मानव अधिकार राजकीय हिंसा

बस्तर की ग्रामसभा में पहली दफे गूंजेगा आदिवासियों की पुलिस प्रताड़ना का मामला.: माओवादियों का आरोप निहत्था था पुनेम गाँव वाले के सामने मारी गोली.


पत्रिका.काम : 12.05.2019

जगदलपुर- बस्तर में पुलिस पर ग्रामीणों से मारपीट का आरोप कोई नई बात नहीं है । लेकिन बस्तर में पहली बार ऐसा होगा कि पुलिस मारपीट के खिलाफ ग्रामीण ग्रामसभा बुलाएंगे और यहां प्रस्ताव पारित करेंगे । यह गांव हैं गोंडेरास । गांव के लोगों का कहना है कि इस सभा में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक रहेंगे और यह सभी इसमें शामिल होंगे ।

वहीं दूसरी तरफ इस प्रस्ताव के पास होने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोढ़ी इस लिखित दस्तावेज को लेकर अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन के पाए जाएगी । ग्रामीणों का कहना है कि यह पूरी घटना बेहद क्रूर थी । इसलिए वे ग्राम सभा बुलाने जा रहे हैं । आने वाले पांच दिनों अंदर ग्राम सभा बुलाया जाएगा । इसमें शामिल होने और उनकी आवाज देश – विदेश तक पहुंचे इसके लिए सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोढ़ी को बुलाया गया है । इस ग्राम सभा में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक मौजूद रहेंगे । सभा में घटना के सबंध में प्रस्ताव लाया जाएगा । गांव के लोग विस्तार से अपने पर बीती बात बताएंगे और इसके बाद प्रस्ताव पारित किया जाएगा ।

सभा की सारी बातें दस्तावेज के रूप में तैयार की जाएंगी , ताकि इस बात को मानवाधिकार संगठन तक ले जाया जा सके । वहीं सोनी सोढ़ी का कहना है कि बस्तर में पांचवी अनुसूची लगी हुई है । इसलिए ग्राम सभा द्वारा लि निर्णयों का महत्व काफी बढ़ जाता है ।

अब पीड़ित ग्रामीणों की आवाज ग्राम सभा के माध्यम से ही आगे बढ़ेगी । ग्रामीणों ने उन्हें बुलाया है । अब इस ग्रामसभा में प्रस्ताव पारित करने के बाद इसे अंतराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठनों के पास ले जाया जाएगा ताकि इनकी शिकायत पर कार्रवाई हो सके ।

माओवादियों का आरोप निहत्था था पुनेम गाँव वाले के सामने मारी गोली

जगदलपुर @ पत्रिका . माओवादियों की दरभा डिविजन की पार्टी के सचिव साईंनाथ ने एक बार फिर प्रेसनोट जारी किया है । जिसमें 7 तारीख को गोंडेरास मुठभेड़ को फर्जी करार देते हुए उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया है कि कोई मुठभेड़ नहीं हुई थी । पुनेम सीको उस दिन निहत्थी अकेली नदी की ओर जा रही थी इसी दौरान उसे पकड़ लिया और गांव वालों के सामने उसे पकड़कर गोली मार दी । वहीं इसके बाद ग्रामीणों पर माओवादियों का साथ देने का आरोप लगाते हुए पूरे गांव वालों को लाठियों से पीटा । जिसमें 37 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए । साथ ही उन्होंने ग्रामीणों से सामान और पैसे लूटने का भी आरोप लगाया है । इसके बाद इसे मुठभेड़ करार दे दिया । वहीं उन्होंने गांव के 12 लोगों को भी पुलिस अपने साथ ले जाने की बात कही है ।

मलांगीर एरिया कमेटी ने जारी किया पर्चा मुया मंडावी को बताया पूर्व माओवादी

जगदलपुर @ पत्रिका , दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल थाना से लगे पेरपा गांव में 2 मई को हुई पुलिस माओवादी मुठभेड़ को माओवादियों ने फर्जी करार दिया है । माओवादियों की मलांगीर एरिया कमेटी के सचिव सोमडु ने प्रेस नोट जारी कर फर्जी बताते हुए न्यायिक जांच की मांग की है । मुया मंडावी को निहत्थे पकड़ कर दौड़ा दौड़ा कर पीछे से गोली मार दी गई । पर्चे में उन्होंने लिखा की वो माओवादी संगठन छोड़कर अपने परिवार के साथ खेती किसानी काम करता था और अपने परिवार का जीवन यापन करता था ।


Related posts

पीयूसीएल छत्तीसगढ़ ने बेला भाटिया सोनी सोरी व अन्य ग्रामीणों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज किए जाने का विरोध करते हुए आंदोलनकारियों के एनकाउंटर की न्यायिक जांच की मांग की

Anuj Shrivastava

जन आंदोलनों के 12वें राष्ट्रीय अधिवेशन का निमंत्रण

Anuj Shrivastava

Statement condemning this morning’s CBI raids at the home & offices of Indira Jaising, Anand Grover, Lawyers Collective.

News Desk