मानव अधिकार वंचित समूह

जगदलपुर केंद्रीय जेल में खुलेगा दाल-भात केंद्र.

जगदलपुर केंद्र जेल में बस्तर संभाग के 7 जिलों से व कुछ अन्य जिलों के भी कुल तकरीबन 3,500 बन्दी हैं। बंदियों के परिजन जो उन से मुलाकात करने आते हैं दूर दराज के गांवों से आते हैं। साधन के खर्चे के ऊपर जगदलपुर शहर की महंगाई को सहना कठिन हो जाता है। बस में लम्बा सफर, बस स्टैंड से जेल, जेल से कोर्ट, कोर्ट से फिर बस स्टैंड की दूरियां उनको अक्सर खाली पेट करनी पड़ती है।

आज बस्तर जिला कलेक्टर श्री तम्बोली से सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया ने प्रस्ताव रखा कि झारखंड में चल रहे दाल-भात सेन्टर (जहां भोजन 5 रूपयों में मिलता है) जेसे यहां भी खुलना चाहिए। उन्होंने इस प्रस्ताव को स्वीकृति दी है और कहा है कि ऐसा एक सेन्टर जेल बाड़ी (campus) में बनाएंगे।

बेला भाटिया ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ की सभी जेलों के बाहर दाल भात केन्द्र प्रारंभ करना चाहिए .हर जेल में कैदियों के परिजन हजारों की संख्या में प्रतिदिन आते है और कभी कभी दिन दिन भर उन्हें इंतजार करना पडता हैं और आपपास कोई खाने पीने का इंतजाम नहीं होता .

**

**

Related posts

हिरेली की मुठभेड़ फर्जी ,गुड्डी को दौड़ा दौड़ा कर मारा पुलिस ने.पुलिस ने जारी की दर्ज मामलों की सूची .

News Desk

स्त्री सशक्तिकरण और डाॅ. बी.आर. अंबेडकर के विचार व सामाजिक बेड़ियां व कानूनी अधिकार -संगोष्ठी

News Desk

ग्रामीणों ने किया अम्बिका कोल ब्लॉक जनसुनवाई का विरोध, कहा नही चाहिए कोयला खदान

Anuj Shrivastava