दलित महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार विज्ञान

ढोढापुर गैंगरेप की पीड़िता ने किया अपना दर्द बयान : 22 जनवरी को मुंगेली में

विजयशंकर पात्रे की पोस्ट 

  • क्या छत्तीसगढ़ में संविधान और कानून नाम की कोई चीज़ है..??
    एक अनुसूचित जाति की महिला के साथ
    अत्याचार होता है..पुलिस और सत्ताधारी भाजपा नेता लखन साहू और धरमलाल कौशिक अपराधियो को संरक्षण प्रदान करते है और पीड़िता का दमन करते है..
    थाना प्रभारी गौतम 50 हज़ार का रिश्वत लेकर अपराधियों को गिरफ़्तार नही करता है.
    डीएसपी के द्वारा भेजी गई महिला पुलिस भी पीड़िता को जातिगत गालियाँ देते हुए प्रताणित करती है और कहती है कि उसके हिसाब से रिपोर्ट नहीं लिखी जाएगी..

पूरी ख़बर के लिए लिंक में जाकर पूरा वीडियो देखें और चैनल को सब्सक्राइब करना नहीं भूले क्यूँ कि यही हमारी आवाज़ है..

22/1/2018
को दोपहर 12 बजे मूँगेली अवश्य पहुँचे
जय भीम..जय सतनाम

Related posts

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने हिदायतुल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के छात्रों के आंदोलन का किया समर्थन.

News Desk

डीजीपी को एनएचआरसी का नोटिस सुकमा के चिंतागुफा

cgbasketwp

मजदूर दिवस: मजदूरों की बातें कर लीं? अब उनकी मांगें भी जान लीजिए

News Desk