छत्तीसगढ़ ट्रेंडिंग नीतियां बिलासपुर

तस्वीरों में देखिए शराब बिक्री की छूट के पहले दिन कैसे उड़ीं सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

41 दिनों के बाद प्रदेश में शराब दुकानें खूलिं तो महामारी कोरोना, सोशल-फिजिकल डिस्टेंसिग, आपदा प्रबंधन, इतने दिनों के लॉक डाउन का जो कुछ भी हासिल था सबकी ऐसी तैसी हो गई।

पुराना बस स्टैंड चौक फ़ोटो अप्पू नवरंग
चकरभाटा की शराब दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग

आज लॉक डाउन में लम्बी छूट का पहला दिन था. निर्देश थे कि लोग केवल ज़रूरी कामों के लिए ही बाहर निकलें और दिस्टेंसिंग का अनिवार्य रूप से पालन करें. लेकिन लगभग सभी जगहों पर नियमों की धज्जियां उड़ती दिखाई दीं. सड़कों पर जाम लग रहे थे.

पुराना बस स्टैंड, बिलासपुर की शराब दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग

शराब बिक्री की छूट ने महामारी संक्रमण के खतरे को बढ़ा दिया है

चकरभाटा की शराब दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग

तार बहार थाने के पास प्रीमियम शराब दुकान पर सिपाही के सामने ही लोग भीड़ लगाए हुए हैं.

तारबहार पुलिस स्टेशन के बाजू में प्रीमियम विदेशी मदिरा की दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग

प्रदेश में लगभग सभी जगहों पर सुबह 6 बजे से ही शराब खरीदने वालों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी, दुकानें खुलने का समय 8 बजे का था।

तारबहार पुलिस स्टेशन के बाजू में प्रीमियम विदेशी मदिरा की दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग
तारबहार पुलिस स्टेशन के बाजू में प्रीमियम विदेशी मदिरा की दुकान फ़ोटो : अप्पू नवरंग

सीजी बास्केट की बिलासपुर टीम शहर और आसपास के इलाकों में सोशल दिस्टेंसिंग के पालन का जायज़ा लेने निकली तो चकरभाटा के मुख्या बाज़ार में बेतरतीब नज़र आए.

चकारभाटा का मुख्य बाज़ार फ़ोटो : अप्पू नवरंग

शहर के कई चौराहों पर आज दिनभर बेतार्बीब वाहनों की आवाजाही रही.

महाराणा प्रताप चौक में लगा जाम फ़ोटो अप्पू नवरंग
सिविल लाईन थाने के सामने बाइक में बेवजह फर्राटे भरते लोग : फ़ोटो अप्पू नवरंग
पुराना बस के पास हो हल्ला मचाकर घूमरे लोग फ़ोटो अप्पू नवरंग
पुराना बस स्टैंड chouk फ़ोटो अप्पू नवरंग
बिलासपर : फ़ोटो अप्पू नवरंग
सिविल थाने के सामने एक बाइक में चार लोग फ़ोटो : अप्पू नवरंग

भिलाई दुर्ग में लोग सुबह 5 बजे से लाइन में खड़े थे. दुर्ग जिले में कोरोना के 8 नए मरीज़ मिलने के बाद आनन फानन में शराब दुकान बन्द करने का आदेश जारी करना पड़ा.

शराब को रेवेन्यू के लिए ज़रूरी बताकर सरकार ने इसकी बिक्री की छूट तो दे दी, लेकिन महामारी के इस ख़तरनाक समय में डिस्टेंसिग की धज्जियां उड़ाती ये भीड़ कितनी ख़तरनाक साबित हो सकती है, क्या इसके बारे में सरकार ने बिल्कुल भी नहीं सोचा?

और यदि खतरे को समझने के बावजूद ये निर्णय ले लिए गया है तब तो ये और भी चिंता की बात है. तो क्या सरकार अपने रेवेन्यु के चक्कर में लोगों को महामारी की चपेट में जानबूझकर धकेल रही है.

रेवेन्यु के तो और भी विकल्प हैं लोगों की ज़िन्दगी का विकल्प क्या होगा?

Related posts

2. वन अधिनियम में संशोधन .जंगलों को एकल कृषी भूमियों में बदल देने और उधोगों को सोंप देने के लिये .बेहद खतरनाक .

News Desk

दंतेवाड़ा पुलिस मेरी हत्या करना चाहती है : सोनी सोरी

Anuj Shrivastava

रायगढ भारी बारिश के कारण रेल लाइन बह गई.

News Desk