आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति किसान आंदोलन जल जंगल ज़मीन नक्सल पर्यावरण मानव अधिकार राजनीति शासकीय दमन शिक्षा-स्वास्थय

जंतर मंतर से बंगाल के सुदूर गंगा तट तक गंगा प्रेमियों की एक आवाज! :  कुंभ से युवा संत आत्मबोधानंद मातृ सदन, हरिद्वार लौटे.

14 फरवरी, 2019

114 दिन से अनशनरत युवा संत आत्मबोधानंद अपने गुरु जी श्री शिवानंद जी व साथियों सहित कल देर रात कुंभ में गंगा किनारे अपने कैंप से, मातृ सदन, हरिद्वार अपने आश्रम में पहुंचे शिवानंद जी ने आरोप लगाया कि कुंभ के बारे में बहुत झूठा प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने इस बात पर अपना क्षोभ व्यक्त किया कि गंगा किनारे पूरे मंत्रिमंडल की बैठक करने का व मंत्रिमंडल के साथ कुंभ स्नान करने का विश्वव्यापी प्रचार किया जा रहा है। वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एक बार भी आकर इस युवासंत का कुशल तक नहीं पूछा पाए। ना ही अपनी सरकार के किसी नुमाइंदे को भेजा। युवा संत 24 जनवरी से कुम्भ में थे जहाँ वे आम जान तक अपनी बात पहुंचाते रहे।

पर्यावरण कार्यकर्ता देबादित्यो सिन्हा ने गंगा के जल प्रवाह के बारे में कहा कि हमें पूरे साल ऐसा ही जल चाहिए गंगाजी में, सिर्फ कुम्भ के वक़्त टिहरी बांध मैं बिना पुनर्वास और पर्यावरण की शर्तों को पूरा कीजिए जबरदस्ती लोगों को विस्थापित करके इकट्ठा किया गया जल छोड़ने से क्या फायदा? गंगा में अगर मछलियां, कछुए, मगरमच्छ, घड़ियाल, सूंस, ऊदबिलाव इत्यादि नहीं रहेगी फिर वह सिर्फ बहता पानी है। गंगा के गंगत्व पर ये बांधों के दुष्परिणाम है।

दक्षिण की प्रसिद्ध मठ तेजावुर के प्रमुख स्वामी जी ने दक्षिण के मठों को गंगा के मुद्दे पर एक साथ आने की अपील की तथा दक्षिण से गंगा के लिए चल रही इस कठिन तपस्या के लिए समर्थन दिया।

दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रतीकात्मक धरना चालू है संसद के सामने गंगा की आवाज उठाने का क्रम रोज क्रमिक अनशन के रूप में जारी है विभिन्न संगठनों के लोग आकर रोज प्रधानमंत्री को पत्र भेजते हैं यह सब ऑनलाइन पिटिशन और विभिन्न लोगों द्वारा व्यक्तिगत रूप से भेजे जा रहे पत्रों से अलग है।

सर्वोच्च न्यायालय की वकीलों ने पी वरिष्ठ अधिवक्ता पी0 एस0 शारदा जी के नेतृत्व में 1 दिन का धरना देकर कानून के रखवालो का भी ध्यान खींचने का प्रयास किया गया।

4 दिसंबर को दिल्ली के अति सुरक्षित अस्पताल से गायब हुए संत गोपाल दास जी के पिता ने जंतर मंतर पर साथियों सहित धरने पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और चिंता व्यक्त की की मेरा बेटा तो गायब हुआ है। युवा संत आत्मबोधानंद जी के जीवन के बारे में सरकार क्यों मौन है?

पश्चिमी बंगाल में शांतिपुरा से गुप्ती पुरा तक साइकिल यात्रा निकाली गई और 1 दिन का उपवास धरना कार्यक्रम का आयोजन हुआ। जिसमें अन्य साथियों के साथ नदी जल विशेषज्ञ एवं वकील सुप्रीतम करमाकर, कलोल राय एवं प्रोफेसर चंद्रिम भट्टाचार्य भी शामिल हुए।

बिहार की राजधानी पटना में गंगा किनारे जन आंदोलन का राष्ट्रीय समन्वय की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। मजदूर किसानों के बीच काम करने वाले आशीष रंजन व कोसी नदी व उसके किनारे के निवासियों के बीच काम करने वाले महेंद्र यादव अपने साथियों सहित धरने पर बैठे। उन्होंने कहा कि गंगा देश की नदियों का उत्तर भारत की नदियों का जीवन प्राण है सरकार कितने भी दावे करें किंतु बिहार तक गंगाजल नहीं पहुंचता है। हम इसीलिए युवा संत आत्मबोधानंद जी की अविरल और निर्मल गंगा प्रवाह की मांग का समर्थन करते हैं।

नितिन गडकरी जी ने पिछले समय में कई बार गंगा पड़ भविष्य में बांध ना बनने देने की बात कही है किंतु देश के पर्यावरण कार्यकर्ता, गंगा प्रेमी और सच्चे गंगा संत इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि सरकार फिर मौन क्यों है वह क्यों नहीं इस मुद्दे पर बात करती?

**

संपर्क:- विमल भाई { 9718479517} डॉ विजय वर्मा { 9634847444

फ्री गंगा, ( अविरल गंगा)
जेपी हेल्थ पैराडाइज,रोड नंबर 28, मेहता चौक, रजौरी गार्डन, नई दिल्ली

फेसबुक@freeganga ट्विटर@matrisadan, www.freeganga.in

Related posts

आज़ किसान इतिहास रचेंगे रायपुर पहुंचकर ।

News Desk

बीजापुर : भैरमगढ़ मे पुलिस द्वारा पकड़े गए 26 ग्रामीणों में से 11 को आरोपी बताया ,शेष अभी तक लापता, आदिवासीयों ने बताया कि कोई नक्सली नहीं सबके आधार कार्ड और वोटर आईडी है.

News Desk

| धान अधिक तौल करके किसानों के दो हजार करोड़ रुपये की लूट हो रही है, लूट की राशि में सबकी हिस्सेदारी||छत्तीसगढ़ प्रगतिशील किसान संगठन

News Desk