कला साहित्य एवं संस्कृति मजदूर राजकीय हिंसा

जब फासिस्ट मजबूत हो रहे थे.: बर्टोल्ट ब्रेख्त

प्रस्तुति सीमा आज़ाद

जब फासिस्ट मजबूत हो रहे थे.:
बर्टोल्ट ब्रेख्त

जर्मनी में
जब फासिस्ट मजबूत हो रहे थे
और यहां तक कि
मजदूर भी
बड़ी तादाद में
उनके साथ जा रहे थे
हमने सोचा
हमारे संघर्ष का तरीका गलत था
और हमारी पूरी बर्लिन में
लाल बर्लिन में
नाजी इतराते फिरते थे
चार-पांच की टुकड़ी में
हमारे साथियों की हत्या करते हुए
पर मृतकों में उनके लोग भी थे
और हमारे भी
इसलिए हमने कहा
पार्टी में साथियों से कहा
वे हमारे लोगों की जब हत्या कर रहे हैं
क्या हम इंतजार करते रहेंगे
हमारे साथ मिल कर संघर्ष करो
इस फासिस्ट विरोधी मोरचे में
हमें यही जवाब मिला
हम तो आपके साथ मिल कर लड़ते
पर हमारे नेता कहते हैं
इनके आतंक का जवाब लाल आतंक नहीं है
हर दिन
हमने कहा
हमारे अखबार हमें सावधान करते हैं
आतंकवाद की व्यक्तिगत कार्रवाइयों से
पर साथ-साथ यह भी कहते हैं
मोरचा बना कर ही
हम जीत सकते हैं
कामरेड, अपने दिमाग में यह बैठा लो
यह छोटा दुश्मन
जिसे साल दर साल
काम में लाया गया है
संघर्ष से तुम्हें बिलकुल अलग कर देने में
जल्दी ही उदरस्थ कर लेगा नाजियों को
फैक्टरियों और खैरातों की लाइन में
हमने देखा है मजदूरों को
जो लड़ने के लिए तैयार हैं
बर्लिन के पूर्वी जिले में
सोशल डेमोक्रेट जो अपने को लाल मोरचा कहते हैं
जो फासिस्ट विरोधी आंदोलन का बैज लगाते हैं
लड़ने के लिए तैयार रहते हैं
और शराबखाने की रातें बदले में मुंजार रहती हैं
और तब कोई नाजी गलियों में चलने की हिम्मत नहीं कर सकता
क्योंकि गलियां हमारी हैं
भले ही घर उनके हों

अंग्रेज़ी से अनुवाद : रामकृष्ण पांडेय
कविता कोश से साभार

Related posts

बाबरी मस्जिद के विध्वंस व डाॅ. अंबेडकर की पुण्यतिथि के अवसर पर : 6 दिसंबर को पटना में वाम दलों का संयुक्त सम्मेलन .

News Desk

” जन अधिकारों को कुचलने के सभी प्रयास सरकार बंद करे एवं जन समुदायों के पारंपरागत अधिकारों की रक्षा एवं सम्मान करे”आदिवासियों पर बढ़ते अत्याचार के खिलाफ तीन दिवसीय सम्मेलन शुरू.: छतीसगढ़

News Desk

शहीद शंकरगुहा नियोगी शहादत दिवस 28 सितंबर ,भिलाई और दल्लीराजहरा में रैली और सभा.

News Desk