औद्योगिकीकरण मानव अधिकार

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता कंपनी की स्टरलाइट कॉपर यूनिट के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में कल 11 लोगों की मौत हो गयी , इस घटना को लेकर राष्ट्रीय मीडिया में एक अजीब सी चुप्पी देखी जा रही है

23 05.3018

गिरीश मालवीय 

क्योकि उलझी हुई इस पूरी कहानी के सिरे जब खुलना शुरू होंगे तो बड़े और नामचीन लोगो के चेहरे से नक़ाब सबसे पहले उतरना शुरू होंगे क्योंकि देश के जिस राज्य में भी अपार खनिज संपदा है वहाँ वहाँ एक तूतीकोरिन मौजूद है स्टरलाइट जैसी तमाम अपराध कथाओं से देश पटा पड़ा है लेकिन पूंजीवाद की गुलाम मीडिया यह कहानी सुनाना नही चाहती.

आपने अडानी का बहुत नाम सुना होगा अम्बानी का भी बहुत नाम सुना होगा लेकिन जितने बड़े ये ग्रुप हैं लगभग उतनी ही बड़ी एक कम्पनी है वेदांता रिसोर्सेज जिसके मालिक अनिल अग्रवाल है , वेदांता मूल रूप से विदेशी कंपनी ही है अनिल अग्रवाल की कंपनी वेदांता समूह कर्ज के मामले में भारत मे दूसरे नंबर पर आता है. वेदांता पर 1.03 लाख करोड़ रुपए का कर्ज हैं

विभिन्न देशों के कानून और पर्यावरण नियमों का बड़े पैमाने पर उल्लंघन करने में वेदांत रिसोर्सेज़ की एक अलग पहचान है आर्मेनिया में सोने की खदानों में , जाम्बिया की तांबे की खदानों में उसने जमकर अंतराष्ट्रीय पर्यावरण नीति का उल्लंघन किया है , खनिजों के खनन से लेकर धातु उत्पादन तक, वेदांता रिसोर्सेज का कारोबारी मॉडल धातु व खनन परितंत्र को पूरी तरह एकीकृत कर मुनाफा कमाने वाला उद्योग है जिसने भारत की हर बड़े छोटे राजनीतिक दल को साध रखा है इसलिए तो अटल बिहारी वाजपेयी की NDA की सरकार मुनाफे में चल रहा छत्तीसगढ़ का बाल्को संयंत्र बेहद सस्ते दाम में वेदांता को बेच देती है और UPA काल मे वित्तमंत्री रहे चिदम्बरम वेदांता रिसोर्सेज़ के निदेशक के तौर पर भारी-भरकम तनख्वाह लेते रहते हैं

जब 2001 में अनिल अग्रवाल ने बाल्को कारखाना खरीदा तो उन्होंने सैकड़ों एकड़ सरकारी भूमि पर कब्जा कर हजारों पेड़ कटवा दिये थे वेदांता ने बाल्को के कामगारों के साथ जितने भी करार किये थे प्रायः उनमें से किसी का भी पालन नहीं किया

छत्तीसगढ़ के कोरबा में गिरी जानलेवा चिमनी वाला कांड शायद अब किसी को याद होगा लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि 2009 में हुई इस दुर्घटना में आधिकारिक रूप से 41 मजदूरों की जान गयी थी इसे भी बाल्को हादसा कह कर बुलाया जाता रहा पर हकीकत में यह भी स्टरलाइट का ही एक उपक्रम था

अब यह समझने का प्रयास करते हैं कि तूतीकोरिन में 20 हजार लोगों की भीड़ आखिर किस बात का विरोध कर रही थी

भारत में भी वेदांत ने आज से बीस साल पहले तमिलनाडु के तूतीकोरिन में पर्यावरण सुरक्षा कानूनों को धता बताते हुए भारत के पहले ताँबे के एक विशाल स्मेल्टर का निर्माण किया था धातु गलाने वाले इस संयंत्र से 2013 में 23 मार्च के दिन सल्फर डाई ऑक्साइड का कथित रूप से रिसाव हुआ था और इसके कारण बड़ी संख्या में तूतीकोरिन के निवासी प्रभावित हुए थ इस गैस रिसाव के कारण तत्कालीन मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने इसे बंद करने का आदेश दिया था. इसके बाद कंपनी एनजीटी में चली गई.

उच्चतम न्यायालय ने स्टरलाइट इंडसट्रीज़ को तमिलनाडु के तूतीकोरिन स्थित तांबा गलाने के संयंत्र में पर्यावरण कानूनों की अनदेखी करने के लिए 100 करोड़ का जुर्माना भी लगाया था लेकिन न्यायालय ने कंपनी के तूतीकोरिन संयंत्र को बंद करने के मद्रास उच्च न्यायालय के साल 2010 में दिए गए आदेश को रद्द कर दिया मामला एनजीटी के पास चल रहा था
मोदीजी के राज में एनजीटी ने कारखाना वापस खोलने के आदेश दिए और इस आधार पर स्टरलाइट तूतीकोरिन में इस कारखाने का ओर अधिक विस्तार करने की योजना बना रही थी इसी का विरोध करने के लिए ज़िला कलेक्ट्रेट और संयंत्र तक क़रीब 20 हज़ार लोगों ने जुलूस निकाला. इनकी मंशा संयंत्र और कलेक्ट्रेट का घेराव करने की थी. ये लोग मांग कर रहे थे कि तांबा संयंत्र को स्थायी रूप से बंद किया जाए. इसी दौरान हिंसा हो गई ओर 11 लोग प्रशासन की कार्यवाही की चपेट में आ कर जान से हाथ धो बैठे

शुरू से ही इस प्लांट पर लगातार पर्यावरण नियमों की अनदेखी करने के आरोप लगते रहे हैं लेकिन सिर्फ तूतीकोरिन ही क्यो वेदांता के जितने भी प्रोजेक्ट है चाहे वह राजस्थान की खदानें हो चाहे उड़ीसा में बॉक्साइट की खदाने हो चाहे आप छत्तीसगढ़ की ही बात कर ले , हर जगह वेदांता रिसोर्सेज का नाम पर्यावरण नियमो के उल्लंघन मे सबसे पहले नम्बर में आता है, ओर राजनीतिक दलों को चन्दा देने में भी…….. पिछले महीने जो एफसीआरए में परिवर्तन कर भूतलक्षी प्रभाव से पार्टियों को चन्दा देने वालो के नाम छुपाए गए हैं उसमें भी अदालत ने 2014 में पाया कि कांग्रेस और भाजपा ने ब्रिटेन स्थित वेदांता रिसोर्सेज कंपनी से चंदा लेकर इस अधिनियम का उल्लंघन किया था

वेदांता रिसोर्सेज का यह मामला बताता हैं भारत मे क्रोनी केप्टिलिज़्म पर्यावरण ओर लोगों की जान से कितनी आसानी से खेलता है.

***

Related posts

A Call to Churches to be Committed to a Campaign To DEFEND democracy & PRACTICE Non-violence (REMEMBERING AMBEDKAR & GANDHI) 26th to 30th January,

News Desk

छत्तीसगढ़ में नहीं मिल रही [मैटरनिटी लीव] प्रसूति अवकाश  ,गैसरकारी संस्थाओ और संविदा नियुक्ति में निर्देश के बाद भी लागु नहीं हुआ आदेश .

News Desk

IMPORTANT UPDATE / Medha Patkar arrested again on her way to Badwani

News Desk