जल जंगल ज़मीन मानव अधिकार राजकीय हिंसा

बस्तर में दूसरी बार पहुँची सीबीआई की जांच टीम आज एड्समेटा पहुँचेगी , सीबीआई टीम पहुंची जगदलपुर , आज गांव पहुंचकर प्रत्यक्षदर्शीयों के दर्ज करेंगे बयान .

पत्रिका न्यूज , जगदलपुर / . बस्तर में दूसरी बार सीबीआई की टीम बुधवार को पहुंच गई है । गुरुवार को तड़के जांच टीम एडसमेटा के लिए रवाना होगी । यहां घटना से जुड़े प्रत्यक्षदर्शियों के बयान दर्ज करने के बाद देर शाम तक वापस जगदलपुर पहुंचेगी और यहां रात बिताकर शुक्रवार को जबलपुर के लिए रवाना हो जाएगी । यह जानकारी पत्रिका को विभागीय सूत्रों से मिली हैं । वहीं दूसरी तरफ जांच टीम के गांव पहुंचने की जानकारी सभी ग्रामीणों को मिल गई है । इस पर ग्रामीणों ने हर्ष जाहिर करते हुए कहा है कि वे उनका बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं , गांव वालों ने तय किया है , कि दो दिनों तक गांव में ही रहेंगे । उनका कहना है कि वे जांच टीम को पूरी घटना जानकारी देंगे । इस मामले में विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई की जांच टीम बुधवार की सुबह 9 बजे रायपुर से जगदलपुर के लिए रवाना हुई और देर रात जगदलपुर पहुंची है । गौरतलब है कि 3 मई को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एडसमेटा कांड की जांच सीबीआई की टीम को सौंपी गई थी । यह टीम बुधवार को बस्तर पहुंची है ।

आखिर किस लिए सुप्रीमकोर्ट ने मामले को सीबीआई को सौंपा ?

यचिकाकर्ता डिग्री कुमार चौहान की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में वकील कॉलिन गोसाल्विस खड़े हुए थे । इस मामले में जस्टिस एल . नागेश्वर राव और एमआर शाह की बेंच ने 3 मई को सुनवाई करते हुए कहा कि बीजापुर के गंगालुर थाने के एडेसमेटा इलाके में जो मुठभेड़ 17 मई 2013 को हुई थी । उसके लिए राज्य सरकार ने घटना के 11 दिन बाद 28 मई को एसआईटी गठित की थी । आखिरी सुनवाई में एसआईटी द्वारा इन छह सालों में जो कार्रवाई की गई थी उसकी जानकारी एफिडेविड में मांगी गई थी । इसमें बीजापुर एसपी ने जो जानकारी दी है उसमें लिखा है कि इन छह साल पांच लोगों के बयान दर्ज किए गए और माओवादियों का पकड़ने की कार्रवाई चल रही है । इस जवाब के बाद सुप्रीमकोर्ट ने साफ कहा कि वे एसआईटी की जांच से संतुष्ट नहीं है । एसआईटी ने छह साल में बिल्कुल भी प्रभावी रूप से काम नहीं किया । एसआईटी की इसी रवैये को देखते हुए ही मामले की तेजी से जांच के लिए इस मामले को शायद दिया जाता है ।

याचिकाकर्ता डिग्री प्रसाद चौहान व सोनी सोढी भी जाएंगे

एडसमेटा मामले की जांच की धीमी ” गति को लेकर याचिकाकर्ता डिग्री कुमार चौहान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी । इसी मामलें में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट मामले की जांच सीबीआई को सौंपी साथ ही सीबीआई के डायरेक्टर के लिए निर्देश जारी किया कि इस टीम के जांच अधिकारी छतीसगढ़ के बाहर का होना चाहिए । छह महीने बाद फिर से इस मामले की सुनवाई की बात उन्होंने कही थी । अब जब सीबीआई यहाँ आ रही है तो ऐसे में याचिकाकर्ता डिग्री प्रसाद चौहान और समाज सेवी सोनी सोढ़ी भी एड्समेटा जाएंगे ।

चार सदस्यीय है टीम , बेहद गुप्त रखी है पूरी कार्रवाई :

सीबीआई की टीम ने अपना यह दौरा बेहद कांफिडेंशियल रखा है । उनके आने की जानकारी चुनिंदा लोगों को ही है । लेकिन पत्रिका को विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस टीम में चार सदस्य हैं । एडसमेटा से शाम तक वापस जगदलपुर पहुंच जाएगे । इसके बाद शुक्रवार की सुबह जबलपुर के लिए रवाना होंगे ।

सीबीआई का बस्तर में पहला अनुभव रहा था खराब , टीम पर किया था परावः

ताड़मेटला घटना पर ग्रामीणों के घर जलाने और महिलाओं से बलात्कार का आरोप पुलिस पर लगा था । इसे लेकर 5 जुलाई 2011 को सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा कि उसे राज्य सरकार के आदेश से कराई जाने वाली किसी जांच में भरोसा नहीं है , इसलिए सीबीआई जांच के आदेश दिए । इसके बाद संयोगवश फरवरी 2012 में सीबीआई पर दोरनापाल में हमला हुआ । इसक आरोप खुद विशेष पुलिस अधिकारियों पर लगा । घटना के बाद जांच को कुछ समय के लिए रोक दिया गया । जब जांच से शुरू हुई , तब से गांव वालों को गवाही देने के लिए 200 किलोमीटर दूर जगदलपुर पहुंचकर गवाही देनी पड़ रही है ।

इधर ग्रामीणों ने जताई ख़ुशी, कहा गाँव वाले दो दिन तक कही नही जाएंगे ,जांच टीम को बताएंगे आपबीती

बीजापुर के एसमेटा के ग्रामीणों को इसकी जानकारी मिल गई है । कि सीबीआई की टीम उनके यहां एडसमेटा कांड की जांच के लिए आ रहे हैं । पत्रिका से विशेष चर्चा के दौरान ग्रामीणों ने कहा कि वे बेहद खुश है कि इस मामले की जांच के लिए आई जैसी टीम उनके गांव तक पहुंच कर सच्चाई का पता लगाने आ रही हैं । नहीं तो इससे पहले के मामले में बस्तर के लोगों को संभाग मुख्यालय तक आना पड़ता था । ग्रामीणों का कहना है कि इस खबर के बाद उन्होंने फैसला लिया है कि वे दो दिन तक कहीं नहीं जाएंगे गांव में ही रहेंगे । जांच टीम के सामने उस दिन की पूरी जानकारी विस्तार से उनके सामने रखी जाएगी ।

पत्रिका न्यूज

***

Related posts

23-24 फरवरी को देशव्यापी ग्रामीण हड़ताल का आह्वान, किसान सभा कर रही एक लाख से अधिक गांवों में सभा की तैयारी

Anuj Shrivastava

आखिरकार नियोगी के सपनों का विसर्जन क्यों? –उत्तम कुमार, संपादक, दक्षिण कोसल

News Desk

सरकार के संरक्षण में पनप रहा नक्सलवाद : देवती कर्मा

cgbasketwp