अदालत आदिवासी आंदोलन महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजकीय हिंसा

गोमपाड़ मुठभेड़ फर्जी, मछली पकड़ रही महिलाओं को मारी गोली : सोनी सोरी

Updated: Fri, 29 Dec 2017 06:14 AM (IST)
नई दुनिया ,दन्तेवाड़ा 
आप नेत्री सोनी सोरी व गोमपाड़ के कथित मुठभेड़ में घायल महिला सोयम रामे के परिजनों ने गुरूवार को कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य व एसपी अभिषेक मीणा से मुलाकात की। 18 दिसंबर को गोमपाड़ में हुई घटना की लिखित शिकायत कर दोषियों पर कार्रवाई करने एवं घायल महिला रामे के उचित उपचार की मांग की। शाम
फोटो 28 सुकमा 01
सुकमा। नईदुनिया न्यूज
आप नेत्री सोनी सोरी व गोमपाड़ के कथित मुठभेड़ में घायल महिला सोयम रामे के परिजनों ने गुरूवार को कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य व एसपी अभिषेक मीणा से मुलाकात की। 18 दिसंबर को गोमपाड़ में हुई घटना की लिखित शिकायत कर दोषियों पर कार्रवाई करने एवं घायल महिला रामे के उचित उपचार की मांग की।
शाम चार बजे पीडब्ल्यूडी विश्रामगृह में पत्रवार्ता कर आप नेत्री सोनी सोरी ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए। इस दौरान शिकायतकर्ता घायल महिला का जेठ सोयम सीता एवं चाची मड़कम लक्ष्मी के अलावा आप पार्टी के सुकमा जिला संयोजक रामदेव बघेल, अरविंद कुमार गुप्ता एवं अधिवक्ता प्रियंका भी मौजूद रहीं। सोनी सोरी ने मुठभेड़ को पूरी तरह से फर्जी बताते कहा कि गोमपाड़ इलाके में 18 दिसंबर को पुलिस और नक्सलियों के बीच किसी तरह की मुठभेड़ नहीं हुई। दोपहर एक बजे तालाब में मछली पकड़ रही चार महिलाओं पर सर्चिंग में निकले पुलिस जवानों ने अंधाधुंध फायरिंग की। तीन महिलाएं जैसे-तैसे जान बचाकर भागने में कामयाब हो गईं। वहीं सोयम रामे पैर में गोली लगने के बावजूद कुछ दूर तक भागने के बाद गिर गई। उसके साथ की महिलाओं ने रामे को घायल अवस्था में घर पहुंचाया। घटना के बाद अगले दो दिनों तक गोमपाड़ इलाके में फोर्स का आना-जाना लगा रहा। फोर्स के मूवमेंट से डरकर घायल महिला रामे के परिजनों ने उसे इलाज के लिए अस्पताल नहीं पहुंचाया। रामे की तबीयत ज्यादा बिगड़ने के बाद परिजन तीसरे दिन बुधवार को उसे कोंटा एमएसएफ कैंप लेकर पहुंचे। वहां इलाज से इंकार करने के बाद रामे के परिजनों ने कोंटा पुलिस से संपर्क करने की कोशिश की। सोनी सोरी ने बताया कि कोंटा पुलिस के कहने पर किसी जावेद नाम के व्यक्ति ने रामे को भद्राचलम अस्पताल में दाखिल कराने की सलाह परिजनों को दी। परिजन रामे को भद्राचलम के जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। दो दिनों तक रामे जिला अस्पताल में एडमिट रही। वहां इलाज ठीक से न होता देख परिजनों ने रामे को भद्राचलम के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया। रामे बीते पांच दिनों से निजी अस्पताल में एडमिट है। बावजूद उसके पैर में फंसी गोली नहीं निकाली गई है। फिलहाल रामे अपने पति सोयम कामा की देखरेख में अस्पताल में है। सोनी सोरी ने कहा पैर में लगी गोली नहीं निकालने के कारण घायल महिला की हालत लगातार खराब होती जा रही है। सोनी ने आरोप लगाया कि पुलिस के इशारे पर अस्पताल में महिला का बेहतर उपचार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रामे तीन बधाों की मां है। रामे व उसका पति कामा खेती- किसानी कर गुजारा करते हैं।
गिरफ्तारी हुई तो करेंगे आंदोलन : सोनी सोरी ने
पत्रकारों को बताया कि रामे बेकसूर है। रामे व उसके परिवार के किसी भी सदस्य का नक्सली संगठन या नक्सली गतिविधियों से किसी तरह का लेना- देना नहीं है। पुलिस अपनी करतूत छिपाने के लिए रामे को जबरन नक्सली व फर्जी मुठभेड़ की कहानी बता रही है। सोनी ने कहा कि अगर रामे को नक्सली बताकर पुलिस गिरफ्तार करती है तो जिला मुख्यालय में आंदोलन किया जाएगा। एसपी दफ्तर का घेराव करने की बात कहते सोनी ने कहा कि वे इस बार पुलिस की गुंडागर्दी के खिलाफ चुप नहीं बैठेंगी। रामे को उचित उपचार और न्याय मिलने तक लड़ाई जारी रखने की बात उन्होंने कही।
डिस्चार्ज होते ही गिरफ्तारी होगी : एसपी
गुरुवार दोपहर एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि 20 दिसंबर को गोमपाड़ इलाके में दो बार नक्सलियों के साथ मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में खून से सनी नक्सली वर्दी व पिट्ठू समेत अन्य नक्सली सामग्री मिलने की बात कहते मीणा ने बताया कि मुठभेड़ में मिलिशिया कमांडर गोरम सेंसा मारा गया है। वहीं दो महिला नक्सली घायल होने की सूचना है। भद्राचलम के निजी अस्पताल में एडमिट सोयम रामे माओवादियों के क्रांतिकारी आदिवासी महिला संगठन की सदस्य है। पहले तो गांव वालों ने मुठभेड़ के बाद किंदरेलपाड़ गांव में रखकर घायल महिला नक्सली रामे का इलाज किया। इसके बाद कुछ दिनों तक मल्लेमपेंटा में रखकर महिला का उपचार किया गया। तबीयत बिगड़ने के बाद रामे के परिजन और गांव वालों ने भद्राचलम अस्पताल में एडमिट कराया है। महिला के स्वास्थ्य में सुधार होते ही उसे गिरफ्तार करने की बात एसपी ने कही है।
**
देशबन्धु की रिपोर्ट 

