क्राईम छत्तीसगढ़ बिलासपुर महिला सम्बन्धी मुद्दे राजनीति रायपुर

छत्तीसगढ़ . जशपुर : विधायक के रिश्तेदार को लड़कियों से छेड़छाड़ करने की छूट है?

Jashpur News

घटना छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की है. बीते गुरूवार को नितेश भगत नाम के युवक ने कॉलज में पढने वाली लड़की से छेड़छाड़ की. भाषा को बगैर सजाए लिखें तो युवक ने लड़की के साथ बलात्कार करने की कोशिश की. सूनसान जगह पर युवक ने लड़की से ज़बरदस्ती करनी चाहि. लड़की जैसे-तैसे बच कर वहां से भागी और घटना की जानकारी अपने परिजनों को दी.

मामला ज़्यादा गंभीर इसलिए है क्योंकि छेड़छाड़ करने वाला युवक जशपुर के विधायक विनय भगत का रिश्तेदार (साला) है. विनय भगत कांग्रेस की टिकट से जशपुर के विधायक चुने गए हैं.

चूंकि छेड़छाड़ करने वाला विधायक जी का रिश्तेदार है लिहाज़ा मामला दबाने की जुगत में शिकायत पुलिस तक लेजाने की बजाए दुसरे दिन गाँव में ही पंचायत पुलाई गई. पंचायत में आपबीती सुनाते हुए पीड़िता रोने लगी.

मामले को दबाने के लिए पंचायत ने फैसला लिया कि आरोपी को समझाइश के साथ दो थप्पड़ लगाकर छोड़ इया जाएगा.

भोली पुलिस को कुछ पता नहीं चला

गुरूवार को घटना घटी, पूरे इलाके में हल्ला मच गया. शुक्रवार को पंचायत बैठी लघभग एक घंटे से भी ज्यादा पंचायत का हंगामा चलता रहा. लेकिन जब पुलिस से इस बारे में पूछा गया तो जवाब मिला कि हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है और न ही किसी ने कोई शिकायत की है. घटना का वीडियो न्यूज़ वेबसाइट्स में चलने के बाद पोलिस गाँव में पूछताछ करने पहुची.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरोपी युवक पर कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की गई है.

मीडियाकर्मियों पर खबर न चलाने का दबाव बनाया गया

पत्रिका ने अपनी खबर में लिखा है कि छात्रा से छेड़छाड़ के मामले में की गई बैठक की भनक मिलते मीडिया कर्मचारी भी पहुंच गए। लेकिन मामले को रफा-दफा करने में तुले लोगों को पत्रकारों की उपस्थिति नागवार गुजरी और उन्होंने कार्रवाई के दौरान रिकॉर्ड किए गए वीडियो को डिलीट करने का दबाव बनाने की कोशिश करने लगे। नाकाम होने पर पंचायत में जमा भीड़ को भी उकसाने का प्रयास किया। मीडिया कर्मचारियों के मोबाइल की जबरन जांच भी की गई

जशपुर विधायक, विनय भगत ने कहा कि मैं अभी दौरे से लौटा हूं। पूरी जानकारी लेने के बाद ही कुछ कह पाऊंगा

जशपुर एसपी, शंकर लाल बघेल ने बताया कि मामले की जानकारी सोशल मीडिया से मिली है। सम्बंधित गांव में एक टीम भेजी गई थी। इस मामले में अब तक कोई शिकायत नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर जांच की जायगी।

Related posts

राज्य सरकार की कार्पोरेट परस्त नीतियों का परिणाम हैं हाथी मानव संघर्ष / खनन कंपनियों के दबाव में लेमरू एलिफेंट रिजर्व को निरस्त करना भारी पड़ रहा हैं लोगो की जान पर .जन संगठनों का आरोप.

News Desk

छत्तीसगढ़ सरकार का बजट जुमलेबाजी पूर्ण किसान, मजदूर युवा विरोधी…छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन

News Desk

सामाजिक न्याय के “ध्वजवाहकों” का असली चेहरा

News Desk