औद्योगिकीकरण किसान आंदोलन

जलाशयों के पानी पर पहला हक़ उधोगों का ,धान की फसल लेने वाले किसान जायेंगे जेल .  उधोगों से बचा तो पेयजल के लिये रिजर्व  .कमिश्नर बिलासपुर ने ली बैठक .

25.11.2017

गर्मी के मौसम मे धान की फसल लेने वाले किसानों को राज्य शासन ने उनकी जगह दिखा दी गई है .शुक्रवार को जल समिति की बैठक मैं बिलासपुर के कमिश्नर टीएस महावर ने शासन के आदेशों का हवाला देते हुये कहा की जलाशयों का पानी सबसे. पहले उधोगों को दिया जाये .मनाही के बाबजूद भी यदि किसान धान के लिये पानी लेते है ,तो उनके खिलाफ कानूनी कार्य वाही की जायेगी .

जिले मे इस साल पहले की तुलना मैं कम वारिश हुई है ,अतः चिंता है कि उधोगों को पानी कम न पड जाये .आज की मीटिंग मैं पूरे समय यही चिंता बनी रही कि उधोगों को पानी कम तो नही पडेगा ,किस जलाशय मैं कितना पानी है इसका आंकलन किया जाता रहा .
आदेश मैं यह भी कहा गया कि उधोगों को पानी देने के बाद पेय जल आपूर्ति के लिये रिजर्व वाटर रखा जायेगा .रिजर्व वाटर के बाद भी यदि पानी बचता है तो दलहन के लिये पानी देने पर विचार किया जायेगा .

***

Related posts

पुण्यतिथि पर अनुपम भाई की याद :उनकी कोशिश से सूखाग्रस्त अलवर में जल संरक्षण का काम शुरू हुआ जिसे दुनिया ने देखा और सराहा। सूख चुकी अरवरी नदी के पुनर्जीवन में उनकी कोशिश काबिले तारीफ रही है / गोपाल राठी के संस्मरण

News Desk

सुकमा मुख्यालय के पास तक नहीं मिल रहा है शुद्ध पानी . आयरन युक्ति पानी पीने को मजबूर .

News Desk

कांकेर : मजदूर-किसान-आदिवासीयों की समस्याओं के लिये किसान सभा ने किया प्रदर्शन .कलेक्टर ने आमंत्रित किया चर्चा के लिये .

News Desk