किसान आंदोलन मानव अधिकार

पीडित परिवारों से कृषिमंत्री 7 दिन में मिलें नहीं तो परिवार उनसे मिलने आयेंगे .

पीडित परिवारों से कृषिमंत्री 7 दिन में मिलें नहीं तो परिवार उनसे मिलने आयेंगे .

छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने आत्महत्या पीड़ित किसान परिवारों से कृषि मंत्री को 7 दिन के भीतर मिलने का आग्रह किया
**
छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ की आपात बैठक आज संपन्न हुई जिसमे राज्य समन्वय समिति में शामिल संगठनों के प्रतिनिधियों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया कि प्रदेश की भाजपा सरकार किसानों के साथ घनघोर संवेदनहीन व्यवहार कर रही है । महासंघ ने महसूस किया कि विगत 15 दिनों में 12 किसानों की कर्ज की वजह से आत्महत्या  के बावजूद मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री और पूरा शासन प्रशासन किसानों की आत्महत्या की इस वजह को झुठलाने में लगा हुआ है । 
अंग्रेजी अखबार द हिन्दू में छपी खबर के अनुसार  कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने तो कर्ज की वजह को नकारते हुए आत्महत्या करने वाले किसानों को अब किसान मानने से भी इनकार कर दिया है । दुखद तथ्य है कि वास्तविकता जानने के लिये किसानों के मुखिया प्रदेश के कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवारों से उनके दुख दर्द को जानने उनसे मिलने तक गए हैं । 
इसलिए किसान महासंघ कृषि मंत्री को 7 दिनों के भीतर पीड़ित परिवारों के घर जाने का आग्रह करता है ।  अन्यथा किसान महासंघ पीड़ित परिवारों के सदस्यों को कृषि मंत्री के घर में मिलवाने लायेगा ताकि वे स्वयं किसानों की पीड़ा को समझ सके ।

किसान महासंघ ने यह भी महसूस किया कि पिछले एक पखवाड़े में 12 किसानों की आत्महत्या के बावजूद राज्य सरकार किसानो के साथ घनघोर संवेदनहीन व्यवहार कर रही है । किसान कर्ज के बोझ से लगातार दबते जा रहे हैं और उनके लिये खेती करना संभव नहीं हो पा रहा है । किसानों का कर्जा माफ़ करने की मांग महासंघ ने की है । भारतीय जनता पार्टी ने किसानों को तीन सौ रुपए बोनस, रु 2100 धान का समर्थन मूल्य, मुफ्त बिजली, एक एक दाना धान की खरीदी, ब्याज मुक्त लोन देने का संकल्प लिया था । इनमें से एक भी संकल्प ने पूरा नहीं किया गया ।  इसलिए इन के संकल्पों को याद कराने के लिए और पूरा करवाने किसान महासंघ के द्वारा क्षेत्रीय विधायकों का घेराव 1 जुलाई के बाद अलग-अलग विधानसभा क्षेत्र में किया जाएगा । इस हेतु बोनस बइठका का दौर जोर शोर से सभी जिलों में किया जायेगा । 
आज की बैठक में राजिम से तेज राम विद्रोही बिलासपुर से भानु प्रकाश चंद्रा, आरंग से पारसनाथ साहू श्रवण चंद्राकर द्वारिका साहू, झनकराम आवडे, गोविंद चंद्राकर नया रायपुर से रूपन चंद्राकर पप्पू कोसरे, लक्ष्मीनारायण चंद्राकर दुर्ग से गिरधर मढ़रिया, शक्ति सिंह बागबाहरा से संतोष चंद्राकर, शकील खान, सरायपाली से प्रभाकर ग्वाल राजनांदगांव से चंदू साहू धमतरी से पुरुषोत्तम चंद्राकर कोंडागांव से उत्तम जायसवाल और रायपुर से दुर्गा झा वीरेंद्र पांडे, डॉ संकेत ठाकुर सहित अनेक सदस्य उपस्थित थे ।

डॉ संकेत ठाकुर
संयोजक मंडल सदस्य 
छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ

Related posts

पत्रकार लिंगराम कोडपी को सीआरपीएफ के आफिसर द्वारा जान से मारने की धमकी : कार्यवाही की म़ाग ,लिंगराम की सुरक्षा करे सरकार .

News Desk

किसान सत्याग्रह आमरण अनशन तथा अनशन रहते ही 7 फरवरी से महासमुंद से बिलासपुर हाईकोर्ट पैदल यात्रा का आज 8 वां दिन है .: मिल रहा है भारी जनसमर्थन .

News Desk

मध्यप्रदेश विधानसभा पहुँची आंगनबाड़ी कर्मियों की लड़ाई : महापड़ाव में पहुँची 10 हजार

News Desk