आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन

जिंदल के अड़ियल रवैया से परेशान कोसमपाली के ग्रामीणों ने किया अनिश्चितकालीन हड़ताल

रायगढ़ । जिला के जिंदल से लगे समीपस्थ ग्राम कोसमपाली के सैकड़ों ग्रामीणों ने आज एक बार फिर जिंदल के वादाखिलाफी के चलते अनिश्चितकालीन हड़ताल कर दी है ग्रामीणों का मानना है जिंदल पावर प्लांट के द्वारा फ्लाईएस डस्ट की ऊंचाई हर वर्ष बढ़ोतरी की जा रही है जिसके चलते उड़कर सीधा वह कोसम पाली ही नहीं वरन पूरे क्षेत्र में प्रदूषण का कारण बन रही है जिससे पूरे क्षेत्र में स्किन की बीमारी को न्योता दे रही है तथा ओवर ब्रिज रोड को सीधा करने से रोड में भारी वाहनों का आवागमन बढ़ गई जिससे ग्राम वासियों को निस्तारि तालाब आने जाने वालों को तथा बच्चों को स्कूल जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है तथा भविष्य में दुर्घटना होने की पूर्ण संभावना है तथा सरकार के नियमों को ठेंगा दिखाते हुए ग्राम पंचायत कोसमपाली में प्रधानमंत्री सड़क योजना रोड में जिंदल के भारी वाहन धड़ल्ले से चलते हैं और जिंदल के द्वारा सीमेंट प्लांट तक पहुंच मार्ग जो कि ओवरब्रिज से बनाई गई है .

जिसमें पानी निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है जिससे गांव में आए दिन महामारी की समस्या से जूझते रहते हैं और सबसे बड़ी समस्या जो कि ग्राम कोसमपाली जिंदल के द्वारा लिया गया गोद ग्राम है जो कि यहां पूरा जमीन निजी तथा शासकीय को अधिग्रहित कर लिया है जिसके कारण यहां के ग्राम वासियों के पास आय का और साधन नहीं है और ग्रामवासी बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहे हैं तो इन्हें रोजगार मुहैया कराया जाए अनिश्चितकालीन हड़ताल में कोसम पाली ग्राम के गोटिया विकास दर्शन, पंकज पटेल (पार्षद), महेंद्र महंत (उपसरपंच), बलवंत चौहान( कांग्रेसी युवा नेता), लक्ष्मी नारायण पटेल( वरिष्ठ कांग्रेसी नेता), चंद्रजीत सिदार, भूपेंद्र, कौशिक, उसत, आनंद यादव, शत्रुघन, सूरज, कमलेश, रजत, शिवधर, विष्णु यादव, तथा सैकड़ों की संख्या में गांव वाले उपस्थित हैं और गांव वालों का कहना है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती वह हड़ताल जारी रखेंगे

Related posts

JNU हमले के खिलाफ वर्धा विश्वविद्यालय के छात्रों ने निकाला प्रतिरोध मार्च

Anuj Shrivastava

Prof Saibaba’s Crime and Punishment ःः prabhakar sinha

News Desk

बोधघाट में बांध की ऊंचाई घटाने की तैयारी :सरकार को सौंपी गई परियोजना की रिपोर्ट,अब 42 की जगह 28 गांव होंगे प्रभावित.

News Desk