छत्तीसगढ़ महिला सम्बन्धी मुद्दे राजकीय हिंसा रायपुर

जांजगीर के पूर्व कलेक्टर जेपी पाठक पर रेप का मामला दर्ज, अपने चेंबर में किया बलात्कार

जांजगीर जिले के पूर्व कलेक्टर जेपी पाठक के ख़िलाफ़ कल देर रात एक 33 वर्षीय महिला की शिकायत पर पुलिस ने बलात्कार करने के आरोप में FIR दर्ज की है.

पीड़ित महिला का कहना है कि IAS जनक प्रसाद पाठक ने बीती 15 मई को अपने चेंबर में बुलाकर उसका रेप किया. पाठक महिला को अश्लील मैसेज और वीडियोज़ भेजते थे. पाठक ने NGO का काम दिलाने के नाम पर महिला के साथ कई बार बलात्कार किया.

महिला ने अपने साथ हुए इस हादसे की लिखित शिकायत जिले की एसपी पारुल माथुर से की है. कलेक्टर द्वारा भेजे गए अश्लील मैसेजेज़ और चैट्स के स्क्रीन शॉट, कॉल रिकॉर्डिंग, वीडियोज़ भी महिला ने उन्हें सौंपे हैं. कल देर रात तक जिले में गह्माह्मी चलती रही और रात में पाठक के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई. पाठक 2007 बैच के आईएएस हैं.

पीड़ित महिला NGO संचालिका हैं उनके पति शिक्षाकर्मी की सरकारी नौकरी में है. कलेक्टर पाठक महिला के पति को नौक्रिसे निकलवा देने की धमकी देते थे. बलात्कार करने के बाद पाठक महिला को लगातार प्रताड़ित करते रहे थे. महिला को डराकर वो उसे किसीको कुछ न बताने की धमकी देते थे. महिला का आरोप है कि पाठक ने कलेक्त्यर कार्यालय के विश्रामगृह में भी उसके साथ ज़बरदस्ती की थी इस बात के पुख्ता सबूत होने के कारण ही आनन् फानन में पाठक का तबादला कर उन्हें रायपुर भेज दिया गया था.

छत्तीसगढ़ के और भी कलेक्टर रहे हैं बलात्कार के आरोपी

छत्तीसगढ़ के कलेक्टरों पर पहले भी बलात्कार के मामले दर्ज हुए हैं पर कलेक्टर को सज़ा कहां होती है. न्यूज़ पोर्टल NPG ने इस बारे में विस्तार से खबर प्रकाशित की है. NPG की खबर के अनुसार साल 2002 में जब प्रदेश में अजीत जोगी की सरकार थी तब जशपुर जिले के कलेक्टर एमआर सारथी पर आदिवासी क्षत्रावास की अधीक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया था. जोगी खुद एक आईएएस रह चुके थे. उनके समय आईएएस लॉबी की सरकार में खासी दख़ल थी. लिहाजा सभी, बलात्कार के आरोपी कलेक्टर को बचाने में लग गए. उलटे अपनी जाँच में कलेक्टर के दोषी होने की रिपोर्ट देने वाले DIG W.M. Ansari को ही जाँच करने का खामियाज़ा भुगतना पड़ा था.

जशपुर की निचली अदालत ने सारथी को दोषी ठहराते हुए सात साल की सजा सुनाई. सारथी ने इसे हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी. लेकिन, दोनों अदालतों ने निचली अदालत की सजा बरकरार रखी. आखिकार, सारथी को रायपुर जेल जाना पड़ा. जेल के दौरान ही बीमारी से उनकी मौत हो गई.
इससे पहले अविभाजित मध्यप्रदेश में 1998 में बिलासपुर के अपर कलेक्टर विनोद काटेला पर उनकी नौकरानी ने रेप करने का आरोप लगाया था. बाद में काटेला का जबलपुर ट्रांसफर हो गया था.

Related posts

अरनपुर में सुरक्षाबलो ने फिर किया हमला , खेत में फसल की रक्षा करते तीन लोगो को पकड़ ले गई दो को छोड़ा .एक गिरफ्तार. **

cgbasketwp

प्रोबेशनर आईपीएस उदय किरण के खिलाफ प्रेस क्लब बिलासपुर का आज धरना

News Desk

बिलासपुर: महिला थाना में फिजिकल डिस्टेंसिग की उड़ाई जा रहीं धज्जियां

News Desk