अभिव्यक्ति मानव अधिकार राजकीय हिंसा शिक्षा-स्वास्थय हिंसा

जामिया के छत्रों को पीटती पुलिस का वीडियो आया सामने

jamia video
jamia video

बीते 15 दिसंबर को दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया (यूनिवर्सिटी) में घुसकर पुलिस ने वहां के छत्रों को बेरहमी से पीटा था।

यूनिवर्सिटी के मौजूदा और पूर्व छात्रों के ग्रुप जामिया कोऑर्डिनेशन कमेटी (JCC) ने शनिवार 15 फरवरी को एक सीसीटीवी फुटेज जारी किया. दावा किया गया है कि ये फुटेज 15 दिसंबर, 2019 का है, जब दिल्ली पुलिस CAA-NRC के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हिंसक होने के बाद जामिया के कैंपस में घुसी थी.

https://twitter.com/i/status/1228772837583753216

जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने इस वीडियो पर कहा है कि सीसीटीवी फुटेज में साफ झलक रहा है कि पुलिस बल राज्य प्रायोजित हिंसा को अंजाम दे रही है. जामिया के छात्र अपने एग्जाम की तैयारी रीडिंग हॉल में कर रहे थे तभी पुलिस ने उन पर बर्बरता की. वहीं इस वीडियो पर दिल्ली पुलिस ने कहा है कि इस वीडियो में कुछ नकाबपोश लोग भी दिख रहे हैं.

आपको बता दें कि घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि उसके जवान लाइब्रेरी में नहीं घुसे थे और उन्होंने वहां कोई मारपीट नहीं की थी. लेकिन इस वीडियो में साफ़-साफ़ दिख रहा है कि पुलिस के जवान चेहरे पर नक़ाब लगाकर लाइब्रेरी में घुसे और वहां पढ़ाई कर रहे छात्रों पर ताबड़तोड़ लाठियां बरसा रहे हैं. 

जामिया कोऑर्डिनेशन कमेटी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, “सीसीटीवी फुटेज में पुलिस बलों की क्रूर हरकत दिख रही है और राज्य प्रायोजित आतंकवादी कैसे जामिया के छात्रों पर बर्बरता का खेल खेल रहे हैं, जो ओल्ड रीडिंग हॉल के अंदर अपनी परीक्षा की तैयारी कर रहे थे.”. 

Related posts

राहुल गांधी ने अपने स्तीफे उठाये गंभीर और भविष्य के संघर्षों के मुद्दे .राजनैतिक ,संवेदनशील और सारगर्भित पत्र.

News Desk

नहीं थम रहा किसानो की आत्महत्या का सिलसिला ;एक और किसान ने दी अपनी जान

News Desk

कांकेर : ताड़बेली गांव के दो लोगों को नक्सली बताकर जेल भेजने का आरोप,केम्प बुलाकर किया जा रहा हैं प्रताड़ित .

News Desk