अदालत आदिवासी राजकीय हिंसा राजनीति शासकीय दमन

जशपुर ,बटुंगा .: पत्थल गढ़ी तोड़ने वालों पर कार्यवाही के लिये पहुचे ग्रामीण छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट .: नोटिस जारी .

बिलासपुर / 13.07.2018

जशपुर के बटुंगा गांव मे अप्रेल माह में भजपा समर्थकों ने आदिवासियों की पंरपरागत पथल गढ़ी को तोड़ दिया था और पुलिस ने हमला करने और तोडने वालों की वज़ाय पीड़ित ग्रामीणों के खिलाफ ही रिपोर्ट दर्ज कर ली और कुछ लोगों को गिरफ़्तार भी कर लिया .

ग्रामीण ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की हैं कि जिन लोगों ने पत्थल गढ़ी को तोड़ा ,गाँव का माहौल खराब किया और मारपीट किया उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाये और उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाये .सरकारी जमीन पर पत्थल गढ़ी गढ़ने के खिलाफ शासन द्वारा दिया गया नोटिस भी वापस करने की भी बात कही .
ग्रामीणों की तरफ से एडवोकेट आशीष बेक  ,
ग्रसुधा भारद्वाज ,महेंद्र दुबे शिशिर दीक्षित ,और प्रीति कुजूर हैं .पैरवी कर रहे है .

अदालत मे तोडफोड़ करते हुये आरोपियों का वीडियो भी दिखाया गया .

पिछले 28 अप्रेल को जशपुर के बटुंगा गांव मे भाजपा नेताओं ने सदभावना यात्रा की आड में कलिया गांव मे एकत्रित होकर दो किलोमीटर दूर गांव बटुंगा गांव में पत्थल गढी को अपने साथ लाये औजारों हथौड़ा , सब्बल से जय श्री राम भारत माता की जय और वन्दे मातरम के नारों के साथ उसे ध्वस्त कर दिया .और स्थानीय गामीणो के साथ मारपीट भी किया , ग्रामीणों ने इसका विरोध किया लेकिन उनकी नही सुनी गई . इस बीच बारिश होने लगी और सदभावना यात्रा के साथ चल रहा पुलिस बल वहीं जंगल मे फंस गया .इस बीच लोगों ने पुलिस को बंधक बनाने की अफवाह उडा़ दिया .
ग्रामीणों ने याचिका में कहा है कि पत्थल गढ़ी ढहाने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाये और शासन द्वारा दिये गए नोटिस वापस लिये जायें.
**

Related posts

CJP की पहल पर मुंबई पहुंचे असम के NRC पीड़ित, बताई आपबीती

Anuj Shrivastava

आरोपी और जमानतदार दोनों के लिये आधार कार्ड अनिवार्य : छतीसगढ़ हाईकोर्ट के आदेश को  सुप्रीम कोर्ट में चुनौती .

News Desk

बस्तर : मंडप और दूल्हा एक, दुल्हन दो ,हल्ला समाज के पारंपरिक रीति रिवाजों में सहमति से हुई शादी .

News Desk