अभिव्यक्ति कला साहित्य एवं संस्कृति धर्मनिरपेक्षता मानव अधिकार राजनीति

देश मेरा ,वोट मेरा ,मुद्दा मेरा ः सेना के शहीदों के नाम पर वोट मांगना देशद्रोह है , मतदाता जागरूकता अभियान .बिलासपुर .

बिलासपुर 23.03.2019

आज शहीद दिवस के अवसर पर विभिन्न जनसंगठनों ने भगत सिंह प्रतिमा पर श्रधांजली अर्पित करके मतदाता जागरूकता अभियान शुरू किया .

जन सभा के साथ पर्चे वितरण किया गया जिसमें जनता से अपील की गई है कि आज फिर देश में शहीदों के नाम पर राजनीति हो रही है ,पूलवामा में शहीद हुये सैनिको और सर्जीकल स्ट्राइक के नाम पर वोट मांगे जा रहे हैं ,हमारे देश के सैनिक किसी राजनीतिक पार्टी के लिये काम नही करते बल्कि वे देश की रक्षा करने में अपने प्राण न्योछावर कर रहे है ।केन्द्र की सरकार और भाजपा उसका राजनैतिकरण कर रहे है.


इसलिये आज देश को एकजुट होकर कहना हैं कि देश मेरा वोट मेरा और मुद्दा भी मेरा .जब कोई वोट मांगने आये तो उससे पूछिये कि हमारे जीवन से जुड़े मुद्दे ,शिक्षा ,स्वास्थ्य ,रोजगार ,राशन ,हमारे समाज की धर्म निरपेक्षता ,सामाजिक सामजंस्य और महिला ,दलित ,आदिवासियों की सुरक्षा और समृद्धि के लिये आपने आजतक क्या किया और अब क्या करने का वायदा करते हो.

शहीदों के नाम पर वोट मांगना देश भक्ति नहीं देशद्रोह है.

 

आज के अभियान में विशेष रूप से भोपाल से आईं आशा पाठक ,गायत्री सुमन, प्रियंका शुक्ला ,रिन चिन ,हेमलता प्रधान , दिव्या जायसवाल , राजेंद्र बंजारे ,मोनिका अजय ,टेंडन साहू,संतोष प्रधान ,महेश आर्य अग्रहिता ,शोभा राम गिलहरे ,सतरूपा डहिरे ,सुरेंद्र साहू ,रीना सिंह ,द्रोप्तो दुबे,दोहा साहू,निलोत्पल शुक्ला एवं डा.लाखन सिंह आदि थे .

***

Related posts

फासीवाद विरोधी मोर्चा का पहला सेमिनार : RSS का राष्ट्रवाद इटली के तानाशाह मुसोलिनी से प्रभावित है – हिमांशु कुमार

News Desk

छत्तीसगढ़ के वनों का विनाश जंगल – जमीन पर निर्भर समुदाय की खेती से नहीं, बल्कि खनन परियोजनाओं से हुआ हैं .: वन विभाग का यह कहना कि “वनाधिकार पत्र का वितरण हाथियों के हमले के लिए जिम्मेदार हैं” उसकी आदिवासी विरोधी मानसिकता को दर्शाता हैं .: छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन .

News Desk

रेप पीड़िताः फैसला सुरक्षित बिलासपुर

Lakhan Singh