औद्योगिकीकरण पर्यावरण

जनहित याचिका: जंजीरों से जकड़ने और फरार होने पर वन विभाग से मांगी कोर्ट ने जानकारी .

बिलासपुर . गणेश नामक हाथी को जंजीरों में जकड़ने और बंधन से फरार होने पर हाईकोर्ट में जनहित याचिका लगाई गई है । सीजे पीआर रामचंद्र मेनन व जस्टिस पीपी साहू की युगलपीठ ने गुरुवार को मामले की सुनवाई के बाद वन विभाग को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है ।

रायपुर के नितिन सिंघवी ने जनहित याचिका दायर कर बताया है कि गणेश नामक हाथी को वन विभाग द्वारा 23 जुलाई को पकड़ा गया था , जो 24 जुलाई को बंधन तोड़कर फरार हो गया । पांव में बेड़ियां होने के कारण वो तकलीफ में है , इस संबंध में दिशा निर्देश जारी किए जाएं ।

याचिका में ये भी कहा गया है कि प्रदेश के मुख्य वन संरक्षक ( वन्य प्राणी ) ने गणेश हाथी को पकड़कर सूरजपुर जिले के रमकोला के तमोर स्थित एलीफैंट रेसक्यू रिहैबिलिटेशन सेंटर में रखने का आदेश दिया है । जबकि हाथी रहवास क्षेत्र वाले वन में उसके पुनर्वास का पहले प्रयत्न किया जाना वन्य जीव संरक्षण नियम 1972 के तहत अनिवार्य है । ऐसा नहीं कर वन विभाग द्वारा उसे सीधे बंधक बनाया गया है , जो कानून का सीधा उल्लंघन है । साथ ही सूरजपुर जिले का तमोर स्थित एलीफैंट रेसक्यू सेंटर अवैध रूप से संचालित किया जा रहा , जिसे केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण से संचालन की अनुमति नहीं है जबकि वन्य अधिनियम के तहत रेसक्यू सेंटर के संचालन के लिए जू अथारिटी की अनुमति आवश्यक है । याचिका में पूर्व में सोनू हाथी के बंधक बनाने और कोर्ट के आदेश के 4 वर्षों बाद भी उसके पुनर्वास की व्यवस्था नहीं किए जाने की जानकारी भी दी गई है ।

युगलपीठ ने मामले की सुनवाई के बाद वन विभाग को दो सप्ताह में जवाब देने को कहा है ।

पत्रिका न्यूज

Related posts

किरंदूल : एन एम डी सी ने कहा कि स्वामित्व हमारे पास ही हैं ,नहीँ दिया गया किसी को .मालिक हम लेकिन खोदेंगे अदानी कंपनी .

News Desk

Reshaping the Adivasi Struggle for Land Rights in Raigarh: dispossession without consent is a crime.

News Desk

छत्तीसगढ़ : चुनाव पूर्व मोदी सरकार अदानी की सभी खनन परियोजनाओ को मंजूरी देने में लगी हैं l राज्य का वन विभाग भी लगा हैं वनों के विनाश में .

News Desk