मानव अधिकार शिक्षा-स्वास्थय

प्रियंका शुक्ला ने स्वास्थ मंत्री टीएस सिंह देव को दिखाया सिम्स चेहरा.खैर….जो छिपाना चाहा गया वो एक प्रयास से छिप नहीं सका इस बार, और बातचीत ठीक हुई, आश्वस्त भी कराया है.

स्वास्थ्य मंत्री के निरीक्षण के तुरंत बाद सामाजिक कार्यकर्ता प्रियंका शुक्ला का फुट नोट .

खबर मिली कि स्वास्थ्य मंत्री cims पहुंच रहे है, और वहां दौरा करेंगे।
उनको कॉल किया पर शायद दौरे पर रहने के कारण उनका फोन नहीं उठा।
जिसके कारण तुरंत cims पहुंच कर उनको मिलकर, cims की हकीकत दिखाने की कोशिश करी, जितना मेरा cims को लेकर अनुभव हुआ, और जितना मैंने बिल्डिंग और अंदर की गंदगी देख रखी थी।
आइसोलेशन वार्ड, जिसमे मेरा खुद का काफी अनुभव रहा है अपने एक hiv मरीज को लेकर।

मैंने उनसे अनुरोध किया कि मुझे आपसे 5 मिनट अलग से मिलना है भर्ती घोटाला के सम्बन्ध में और plz एक बार जरा आइसोलेशन वार्ड के पास में जाकर और वहा जिस कमरे में मेंटल मरीजों को बंद करके रखा जाता है, उस कमरे में बस दो मिनट खड़े होकर ही देख लीजिए।

हालाकि पूरा राउंड ले चुके थे, पर मेरे निवेदन को मानते हुए टी एस देव जी वार्ड के तरफ बढ़ने लगे, तभी थोड़ा वो पीछे हुए पर फिर मेरे बार बार कहने पर वो उस कमरे की तरफ आगे आए, और वहा का हाल देखा।

कमरा खुलते ही देखा कि हवां में जो बदबू है, वो एक मरीज़ को सिर्फ मारने का ही काम कर सकती है, और अंदर महिला और पुरुष दोनों एक साथ, पुरुष नंगा शरीर के साथ एक करवट के पड़ा हुआ था।

स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह जी ने तुरंत विधायक शैलेश पांडे और अधीक्षक आरती पांडेय को निर्देशित किया इसका हाल ठीक करने को, और आइसोलेशन वार्ड के लिए विधायक फंड से कितना देंगे पूछा भी……

मुझे आश्वास्त किया गया कि इसको संज्ञान में लिया है अब, तो जल्द ही ठीक करने पर काम होगा।

मुलाकात के बाद मै बाहर आ गई, और सबसे एक सामान्य बातचीत करके अंदर क्या हुआ, उसके बारे में जानकारी दी।
तब मुझे पता चला कि स्वास्थ्य मंत्री जब आइसोलेशन के तरफ गए थे सबके साथ, पर सबको बोला गया कि आइसोलेशन वार्ड में नहीं घुस सकते।

ये जानकारी के बाद मुझे लगा कि आखिर कितना भी कोई मंत्री निरीक्षण करे, अगर ठीक ढंग वाले अधिकारीगण भी ना हो, और गलत चीज़ों को छिपाने का काम करे, तो भी चीज़ों को ठीक करना बार बार असफल हो सकता है।

खैर….जो छिपाना चाहा गया वो एक प्रयास से छिप नहीं सका इस बार, और बातचीत ठीक हुई, आश्वस्त भी कराया है अब सिर्फ इंतजार करना है और फॉलोअप करते रहना है कि ठीक हो रहा है या नहीं।

प्रियंका शुक्ला

Related posts

आदिवासियों की धोके से खरीदी गई जमीन के मामले दर्ज़ कर उन्हें वापस की जाये . कोसमपाली में आमरण अनशन के दसवें दिन काग्रेंस और जन संघठनो ने किया समर्थन

News Desk

गिद्ध… यह तस्वीर तुम्हें याद हैं न ! अंजना ..

News Desk

छत्तीसगढ़: 9 कोरोना पॉजिटिव और मिले, एक कॉन्स्टेबल भी शामिल

Anuj Shrivastava