क्राईम छत्तीसगढ़ पुलिस बस्तर मानव अधिकार रायपुर हिंसा

बस्तर के पत्रकार रितेश पांडे के हमलावरों की गिरफ्तारी हो : माकपा

Ritesh Pande Baster
Ritesh Pande Baster

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने बस्तर में जागरण समूह से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार रितेश पांडे पर असामाजिक तत्वों द्वारा किये गए हमले की तीखी निंदा की है और हमलावरों को गिरफ्तार करने की मांग की है। पार्टी ने रितेश पांडे के इस आरोप की जांच करने की भी मांग की है कि यह हमला बोधघाट पुलिस द्वारा प्रायोजित था और जिस व्यक्ति ने हमलावरों से उनकी रक्षा की है, उसे ही आर्म्स एक्ट में गिरफ्तार कर लिया गया है।

नई दुनिया के जगदलपुर कार्यालय में पदस्थ पत्रकार रितेश पांडे पर बीते शनिवार की रात हमला किया गया था. वे अपना काम ख़त्म कर कार्यालय से घर लौट रहे थे. तभी उन पर 10 -12 गुंडों ने हमला कर दिया। इस हमले में पत्रकार रितेश पांडे को आंख और सिर अंदरूनी चोटें आई हैं. हमलावरों ने उनके कपड़े भी फाड़ दिए। जागरण समूह के नई दुनिया जगदलपुर में पदस्थ पत्रकार रितेश पांडे बस्तर के उन चुनिंदा पत्रकारों में से एक हैं जिन्होंने निर्भीक पत्रकारिता करते हुए बस्तर में आदिवासियों की आवाज बुलंद की है।

आज यहां जारी एक बयान में माकपा राज्य सचिव संजय पराते ने कहा कि प्रदेश में पत्रकारों पर भाजपा राज की तरह ही बदस्तूर हमले जारी हैं। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस राज के एक साल में ही 75 से ज्यादा पत्रकारों को अपनी निष्पक्ष रिपोर्टिंग के लिए प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा है, जिसमें पुलिस प्रायोजित हमले भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि रितेश के मामले में भी यह शर्मनाक तथ्य है कि हमलावर बाहर है और बचाने वाला जेल में। यह वास्तविकता ही यह बताने के लिए काफी है कि इस हमले में पुलिस का हाथ है।

सत्ता में आने के 100 दिन के अंदर पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने के कांग्रेस के वादे की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि पत्रकारों पर हो रहे हमलों में पुलिस प्रशासन की भूमिका को रिपोर्टर्स विदाउट बाउंड्रीज ने स्पष्ट तौर से रेखांकित किया है और स्थिति इतनी दयनीय है कि पत्रकारों पर हमलों के मामले में विश्व मे भारत का स्थान 138वां है। माकपा ने जागरण समूह के प्रबंधन द्वारा भी अपने ही पत्रकार पर हुए हमले पर चुप्पी साधने की भी आलोचना की है।

Related posts

रोहिंग्या स्त्री, पुरुष और बच्चे, जो म्याँमार की राजनीतिक स्थितियों पर बीजीवीएस में चर्चा आज

News Desk

विवेकानंद की सहिष्णुता के शिकागो में  :  “अकेले शेर और जंगली कुत्तों की”  : भागवत_कथा . : बादल सरोज 

News Desk

क्या आज हमारे वन सम्पदा, खनिज सम्पदा व जमीन क्या हमारे पास हैं। क्या संविधान द्वारा प्रदत्त 5वीं व 6ठी अनुसुची व उनके मौलिक अधिकार आदिवासीयों को मिल रहे हैं? : सोनू मरावी

News Desk