आदिवासी जल जंगल ज़मीन पर्यावरण मानव अधिकार

बारनवापारा अभ्यारण्य के ग्राम रामपुर के आदिवासियों के साथ मारपीट करने वाले वन अधिकारी संजय रौतिया पर कार्यवाही करने की मांग पर अनिश्चित कालीन धरना शुरू .

23.01.2018

 

जन संघर्ष समिति बारनवापारा क्षेत्र और दलित आदिवासी मंच के द्वारा के कसडोल ब्लॉक के ग्राम बया में अनिश्चित कालीन धरना शुरू किया। बार अभ्यारण्य के अंदर बसे ग्रामीणों को वन विभाग द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा हैं। पिछले दिनों स्थानीय रेंजर संजय रौतिया ने वन अमले के साथ मिलकर रामपुर निवासी राजकुमार कौंध के साथ मारपीट की यहाँ तक कि नाबालिक बच्चों और महिलाओं के साथ भी मारपीट की गई थी । वन विभाग पर कार्यवाही की जगह बलौदाबाजार पुलिस ने भी पीड़ित परिवार के खिलाफ ही मामला पंजीबद्ध कर दिया हैं। इस घटना से बारनवापारा सहित आसपास के पूरे क्षेत्र में व्यापक जान आक्रोश हैं। ग्रामीणों के तमाम प्रयासों के बाद भी पुलिस विभाग के द्वारा दोषी वन अधिकारी पर कार्यवाही नही की जा रही हैं और न ही वन विभाग ने मामले में कोई संज्ञान लिया हैं। इसलिए कार्यवाही की मांग पर आज से ग्रामीणों ने अनिश्चित कालीन धरना शुरू किया गया।

J

ग्रामीणों ने बताया कि एक तरफ शासन रिसोर्ट और बड़े बड़े होटल बनाकर पर्यटकों को बुला रही हैं और पीढ़ियों से बसे आदिवासियों को बेदखल कर रही हैं। जबरन बेदखली के लिए ग्रामीणों का आवागमन बंद किया जा रहा हैं। स्थानीय लोगो को मजदूरी आदि काम नही दिया जा रहा हैं साथ ही गांव में विकास कार्य भी बंद कर दिए गए हैं।

ग्रामीणों ने आरोप लगाए की आज भी वन विभाग अंग्रेजो के बनाये कानूनों के आधार पर चलते हुए आदिवासियों का शोषण कर रहा हैं। यह दुखद हैं कि इस देश की संसद ने वनाधिकार मान्यता कानून बनाया जिसका उद्देश्य हैं आदिवासियों के साथ हुए ऐतिहासिक अन्याय को खत्म कर जंगल, जमीन पर उनके वन अधिकारों को मान्यता देकर आजीविका को सुरक्षित किया जा सके तथा जंगल का संरक्षण और प्रवंधन ग्रामसभाओं को सौंपा जाए। इतने मबत्वपूर्ण कानून का छत्तीसगढ़ में पालन नही हो रहा।

धरना में बारनवापारा अभ्यारण्य, सोनाखान सहित कसडोल व आसपास के ग्राम पंचायत, जनपद और जिला पंचायत के प्रतिनिधि शामिल हुए। धरना को बारनवापारा अभ्यारण्य जन संघर्ष समिति के अध्यक्ष अमरध्वज यादव, सरपंच माधव तिवारी, अमृत बेदराम, बार सरपंच संपत ठाकुर छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन से आलोक शुक्ला सी पी एम के राज्य सचिव संजय पराते, दलित आदिवासी मंच के राजिम केतवास, देवेंद्र बघेल आदि ने संबोधित किया।

 

***

Related posts

डॉ दिव्या पाण्डेय एक कवयित्री के अलावा एम्स ऋषिकेश में चिकित्सक हैं । मुजफ्फरपुर की घटना से वे दुखी भी हैं औऱ आक्रोशित भी .

News Desk

केंद्रीय कानूनों पर ठोस कदम उठाए छत्तीसगढ़ सरकार : PUCL छत्तीसगढ़

News Desk

क़ायदे से प्रधानमंत्री को बनारस छोड़ने से पहले इस वाइस चांसलर को बर्ख़ास्त कर देना चाहिए था -रविश कुमार

News Desk