कला साहित्य एवं संस्कृति

जलेस का राज्य सम्मलेन 10 नवम्बर को बिलासपुर में

बिलासपुर. कश्यप कॉम्पेक्स में दिनांक 2 अक्टूबर 2019 को जनवादी लेखक संघ की बैठक हुई. चर्चा का मुख्या विषय था बिलासपुर इकाई के तत्वाधान में 10 नवम्बर 2019 को जनवादी लेखक संघ का राज्य स्तरीय सम्मलेन कराना.

सर्वप्रथम बैठक की अध्यक्षता हेतु कार्यक्रम के संचालक शाकिर अली ने छत्तीसगढ़ राज्य जलेस के अध्यक्ष कपूर वासनिक का नाम अध्यक्षता हेतु प्रस्तावित किया, जिसका समर्थन नासिर अहमद सिकन्दर ने किया.

कार्यक्रम की शुरुआत में स्वर्गीय साथियों लाखन सिंह एवं त्रिजुगी कौशिक को श्रद्धांजलि दी गई. त्रिजुगी कौशिक की कविता की संक्षिप्त चर्चा करते हुए उनके योगदान को याद किया गया. लाखन सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए नन्द कश्यप ने एक मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में समाज के लिए उनके योगदान के बारे में बताया, उनसे जुड़ी घटनाओं, छत्तीसगढ़ के सामाजिक आंदोलनों में उनकी भागिदारी आदि की चर्चा हुई. साथ ही जलेस राज्य संगठन के उपाध्यक्ष कुंवर रवीन्द्र की पत्नी के आकास्मिक्निधन पर उन्हें शोकांजलि दी गई. दो मिनट का मौन रखकरदिवंगत साथियों को श्रद्धांजलि दी गई.

बैठक में जलेस के राज्यस्तरीय सम्मलेन की तैयारियों पर चर्चा हुई. तय हुआ कि 10 नवम्बर 2019 को मोतीलाल पेट्रोलपम्प के सामने स्थित नारायण प्लाज़ा में राज्य सम्मलेन आयोजित किया जाएगा. शहर के बाहर से आ रहे सदस्यों के लिए ठहरने की व्यवस्था की जाएगी. 300/- प्रतिनिधि शुल्क रखा जाएगा. प्रख्यात हिन्दी साहित्यकार शानी की याद में शानी व्याख्यान माला का आयोजन किया जाएगा व उनकी याद में किसी एक कथाकार को सम्मानित किए जाने का प्रस्ताव पारित किया गया.

राज्य सम्मलेन के अध्यक्ष       प्रख्यात उर्दू साहित्यकार हयात
उपाध्यक्ष       सविता प्रथमेश, सी.के.खांडे, महेश श्रीवास, नन्द कश्यप
प्रचार सचिव     शाकिर अली, प्रतीक वासनिक
संयुक्त सचिव   प्रियंका शुक्ल, रौशनी बंजारे, अनुज श्रीवास्तव, असीम तिवारी  

अंत में अध्यक्षीय भाषण नासिर अहमद ने दिया व धन्यवाद ज्ञापन शाकिर अली ने किया.

कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ जलेस अध्यक्ष कपूर वासनिक, महासचिव नासिर अहमद सिकन्दर, नन्द कश्यप, शाकिर अली, महेश श्रीवास, सविता प्रथमेश, अधिवक्ता प्रियंका शुक्ल, रौशनी बंजारे, धर्मेन्द्र कुमार, खुर्शीद हयात, असीम तिवारी, अनुज श्रीवास्तव, सीके खांडे आदि लोग शामिल थे.

Related posts

बस्तर का सर्वाधिक बुरा दौर -दिवाकर मुक्तिबोध सीजी खबर

cgbasketwp

मोर्चे पर कवि – मुंबई अपनी तीसरी सालगिरह पर जा पहुंचा है, छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर…आज शाम

News Desk

एक पुरातत्ववेत्ता की डायरी

Anuj Shrivastava