दलित मानव अधिकार वंचित समूह हिंसा

बेमेतरा ;अतिक्रमण हटाने की जिद में दलित परिवारों से की बुरी तरह मारपीट , आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस .जीएसएम ने की शिकायत .

बेमेतरा जिला मुख्यालय के समीप खणडसरा चौकी के अन्तर्गत आने वाले ग्राम मोहतरा में मोब्लीचिंग की घटना से होते होते बच गई 20 – 25 के समूह में ग्राम के अक समाज विशेष के लोगों ने अनुसूचित जाति के एक परिवार के सदस्य जो की गाय से अलग शमशानघाट के समीप अपना घर बनाकर जिविकोपार्जन कर अपना गुजर बसर कर रहा था । जिसे उसके घर से निकालकर बेहद दर्दनाक रूप से मारपीट करते हुए ए सामाजिक गलीगलोच कर गाँव की गलियों में घुमाते हुए पंचयत तक ले जाया गया । जब अनुसूचित जाति के इस परिवार को गलियों में घुमाकर पिटा जा रहा था | खणडसरा चौकी के 3 पुलिस कर्मी उस समय घटना के दौरान गाँव में उपस्थित थे । इस घटना की जानकारी जिला मुख्यालय पुलिस प्रशासन को मिली जहाँ से दल बल जाकर उस पीडित पारिवार को गांव वालों ने से बचाकर लाया गया । जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया

अपराध कायम

पीडित पक्ष का जिला चिकित्सालय में बयान दर्ज किया गया है । प्रार्थी की सिकायत पर नामजद आरोपियों की तलाश की जा रही है । इनके खिलाप धारा 294 , 506 , बी 323 452 . 147 , 148 , 149 , आईपीसी के तहत अपराध कायाम किया गया है ।

जगमोहन कुंजाम , चौकी प्रभारी खणडसरा |

आरोपियों की तलाश जारी

पीड़ित को जिला चिकित्सालय में भर्ती किया गया | जबकि नाबालिक बचियों को को सखी सेंटर में रखा गया है | मामले की एफआईआर दर्ज कर ली गई है और आरोपियों की तलाश जारी है

श्याम सुंदर शर्मा , एसडीओ पुलिस बेमेतरा |

साथियों इस व्यक्ति का एक कसूर हैं ये ग्राम मोहतरा खंडसरा में घास जमीन पर घर बना कर निवास कर रहा था और सिर्फ सतनामी होने के कारण इसे जानवर की तरह पिटाई किया और इनके 1 लड़का और 3 लड़की को भी नही बक्सा ये इंसाफ के लिये अकेला जिला अस्पताल में तड़प रहा था जिसे बेमेतरा के gss संगठन और अन्य सामाजिक बंधुओं के सहयोग से दिनांक 12 अगस्त को रात 10 बजे तक fri दर्ज किया गया भारी दबाओ के कारण से ।
ये उस गाँव अकेला अतिक्रमण कारी नही है और भी उस गांव में निवाश करने वाले बहुसंख्यक समाज के लोग भी घास जमीन को कब्जा किया है

तामेश्वर अनंत (gss केंद्रीय कार्यकरणीय)

Related posts

आदिवासी क्षत्रों में पहले दिए गए अधिकारों को अब छीनने की तैयारी : पड़ताल , बस्तर : तामेश्वर सिन्हा ( बस्तर प्रहरी से साभार ) / आदिवासी लोग अपने समुदाय के आधार जल, जंगल, जमीन को बचाने के लिए आज भी संवैधानिक लड़ाई के ही पक्ष में है, और वो संविधान में दिए गए सारे अधिकारों के तहत अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन मौजूदा सरकार आदिवासियों के संवैधानिक अधिकारों का हनन खाकी के दमन से करने में लगी हुई है। ऐसा ही छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में एक गांव बुरुंगपाल है

News Desk

अनुसूचित क्षेत्र में बस्तर कलेक्टर ने किया असंवैधानिक संघ(संविधान के अनुच्छेद 19(5)के अनुसार ) को भंग”

cgbasketwp

राजद्रोह की धारा 124 अ लगाये जाने की पीयूसीएल छत्तीसगढ़ ने की निंदा.राजद्रोह कानून वापस लेने की मांग .

News Desk