जल जंगल ज़मीन नीतियां पर्यावरण

पत्थलगांव में हाथी रहवास के लिये काम प्रारंभ.

मुरारी सोनी की रिपोर्ट पत्रिका के लिये .

पत्थलगांव. वनविभाग की ओर से वनप्राणियों को सहेजने एवं जल का सरंक्षण को ध्यान मे रखकर इन दिनों ग्रामीण क्षेत्र मे हाथी रहवास बनाने की योजना शुरू की है। इस योजना के तहत ग्राम पंचायत डूमरबहार के बेंद्राभुजा मे 14 लाख की कीमत से मिट्टी का डेम निर्माण कराया जा रहा है। इस कार्य से जहां पहाड़ो से बहने वाले बेकार के पानी को सरंक्षित करने मे मदद मिलेगी,वहीं इस काम को लेकर ग्रामीण शिकायत भी करने लगे है। 


बताया जाता है कि डूमरबहार के बेंद्राभुजा मे वनविभाग की पहल के बाद मिट्टी का डेम निर्माण कराया जा रहा है। जिसमे पानी सरंक्षित होने से वनप्राणी यहां आकर अपनी प्यास बुझा सकेंगे। इसके अलावा पहाडो से बहने एवं बारिश का पानी भी इसमे सरंक्षित किया जाएगा। लेकिन कार्य शुरू होते ही ग्रामीणों के द्वारा शिकायत करनी शुरू कर दी है। डूमरबहार के ग्रामीणो का आरोप है कि विभाग की ओर से लगाए गए तकनीकी सहायक के द्वारा शासन से प्राप्त मापदंडो का खुलकर उल्लंघन किया जा रहा है। उनका आरोप है कि मिट्टी का बांध की दिवारे बेहद कमजोर बनाई जा रही है,जिससे कुछ समय के बाद ही मिट्टी का डेम पानी के तेज बहाव से स्वयं मिट्टी मे मिल जाएगा। 


इन ग्रामीणो का आरोप है कि वनविभाग जिस तकनीकी सहायक को हाथी रहवास के काम में लगाया है। वह पूर्व मे भी अपनी कार्यो को लेकर विवादीत रह चुका है,जिसके कारण हाथी रहवास के काम मे पारदर्शिता की उम्मीद नहीं रखी जा सकती। इन ग्रामीणो ने उक्त तकनीकी सहायक को तत्काल इस काम से हटाकर दूसरे व अनुभवी तकनीकी सहायक को कार्य का जिम्मा सौंपने की बात कही है। ग्राम डूमरबहार से आए बुधनराम ने बताया कि इस बात की शिकायत ग्रामीणो द्वारा जल्द ही क्षेत्रिय विधायक के पास भी की जाएगी। इसके अलावा कलक्टर को वनविभाग द्वारा कराए जा रहे कार्य के संबंध मे अवगत कराया जाएगा।
हाथियों की बुुझेगी प्यासहाथी रहवास बनाने का उददेश्य मुख्यता जंगलो मे भटकने वाले हाथियों को पीने के पानी की सुविधा पहुंचाना है,वनपरिक्षेत्राधिकारी अनिता साहु ने बताया कि हाथी रहवास बनने से प्यासे हाथी अपनी प्यास बुझाने के लिए गांव का रूख नहीं करेंगे। उन्होने बताया कि शासन स्तर से ग्रामीणो को सुरक्षा प्रदान करने एवं जल सरंक्षण के लिए इस योजना का क्रियान्वन किया है।


सहायता के लिए रखा तकनीकी सहायक


ग्राम डूमरबहार के बेंद्राभुंजा मे वनविभाग की ओर से बनाया जा रहा मिट्टी का डेम में देखरेख करने वाले तकनीकी सहायक के संबध मे जब वन परिक्षेत्राधिकारी अनिता साहु से बात की गई तो उनका कहना था कि काम मे पूरी पारदर्शिता रखी गई है। उन्होने बताया कि काम अभी कुछ दिनों पहले ही शुरू किया गया है,जिसकी गुणवत्ता से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जा रहा है। उन्होने बताया कि बेहतर काम कराने के लिए जनपद से तकनीकी सहायक की मांग की गई थी,जिसके बाद जनपद से इस काम मे तकनीकी सहायक नियुक्त किया गया है।

Related posts

छत्तीसगढ़ : किसानों को मंडियों में बड़ा झटका , एक हजार रुपए में बेचना पड़ रहा है धान. 2500 रुपए क्विंटल में खरीफ की खरीदी कर चुकी है राज्य सरकार.

News Desk

परसा कोल ब्लाक को निरस्त करने की मांग, हसदेव अरण्य बचाओ संर्घष के आन्दोलन का आज दूसरा दिन

Anuj Shrivastava

रायगढ़ ; तमनार की हवा में घुल रहा है ज़हर , एनजीटी ने दिया आदेश, कमेटी की नियुक्त . जिला प्रशाशन के साथ मिलकर करेगी नियंत्रण .

News Desk