राजनीति

बिलासपुर, कचरा पोलटिक्स  / राजनैतिक दल के कार्यालय में हमला और लाठीचार्ज के खिलाफ संयुक्त नागरिक मंच ने की प्रतिरोध सभा .जिम्मेदार पुलिस कर्मियों पर कार्यवाही और पुलिस सुधार कानून लागू करने की मांग .

बिलासपुर ,20.09.2018

लोकतंत्र बचाओ संविधान बचाओ के बैनर तले संयुक्त नागरिक मंच बिलासपुर ने आज देवकीनंदन चौक पर विरोध प्रदर्शन और आम सभा की .वक्ताओं ने रोष व्यस्त करते हुये कहा कि लोकतंत्र में यह कतई स्वीकार नहीँ है कि किसी राजनैतिक आंदोलन का बदला लेने के लिये पुलिस भाड़े के गुंडों की तरह राजनैतिक दल के कार्यालय में घुस कर लक्ष्य कर कर के कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर निर्ममता पूर्वक लाठी से वार करे. यदि पुलिस को कचरा फेंकने पर कार्यवाही करना थी तो वह घटना के समय उन्हें गिरफ्तार करती या उन्हें मंत्री के बंगले तक नहीं पहुचने देती ,लेकिन घटना के बहुत देर बाद पुलिस का हमला मंत्री के इशारे पर की गई कार्यवाही हैं .
केन्द और राज्य सरकार अपनी असफलताओं को छिपाने के लिये तरह तरह के हथकंडे अपना रही है .कभी हिन्दू मुस्लिम के नाम पर तो कभी असहमत लोगों को अर्बन नक्सल कहा जा रहा हैं .

यह सरकार को लग रहा है कि वे दुबारा जीत कर नहीं आने वाले है इसलिये इस प्रकार की ऊलजलूल हरकतें कर रहे है .न तो यह संविधान को मानते हैं और न कानून को.

मांग की गई कि हमले में सम्मिलित सभी पुलिसकर्मियों पर आपराधिक मुकदमें दर्ज किये जायें ,निष्पक्ष जांच हो और अंत में प्रस्ताव पास किया गया केन्द्र सरकार पुलिस सुधार कानून लागू करे ताकि पुलिसकर्मियों की जनता के साथ समन्वय और उनके रहन सहन में सुधार हो सकें.

सभा में माकपा के जिला सचिव रवि बनर्जी ,भाकपा सचिव पवन शर्मा ,किसान सभा के नंद कश्यप ,समाजवादी चिंतक आनंद मिश्रा , एडवोकेट महेन्द्र दुबे , आम आदमी पार्टी से एडवोकेट प्रियंका शुक्ला और राधा श्रीवाऊ ,अनुज श्रीवास्तव डा. सत्यभामा अवस्थी , महिला कांग्रेस से शोभा चाहिल,संजीव मोईत्रा , नौजवान सभा के लखन सिंह , नागेश्वर मिश्रा , नारायण , ट्रेड यूनियन कांसिल के महासचिव राजेश शर्मा और किशोर शर्मा.सरिता , प्रथमेश मिश्रा ,डा. लाखन सिंह आदि उपस्थित थे .

**

Related posts

लोकतांत्रिक व संविधानिक अधिकारों के हनन एवं राजकीय दमन के खिलाफ एक दिवसीय धरना 17 जुलाई को रायपुर में.

News Desk

डॉ. कफ़ील की जमानत पर त्वरित प्रतिक्रिया : आज आठ महीने बाद लग रहा है जैसे किसी ने मेरे कंधे पर रखे पहाड़ को उठाकर मुझसे अलग कर दिया है .: आवेश तिवारी ,वरिष्ठ पत्रकार

News Desk

एक नागरिक का पयाम -लेफ़्ट फ़्रंट के नाम. : जुलैखा जबीं नई दिल्ली .

News Desk