कला साहित्य एवं संस्कृति

पत्थल गांव : करम सम्मेलन व नृत्य का भव्य आयोजन .

याकूब कुजुर की रिपोर्ट 

15.10.2018

पत्थलगांव: 14 अक्टूबर 2018 

ग्राम बहनाटाँगर गाँव समिति द्वारा करम सम्मेलन व नृत्य का आयोजन किया गया था। जिसमें छेत्र के तीन हजार से ज्यादा कुँड़ुख़ लोगों ने बढ़चढ़ कर भाग लिया।

प्रातः बेला में करम व तुसगो (नवा खानी) के नाम पर विशेष प्राथना याकूब कुजूर व देवभूषन टोप्पो की अगुवाई हुई। बेटी, बालिकाओं, भावी माताओं के विशेष पूजा अर्चना हुई कि वे समाज के गौरव बने सकें। तुसगो के नाम धर्मेस को धन्यवाद दिया गया नया अन्न प्रदान करने के लिए। पुरखों को भी याद किया गया, नमन किया गया जमीन जगह व रीति रीवाज धरोहर के रूप में देने के लिए।

 


दूसरी बेला छेत्र के ग्रामीण सांस्कृतिक समारोह के लिए इक्कठे हुए। समारोह की मुख्य अतिथि श्रीमती सम्पति सिदार बहना टाँगर की सरपंच ने इस भव्य आयोजन के लिए समिति को कोटिशः बताई दी और भविष्य में ऐसे समारोह करते रहने की शुभकामनाएँ दीं। विशिष्ट अतिथि के रूप में याकूब कुजूर ने समारोह के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए आदिवसी होने की शर्तों का जिक्र करते हुए पहली शर्त भूभाग पर अपना विचार व्यक्त करते हुए जमीन को बचाए रखने पर बल दिया। उस भूभाग पर शासन करने के लिये संगठन की अति आवश्यकता है। पांचवी अनुसूची, पेसा, वन अधिकार कानून आदिवासी छेत्रों में स्वाशन को मान्यता प्रदान करती हैं। समाज में फैली बुराई को दूर करने के उपाय भी उन्होंने सुझाया, साथ ही समाज की समस्याओं की ओर ध्यान आकृष्ट किया। आगामी चुनाव में सभी को मतदान करने व वोटर लिस्ट चेक करने को कहा गया। मत, दान करना है बेचना नहीं, वोट कटवा से सावधान रहना है। एक को खड़ा करना है और जितना है। देवभूषन टोप्पो ने दूसरी व तीसरी शर्त भाषा व संस्कृति पर विचार व्यक्त करते हुए इन्हें बनाये रखने की सलाह दी। मीना टोप्पो ने स्वच्छता और शस्थ्य के प्रति लोगों को जागरूक किया। टिकेश्वर एक्का, बीडीसी घरजियाबाथ, ने लोगों को कृषि संबन्धी जानकारियां प्रदान कीं। सुरेंद्र तिर्की सरपच मुड़ापरा ने स्वरोजगार व व्यवसाय की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित किया। बी एक्का ने कानूनी जानकारी दीं।

बीच बीच में करम नृत्य होता रहा प्रतियोगिता के लिये नहीं पर कला प्रदर्शन के लिए और एक दूसरे से सीखने के लिए। समरोह  के अंत में सभी छः नृत्य दलों को प्रोतसाहन राशी दी गई। धन्यवाद ज्ञापन सेलेस्टिना एक्का ने किया व मंच संचालय अनिल एक्का ने। इस मिषाली आयोजन के लिए ग्राम समिति को कोटिशः बधाई।

याकूब कुजूर

Related posts

होली ⚫ आपको भी बुरा नहीं लगना चाहिए ,अगर आपकी बिटिया के साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा हो तो… अनुज श्रीवास्तव

News Desk

डेनमार्क मूल की शीमा काल्बासी की कविता

Anuj Shrivastava

रूब़रू में इस्लाम और सामाजिक परिप्रेक्ष्य में जुलैख़ा जबीं से चर्चा . तीन एपीसोड़ .

News Desk