पर्यावरण

बिलासपुर : जल संकट गहराया : मोहल्लों के 43 और टंकियों के 12 बोर सूखे पानी के लिये मचा हाहाकार . पानी के लिए मची त्राहि-त्राहि, भड़के लोगों ने घेर लिया आयुक्त का दफ्तर.

पत्रिका बिलासपुर.

बिलासपुर , लगातार गिर रहे जलस्तर ने शहरवासियों और निगम प्रशासन के लिए संकट खड़ा कर दिया है । हालात यह है कि गर्मी के चलते मोहल्लों में कराए गए 43 बोर सूख गए वहीं उच्चस्तरीय जलागारों के 12 बोर ठप पड़े हैं जिसके चलते शहर के पानी की टंकियां नहीं भर पा रही है । पूरे शहर में पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है । निगम प्रशासन के पास सप्लाई के लिए टैंकर और ट्रैक्टरों का भी अभाव है । जिसके कारण जलापूर्ति में दिक्कत आ रही है ।

जलसंकट से निबटने के लिए ठोस पहल न करने के कारण गर्मी शुरू होते ही पूरे शहर में पानी के लिए हाय तौबा मची हुई है । निगम के अफसर शासन से फंड न मिलने का रोना रोते रहे और हालात बिगड़ते गए । स्थिति यह है कि शहर के चारों दिशाओं में पिछले दो माह के दौरान 10 से 20 फीट जलस्तर में गिरावट दर्ज की गई । स्थिति जब अनियंत्रित हो गई निगम प्रशासन ने अमले और संसाधन के अभाव में नया बोर और मरम्मत कराने के बजाए टैंकरों के जरिए जलापूर्ति शुरू की लेकिन आधे शहर को जलापूर्ति करने वाला निगम का इमलीपारा रोड का हाइड्रेन तक सूख गया । 2 – 3 बार निगम के पंप हाउस के बोर तक ठप पड़ गए ।

टिकरापारावासियों ने नगर विधायक शैलेष पाण्डेय को सौंपा ज्ञापन , कहा पानी दिलाओ

भीषण गर्मी में करीब दो माह से जलसंकट झेल रहे टिकरापारा रामदास नगर गुप्ता गली के नागरिकों ने पूर्व पार्षद और पार्षद पति जुगल किशोर गोयल के नेतृत्व में नगर विधायक शैलेष पाण्डेय से उनके आवास में भेंटकर उन्हें जलसंकट की स्थिति से अवगत कराया । नगर विधायक निगम के अफसरों से चर्चा कर जल्द से जल्द समस्या का हल कराने का आश्वासन दिया । प्रतिनिधि मंडल में पूर्व पार्षद जुगल किशोर गोयल , जगदीश त्रिवेदी , एमएल अग्रवाल , जीएस प्रकाश , आरपी वर्मा , मिनाक्षी प्रसाद अवस्थी समेत मोहल्ले के अन्य नागरिक मौजूद रहे ।

इन इलाकों में की जा रही टैंकरों से जलापूर्ति

डेढ़ दो माह बाद भी शहर के दर्जन भर से अधिक मोहल्लों में जलसंकट की स्थिति बनी हुई है । ठोस पहल के अभाव में यहां टैंकरों से जलापूर्ति की जा रही है , गुरुवार को भी नयापारा , शंकर नगर , कासिमपारा , हेमूनगर देवरीखुर्द , विनोबानगर , तारबाहर , सरकंडा बंगालीपारा , लोधीपारा चिंगराजपारा , चांटीडीह , नूतन कॉलोनी , तालपारा , जुनीलाइन समेत अन्य इलाकों में टैंकरों से जलापूर्ति की गई ।

इन इलाकों के बोर सूखे

वार्ड नंबर 3नेहरूनगर के 2 , कस्तूरबा नगर वार्ड नंबर 4 के दो , वार्ड नंबर 6 का 1 , चाटापारा , जरहाभाठा , ओमनगर , राजेंद्र नगर , तालापारा के 3 . विनोबानगर के 4 , तारबाहर के 2 , इमलीपारा के 2 , देवकीनंदन स्कूल के पास , गोड़पारा , मसानगंज , नारियल कोठीदयालबंद , सिटी डिस्पेंसरीगांधी चौक , टिकरपारा के 3 , कासिमपारा , हेमूनगर , गणेश नगर के 4 , चिंगराजपारा के 3 , अरपापार जबड़ापारा और शिवघाट के 4 और देवरीखुर्द हाउसिंग बोर्ड कालोनी के बोर सूख गए । वहीं उच्चस्तरीय जलागारों में कुदुदंड पंप गृह – 3 , कुदुदंड पंप गृह 6 , नर्मदा नगर पानी टंकी , शांतिनगर , भारतीय नगर , व्यापार विहार , पीजीबीटी कॉलेज मैदान , हेमूनगर , गवर्नमेंट स्कूल टंकी के 2 , नूतन कॉलोनी और अशोकनगर पानी के बार सूखे पड़े हैं । जिसके कारण शहर के पानी की टंकियां नहीं भर पा रही है ।

जब अधिकारी बने बंधक तब अवैध कनेक्शनो पर हुई कार्यवाही

तोरवा हेमूनगर में जलसकंट को लेकर कार्यपालन अभियंता को बंधक बनाने के दूसरे दिन यहां के नागरिकों की मांग पर घर – घर सर्वे कराकर 20 अवैधनलकनेक्शनों को काटने की कार्रवाई की गई । जलसंकट से जूझ रहे हेमूनगर वासियों ने बुधवार को लगातार शिकायतों के बाद भी समस्या का निदान न होने पर नगर निगम के कार्यपालन अभियंता संजीव बृजपुरिया का घेराव कर उन्हे बंधक बना लिया था । मौके पर पहुंचे निगम के अफसरों ने समझाईस दी तो मोहल्लेवासियों ने हो हंगामा मचाकर पानी मुहैया कराने , टुल्लू पंप को बंद कराने और अवैध कनेक्शनधारियों के नल कनेक्शन काटने की मांग की थी । दूसरे दिन मौके पर पहुंचे अफसरों ने यहां सर्वे कराकर 20 घरों में अवैध नल कनेक्शन होना पाया । हो हंगामा और विरोध के बाद भी निगम अमले ने सभी 20 घरों के अवैध कनेक्शन को काटने की कार्रवाई की ।

***

Related posts

जनता के जीवन से खिलवाड़ है, सर्वे के बाद गम्भीर प्रदूषण वाले 100 की सूची से रायगढ़ जिले का नाम हटा . -गणेश कछवाहा

News Desk

छत्तीसगढ़ के वनों का विनाश जंगल – जमीन पर निर्भर समुदाय की खेती से नहीं, बल्कि खनन परियोजनाओं से हुआ हैं .: वन विभाग का यह कहना कि “वनाधिकार पत्र का वितरण हाथियों के हमले के लिए जिम्मेदार हैं” उसकी आदिवासी विरोधी मानसिकता को दर्शाता हैं .: छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन .

News Desk

क्या 50 हजार मिलियन टन कोयला का भंडार निकालने उत्तर छत्तीसगढ़ के सभी जंगलो का विनाश कर देंगे.

News Desk