किसान आंदोलन राजनीति

धान बोनस : मोदी सरकार का किसान विरोधी चेहरा बेनकाब, 8 जनवरी को छत्तीसगढ़ के गांव होंगे बंद

kisan sabha chhattisgarh

धान का बोनस न देने पर ही केंद्रीय पूल में चावल लेने के मोदी सरकार के फैसले की छत्तीसगढ़ किसान सभा ने तीखी निंदा की है और कहा है कि इस शर्त से केंद्र सरकार का किसान विरोधी चेहरा बेनकाब हो गया है। मोदी सरकार की इस ओछी हरकत के खिलाफ 8 जनवरी को अन्य संगठनों के साथ मिलकर प्रदेश के गांवों को बंद रखने की घोषणा भी किसान सभा ने की है।

जारी एक बयान में छग किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते और महासचिव ऋषि गुप्ता ने कहा है कि मोदी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार फसलों के सी-2 लागत के डेढ़ गुना मूल्य पर फसल खरीदने और सभी किसानों को कर्जमुक्त करने का के वादे पर आज तक अमल नहीं किया है। किसानों को राहत देने और उसकी मदद करने के बजाए उसने उन देशी-विदेशी कॉर्पोरेट घरानों का कर्ज माफ किया है, जिन्होंने योजनाबद्ध तरीके से बैंकों में आम जनता के रखे 15 लाख करोड़ रुपये हड़प लिए हैं और टैक्स में छूट के नाम पर हर साल 6 लाख करोड़ रुपये अपनी तिजोरी में भर रहे है। 

किसान सभा नेताओं ने कहा कि किसी फसल पर बोनस देने की घोषणा करना राज्य सरकार का अधिकार है और केन्द्र सरकार की यह शर्त न सिर्फ उसके अधिकार का हनन है, राज्य और वहां के किसानों के साथ भेदभाव भी है। भाजपा और मोदी सरकार की ऐसी ओछी हरकत का यहां की जनता 8 जनवरी को ग्रामीण बंद का आयोजन करके मुंहतोड़ जवाब देगी। उन्होंने कहा कि यदि मोदी सरकार फसलों का लाभकारी समर्थन मूल्य घोषित करती, तो राज्य सरकारों को बोनस की घोषणा ही नही करनी पड़ती।

किसान सभा ने मांग की है कि राज्य में उत्पादित चावल का अधिशेष 32 लाख टन केंद्र सरकार उपार्जित करें और इस चावल का उपयोग देश में राशन दुकानों से वितरण के जरिये भूखमरी और कुपोषण से निपटने के लिए किया जाये, जो कि भाजपा राज में तेजी से बढ़ी है। 

Related posts

अचानक पुलिस की लाठियां टूट पड़ी। और उन्हें हॉस्टल तक में घुसकर पीटा गया-नवजीवन -चार वीडियो

News Desk

आज किया गया कई जगह SECL महाप्रबंधको का पुतला दहन : SECL भू विस्थापितों के मांगो को पूरा नहीं कराने के लिए मुख्य जिम्मेदार ,SECL एरिया के महाप्रबंधक . मांगे पूरी नहीं हुई तो घेराव और खदान बंद का एलान .

News Desk

मानवाधिकार ही नहीं भारत की सभ्यता को खतरा ,धर्मनिरपेक्षता ,लोकतंत्र ,समाजवाद और मूल अधिकारों पर फासीवादी हमले के खिलाफ खडे नही हुये तो फिर कोई मौका नहीँ मिलेगा . पीयूसीएल छत्तीसगढ़ के कन्नाबीरन स्मृति व्याख्यान और सामाजिक न्याय के लिए समर्पित अधिवक्ताओं को सम्मान में आये वक्ताओं ने चिंता व्यक्त की और संघर्ष के लिए आव्हान किया .

News Desk