शिक्षा-स्वास्थय सांप्रदायिकता

भानुप्रतापपुर : अब मिशनरी स्कूल का माहौल खराब करने की कोशिश .भारत माता की जय को बनाया बहाना. प्राचार्य ने किया एसे किसी लिखित या मौखिक आदेश से इंकार .

सोशल मीडिया ने फैलाई झूठी खबर ,पालक पहुंचे स्कूल .छत्तीसगढ़ जैसे शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने का सुनियोजित प्रयास किया जा रहा है।अभी दो दिन पहले एक सामान्य भूमि विवाद को सांप्रदायिक रूप देने की कौशिश की गई थी और अब उन्ही सांप्रदायिक संगठन मिशनरी स्कूलों पर यह प्रयास कर रहे है..

भानुप्रतापपुर / कल भानुप्रतापपुर के संत जोसेफ स्कूल के बारे में यह खबर सोशल मीडिया में फैलाई गई कि प्राचार्य ने छात्रों को भारत माता की जय और वंदेमातरम कहने पर रोक लगा दी हैं. यह खबर फैलते ही हिन्दू संगठन और प्रचार से प्रभावित पालक स्कूल पहुंच गये और हंगामा करने लगे.नारेबाज़ी. और पुतला भी जलाया गया.

प्राचार्य और मेनेजमेंट लगातार कहता रहा कि हमने कभी भी लिखित या मौखिक रूप से एसा आदेश नहीं दिया हैं । लेकिन भगवा धारी युवक और अन्य हिन्दू संगठन नारेबाजी और हुज्जत करते रहे .

जिला प्रशासन और पुलिस के हस्तक्षेप से मामला शांत हुआ .हिन्दू संगठन सरस्वती की तस्वीर लगा कर वंदेमातरम भारत माता की जय पर अड़े रहे.प्रबंधन ने कहा भी कि स्कूल मे सरस्वती की फोटो नहीं लगाई जा सकती लेकिन प्रशासन और पुलिस ने हिन्दू संगठनों और पालकों के सामने कुर्सी पर सरस्वती की फोटो रखकर ही प्रार्थना कराई.

अभी दो दिन पहले ही रायपुर के पास एक सामान्य भूमि झगडे को सांप्रदायिक झगडा मे बदलने की कोशिश में एक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर केस दर्ज भी किया गया हैं.

छत्तीसगढ़ क्रश्चयन फोरम के अध्यक्ष पन्ना लाल ने कहा कि राज्य का शांतिपूर्ण और धार्मिक सदभाव वाले राज्य का माहौल कुछ सांप्रदायिक संगठन खतम करना चाहते हैं .कभी किसी मिशनरी स्कूलों के मैनेजमेंट ने इस प्रकार के आदेश कभी नहीं दिया .

**

Related posts

राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 धारा-3 की उपधारा (3) लागू करने के पीछे आखिर क्या है मंशा ? साम्प्रदायिक सौहार्द्र के बहाने रासुका लगाने का अधिकार कलेक्टर को: .सरकार की मंशा पर उठे संदेह .

News Desk

वर्धा हिंदी विश्वविद्यालय में गांधी स्मृति व्याख्यान

Anuj Shrivastava

अहमदाबाद टिफिन ब्लास्ट मामला : 14 साल की जेल काटने वाले हनीफ निकले निर्दोष.

cgbasketwp