आदिवासी किसान आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन राजनीति

छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में : अदानी कंपनी की खनन परियोजना के विरोध के प्रभावित ग्रामीणों ने ब्लॉक आफिस उदयपुर तक 28 किलोमीटर की पदयात्रा …

5.03.2019 : सरगुजा .

सरगुजा जिले के उदयपुर जिले में संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान एवं प्रस्तावित परसा कोल ब्लॉक राजस्थान राज्य विधुत उत्पादन निगम लिमिटेड को आवंटित हैं, इसका खनन का ठेका MDO के माध्यम से अडानी कंपनी के पास हैं l इन दोनों परियोजनाओं को यहाँ के निवासरत आदिवासी और अन्य परपरागत वन समुदाय के अधिकारों का हनन कर, संवैधानिक प्रावधानों, नियमो – प्रक्रियाओं की धज्जियाँ उड़ाकर संचालित किया जा रहा हैं l

कम्पनी और शासकीय कर्मचारी मिलकर षड्यंत्र पूर्वक फर्जी जानकारियों के आधार पर फर्जी ग्रामसभाओं के प्रस्ताव तैयार कर इन खनन परियोजनाओं को स्वीकृतियां प्रदान करवा रहे हैं

परसा कोल ब्लॉक के लिए ग्रामसभा की सहमति के बिना ही गैरकानूनी तरीके से भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही की जा रही हैं जिसे वर्तमान सरकार के द्वारा भी निरस्त नही किया गया। इसी परियोजना के लिए अडानी कंपनी ने वन एवं पर्यावरण स्वीकृति हासिल करने फर्जी ग्रामसभा के प्रस्ताव तैयार कर केंद्रीय मंत्रालय को भेजे जिसके खिलाफ गांव वाले कंपनी पर एफ आई आर दर्ज करने की भी मांग कर रहे हैं।

Related posts

” अरपा ” को बचाने का मतलब है संस्कृति, सभ्यता,जीवनशैली व मानवीय मूल्यों को बचाना : गणेश कछवाहा.

News Desk

रमन सरकार ने चुनावी वायदा पूरा नहीं किया तो अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा को किसानों का सामना करना होगा.

News Desk

भारत के संघीय ढांचे को लगातार झकरोरा जा रहा है – नन्द कश्यप

News Desk