राजनीति

भारतीय राजनीति के सबसे संकटग्रस्त समय में…

लोकसभा चुनाव की गहमागहमी में कुछ गंभीर बातें .
आनंद मिश्रा , जाने माने समाजवादी चिंतक और राजनैतिक कार्ययकर्ता .नंद कश्यप, वामपंथी आंदोलन और सामाजिक कार्यकर्ता से चर्चा की मानवाधिकार कार्यकर्ता डा. लाखन सिंह .
चर्चा के प्रमुख बिंदु कुछ निम्न रहे.

*लोकसभा चुनाव लगभग आधा निबट चुका है .आपका असिस्मेंट क्या है. आपको नहीं लगता कि सब पक्षीय प्रचार का माहौल बना दिया गया हैं.

  • आज राजनैतिक इतिहास का सबसे संकट कालीन समय है .जब संविधान के मूल तत्व पर हमला हो रहा है. लोकतंत्र ,संवैधानिक संस्थाओं और भारत की मूल संस्कृति पर संकट है.
  • भारत ने इसके पहले भी आपातकाल से लेकर और भी कई एकाधिकार के खतरे का सामना किया है .उसमे और आज की परिस्थितियों में क्या फर्क दिखता है.
  • मीडिया चाहे वह इलेक्ट्रॉनिक हो या प्रि्ंट इनका समर्पित होना या इनका खुद एक राजनैक विचार में विलय होना दिखता हैं , क्या यह अस्थायी संकट है जो सत्ता बदलते ही ठीक हो जायेगा.
    *.समाज में जो इतना तेजी से विभाजन दिख रहा है उसकी प्रकृति क्या है।
  • पहले खुद मोदी ,फिर योगी और अब प्रज्ञा सिंह की राजनैतिक स्वीकृति का सांप्रदायिक विचार क्या स्थाई भाव दिखाई देता हैं.
    *.राष्ट्र वाद , सेना का स्तेमाल .राजकीय हिंसा हो या युद्ध के प्रति लोगों का झुकाव क्या गंभीर खतरा नहीं हैं .
  • अपने ही देश की जनता के खिलाफ़ युद्ध सी स्थित का निर्माण को आप कैसे देखते हैं ।चाहें वह बस्तर हो ,काशमीर हो या पूर्वी भारत.
  • और आखिर में फिर वही कि 23 मई के बाद क्या बदलाव दिखाई देता हैं.

चर्चा कुछ लंबी होना ही थी . करीब 54 मिनट की बातचीत सुनिये


Related posts

छत्तीसगढ़ में मुख्य मंत्री भूपेश बघेल के लिए महज जीत नहीं ज्यादा सीट की चुनौती : जीवेश चौबे

News Desk

काकेर का निबरा गांव : आज़ादी के 71 साल बाद भी बच्चे पढ रहे है झोपड़ी मे. यही है विकास की मंजिल.

News Desk

17,18.देश के विभिन्न सामाजिक जन आंदोलनों का साझा मोर्चा – ऑल इंडिया पीपुल्स फोरम राष्ट्रीय परिषद की दो दिवसीय विस्तारित बैठक.आज प्रेस कांफ्रेंस.

News Desk