आंदोलन दलित महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजकीय हिंसा

ढोढापुर_मूँगेली_गैंगरेप की घटना के खिलाफ मुंगेली में समाज के प्रदेश भर से युवाओं ने हजारों की संख्या में भाग लिया।

 

मुंगेली / 23.01.2018

विजयशंकर पात्रे की रिपोर्ट 

ढोढापुर_मूँगेली_गैंगरेप की घटना को लेकर 22/1/2018 को मूँगेली में समाज के प्रदेश भर से युवाओं ने हजारों की संख्या में भाग लिया।

पिछले महीने 27 दिसंम्बर को ढोढापुर की एक महिला के साथ उसी गाँव के एक परिवार के तीन लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया।
जिसकी रिपोर्ट पुलिस नहीं लिख रही थी और आरोपियों को बचाने का प्रयास कर रही थी।
पीड़िता और उसके परिवार को थानेदार के द्वारा जातिगत गालियाँ देकर यह कह कर भगा दिया गया था कि जहाँ जाना है जाओ मैं रिपोर्ट नहीं लिखूँगा। इसके बाद पीड़िता एसपी कार्यालय गयी तो एसपी मैडम की अनुपस्थिति में डीएसपी मैडम ने पीड़िता से जानकारी लेकर थानेदार को रिपोर्ट लिखने के लिए कहा और पीड़िता को वापस पथरिया थाने भेज दी और उनके साथ एक महिला एएसआई को भी भेजी।
जो पृथक रूप से पथरिया पहुँची।
पीड़िता ने जब फ़िर रिपोर्ट लिखाने को बोली तो थानेदार ने कहा कि सिर्फ एक के नाम पर रिपोर्ट लिखूँगा,तुम्हारे हिसाब से थोड़ी लिखूँगा और जातिगत गालियाँ भी दिया तथा पीड़िता के सामने ही थानेदार ने आरोपी से 50हज़ार की रिश्वत भी लिया।
थानेदार के सुर में सुर मिलाते हुए महिला पुलिस कर्मी ने भी पीड़िता को जातिगत गालियाँ दी और कहा कि तुम्हारे हिसाब से रिपोर्ट नहीं लिखी जाएगी।
इस तरह ये दोनों पुलिस कर्मी भी दोषी हुए।
और वो महिलाएं भी जिन्होंने आरोपियों के साथ मिलकर पीड़िता के साथ अमानवीय व्यवहार और हिंसा किया।
22/1/2018 के कार्यक्रम से ठीक 2 दिन पहले पुलिस तीन आरोपी को गिरफ़्तार करी और कहा कि कार्यवाही पूरी हो गयी है।
इससे समाज संतुष्ट नहीं हुआ और दोनों पुलिस कर्मी को बर्खास्त कर सभी आरोपियों के ख़िलाफ़ एट्रोसिटी के तहत कार्यवाही करने की माँग लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौपा।
और यह भी कहा गया कि अगर इस पर जल्द
कार्यवाही नहीं कि जाएगी तो प्रदेशव्यापी आंदोलन के लिए समाज मज़बूर होगा।

***

 

Related posts

रायपुर : अंतर्रष्ट्रिय मेहनतकश महिला दिवस का हुआ आयोजन

News Desk

सोमनी / बिसाहिन की जमीन चली गई पावर प्लांट में , न मिला मुआवज़ा और न बेटे को नोकरी ,यूनियन ने कहा हम लड़ेंगे हक़ की लड़ाई .

News Desk

छत्तीसगढ़ सरकार ने लोकतांत्रिक आंदोलन का दमन कर अघोषित आपातकाल लगाया, सर्वत्र भय का वातावरण , शिक्षाकर्मियों व किसानों का आंदोलन कुचला-डॉ संकेत ठाकुर,प्रदेश संयोजक,आप।

News Desk