अदालत आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजकीय हिंसा राजनीति शासकीय दमन

ज़ख़्म – नज़्म गौहर रज़ा .

ज़ख़्म

जिस्म पर ज़ख़्म हैं,
आँखों में लहू उतरा है,
आज तो रूह भी लरज़ां है मेरी,
ज़हन पत्थर की तरह,
सख़्त-ओ-बेजान सा, मफ़लूज सा,
बेहिस, बेकार
इस में चीख़ों के सिवा
कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं, कुछ भी नहीं

मुझ से मत पूछो मेरा नाम तो बेहतर होगा
मैं वही हूँ के जिसे
सारी बदमस्त बहारों को परखना था अभी
मैं वही हूँ के जिसे
फूल सा खिलना , महकना था अभी
झूमते गाते हुए झरनों की धुनों को सुन कर
मेरे पैरों को थिरकना था अभी
दरसगाहों की खुली बाहों में जाना था मुझे
और एक शोले की मानिंद , धधकना था मुझे

मैं वही हूँ जिसे
मंदिर की हदों के अंदर
तुम ने जूतों के तले रौंद दिया
मैं वही हूँ के जिसे
सारे भगवान खड़े,
चुप की तस्वीर बने
तकते रहे, तकते रहे, तकते रहे
और मेरे जिस्म का हर क़तरा-ए-ख़ून
थपकियाँ दे के सुलाने का जतन करता रहा
मुझ को समझाता रहा
मौत के पार हर एक ज़ुल्म सिमट जाएगा
तब कोई हाथ तुझे छू भी नहीं पाएगा

मैं वही हूँ जो दरिंदों के घने जंगल में
बैन करती रही इंसाफ़ के दरवाज़े पर
मुझ को मालूम नहीं था के तुम्हें
बाप का साया भी सर पर मेरे मंज़ूर नहीं

जिस्म पर ज़ख़्म हैं, गहरे हैं
बहुत गहरे हैं
मुझ से मत पूछो मेरा नाम तो बेहतर होगा

मादर-ए-हिंद हूँ मैं

वो जो ख़ामोश हैं शामिल हैं ज़िना में मेरी

 

गौहर रज़ा
15.04.2018
Kolkata

Related posts

Covid-19 : बिलासपुर रेलवे स्टेशन में मजदूरों की भूपेश बघेल को खरीखोटी, देखिए Cgbasket की वीडियो रिपोर्ट

News Desk

सामाजिक बहिष्कार, युवक ने खुदकुशी की. : जांजगीर चांपा जिले की घटना.

News Desk

मणिपुर में  कथित  1528 फर्जी मुठभेड़ में से 62 की जाँच सीबीआई करें  ; सुप्रीम कोर्ट का आदेश

News Desk