अभिव्यक्ति

भाजपा नेताओं ने पत्रकार पर किया हमला, पार्टी सदस्यता रद्द करने की मांग : पूरे प्रदेश के पत्रकार जगत में रोष . ःः उत्तम कुमार

3.02.2019

संपादक  दक्षिण कोसल

खिसियाई बिल्ली खंभा नोचे वाली कहावत चरतार्थ हो गई है। विधानसभा चुनावों में मिली पराजय के बाद भाजपा के प्रदेश कार्यालय में चल रही समीक्षा बैठक की कव्हरेज करने गए पत्रकार सुमन पांडेय और विनोद डोंगरे पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्राणघातक हमला कर दिया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने जहां कैमरा से फुटेज डिलीट किया वहीं मोबाईल फोन छीन कर भागने की भी कोशिश की।

जानकारों का कहना है कि 3 फरवरी के शाम 4 बजे एकात्म परिसर में भाजपा की बैठक चल रही थी। इसी बैठक को कवर करने के लिए पांडेय अपने सहयोगी विनोद डोंगरे के साथ पहुंचे थे। इसी दौरान भाजपा की बैठक में हंगामा शुरू हो गया जिसे वहां उपस्थित दोनों पत्रकारों ने अपने कैमरे में रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया। यह बात बैठक में मौजूद कुछ भाजपा नेताओं को इतनी अशोभनीय लगी कि उन्होंने अपने नैतिकताओं का उल्लघंन करते हुए अपने समर्थकों के साथ सुमन पांडेय और विनोद डोंगरे पर हमला कर दिया।

कैमरे से फुटेज डिलीट करने का दबाव बनाते हुए भाजपा नेताओं ने पत्रकार सुमन पांडेय को लगभग 15 मिनट तक प्रदेश भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में बंधक बनाए रखा वहीं कुछ भाजपा कार्यकर्ता वहीं मौजूद दूसरे पत्रकार विनोद डोंगरे का मोबाईल फोन छीनकर भाग खड़े हुए। भाजपा कार्यालय में हुए इस हमले में सुमन पांडेय को सर पर लगी चोट से रक्तस्राव होने के बावजूद छत्तीसगढ़ के बड़े भाजपा नेताओं की उपस्थिति में फुटेज डिलीट करवाने के लिए बंधक बनाए रखना छत्तीसगढ़ भाजपा की फासीवादी कार्यशैली को दर्शाता है।

रायपुर प्रेस क्लब के उपाध्यक्ष प्रफुल्ल ठाकुर ने इसे प्रेस की आजादी पर हमला बताया है। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि इस घटना के बाद दोषियों को गिरफ्तार कर जमानत में छोड़ दिया गया है। तमाम पत्रकारों ने दोषियों के खिलाफ तीन सूत्रीय मांग के तहत पत्रकार साथी को लहूलूहान करने वाले भाजपा नेताओं को पार्टी बर्खास्त करे, आरोपी नेताओं के खिलाफ पुलिस गैरजमानती धाराओं में अपराध दर्ज करने तथा पत्रकारों को सुरक्षा मुहैया कराने सरकार से जल्द पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने को लेकर रायपुर प्रेस क्लब प्रांगण में आज 11 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दिया है।

**

abhibilkulabi007@gmail.com
dakshinkosal.mmagzine@gmail.com

Related posts

Second Public Statement by Sudha Bharadwaj .:  “Why I do not want to appear on Republic TV”

News Desk

ग्राज़्यना क्रोस्तोवस्का की कविता – परायी धरती

Anuj Shrivastava

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन कर दलित बुद्धिजीवी प्रो. आनंद तेलतुंबड़े गिरफ्तार

News Desk