राजनीति

भारतीय राजनीति के सबसे संकटग्रस्त समय में…

लोकसभा चुनाव की गहमागहमी में कुछ गंभीर बातें .
आनंद मिश्रा , जाने माने समाजवादी चिंतक और राजनैतिक कार्ययकर्ता .नंद कश्यप, वामपंथी आंदोलन और सामाजिक कार्यकर्ता से चर्चा की मानवाधिकार कार्यकर्ता डा. लाखन सिंह .
चर्चा के प्रमुख बिंदु कुछ निम्न रहे.

*लोकसभा चुनाव लगभग आधा निबट चुका है .आपका असिस्मेंट क्या है. आपको नहीं लगता कि सब पक्षीय प्रचार का माहौल बना दिया गया हैं.

  • आज राजनैतिक इतिहास का सबसे संकट कालीन समय है .जब संविधान के मूल तत्व पर हमला हो रहा है. लोकतंत्र ,संवैधानिक संस्थाओं और भारत की मूल संस्कृति पर संकट है.
  • भारत ने इसके पहले भी आपातकाल से लेकर और भी कई एकाधिकार के खतरे का सामना किया है .उसमे और आज की परिस्थितियों में क्या फर्क दिखता है.
  • मीडिया चाहे वह इलेक्ट्रॉनिक हो या प्रि्ंट इनका समर्पित होना या इनका खुद एक राजनैक विचार में विलय होना दिखता हैं , क्या यह अस्थायी संकट है जो सत्ता बदलते ही ठीक हो जायेगा.
    *.समाज में जो इतना तेजी से विभाजन दिख रहा है उसकी प्रकृति क्या है।
  • पहले खुद मोदी ,फिर योगी और अब प्रज्ञा सिंह की राजनैतिक स्वीकृति का सांप्रदायिक विचार क्या स्थाई भाव दिखाई देता हैं.
    *.राष्ट्र वाद , सेना का स्तेमाल .राजकीय हिंसा हो या युद्ध के प्रति लोगों का झुकाव क्या गंभीर खतरा नहीं हैं .
  • अपने ही देश की जनता के खिलाफ़ युद्ध सी स्थित का निर्माण को आप कैसे देखते हैं ।चाहें वह बस्तर हो ,काशमीर हो या पूर्वी भारत.
  • और आखिर में फिर वही कि 23 मई के बाद क्या बदलाव दिखाई देता हैं.

चर्चा कुछ लंबी होना ही थी . करीब 54 मिनट की बातचीत सुनिये


Related posts

दस्तावेज़ ःः हम एक ही क्षेत्र से चुनते थे  दो सांसद और दो विधायक ःः मुहम्मद जाकिर हुसैन

News Desk

लागत तो दूर, महंगाई की भी भरपाई नहीं करता समर्थन मूल्य : किसान सभा छत्तीसगढ़ .

News Desk

भाजपाः पटेल को बड़ा दिखाने के लिए नेहरू को छोटा करने की साजिश -राम पुनियानी

News Desk