भी कमाल का शहर है : शाहू जी महाराज का सामाजिक न्याय ,7 वीं सदी का पुरातन मन्दिर और धर्मिक सौहाद्र की मिसाल मज़ार : एक दिन में जितना समझ सके , चार किश्त में {संकलित }.

News Desk

आरीडोंगरी और हाहालद्दी खदान से निकलने वाले लाल पानी के कारण किसानों के खेत बंजर हो रहें है; कांकेर भानुप्रतापुर .

News Desk