औद्योगिकीकरण जल जंगल ज़मीन

जनसंगठनों के प्रतिनिधि पहुचे किरंदूल , बस्तर बचेगा तो छत्तीसगढ़ और देश बचेगा.

आज किरंदुल में पहाड़ बचाने के आंदोलन में छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन सहित अनेक संगठनों के साथी शामिल हुए जिनमें आदिवासी नेता सोनी सोरी , छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला ,किसान नेता सुदेश टीकक्ष ,सामाजिक कार्यकर्ता अनुभव शौरघ ,पत्रकार तामेश्वर सिन्हा तथा अन्म प्रतिनिधि शामिल थे.

उन्होंने चोर दरवाजे से फर्जी ग्राम सभा के द्वारा अडानी को खदान खोदने की अनुमति देने के रमनसिंह सरकार के फैसले का तमाम आदिवासियों और जनसंगठनों के विरोध आंदोलन को अपना समर्थन दिया। अच्छी बात यह है कि आज ही छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने अडानी के खनन अनुमति को रद्द करने की घोषणा किया है।यह हजारों की संख्या में आंदोलन आदिवासियों की जीत है

Related posts

जुनवानी के किसानों ने की पानी सडक और फसलबीमा की माँग, सौंपा ज्ञापन तहसीलदार को .: जन मुक्ति मोर्चा

News Desk

इंद्रावती नदी को बचाने प्राधिकरण .युवाओं के लिये स्थानीय बोर्ड . बस्तर विकास प्राधिकरण की बैठक में सीएम की घोषणा .

News Desk

Around 16000 people migrated to state of Andhra Pradesh after 2005 when violence increased in State-Maoist conflict in state of Chhattisgarh.

News Desk