सुकमा। छत्तीसगढ के सुकमा जिले के गोमपाड़ में कथित नक्सली मुठभेड़ के मामले ने तूल पकड़ लिया है। पिछले दो दिनों से फर्जी मुठभेड़ में आदिवासी युवती रामे को तालाब में मछली पकड़ने के दौरान गोली मारने का आरोप लगाने वाली आम आदमी पार्टी (अाप) नेता सोनी सोरी ने पत्रकार वार्ता कर दोबारा से गोमपाड़ मुठभेड़ को पूरी तरह से फर्जी बताया, तो वहीं जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने बताया कि अस्पताल में भर्ती सोयम रामे माओवादियों के क्रांतिकारी आदिवासी महिला संगठन की सदस्य है।

बताया गया है कि पहले तो गांव वालों ने मुठभेड़ के बाद किंदरेलपाड़ गांव में रखकर घायल महिला नक्सली रामे का इलाज किया। इसके बाद कुछ दिनों तक मल्लेमपेंटा में रखकर महिला का उपचार किया गया। तबीयत बिगड़ने के बाद रामे के परिजन और गांव वालों ने उसे भद्राचलम अस्पताल में एडमिट कराया है। महिला के स्वास्थ्य में सुधार होते ही उसे गिरफ्तार किया जाएगा। एसपी के इस बयान के बाद सोनी सोरे ने रामे की गिरफ्तारी का विरोध करने और एसपी कार्यालय का घेराव करने की घोषणा कर दी है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 20 दिसंबर को गोमपाड़ इलाके में दो बार नक्सलियों के साथ जवानों की मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में खून से सनी नक्सली वर्दी, पिट्ठू समेत अन्य नक्सली सामग्री मिली है। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ में मिलिशिया कमांडर गोरम सेंसा मारा गया है। वहीं दो महिला नक्सलियों के घायल होने की सूचना है।

वहीं सोनी सोरी ने घायल महिला रामे उसके परिजनों से हुई बातचीत के आधार पर दावा किया कि गोमपाड़ इलाके में 18 दिसंबर को पुलिस और नक्सलियों के बीच कोई भी मुठभेड़ नहीं हुई। उस दिन दोपहर एक बजे तालाब में मछली पकड़ रहीं चार महिलाओं पर सर्चिंग पर निकले पुलिस के जवानों ने अंधाधुंध फायरिंग की। तीन महिलाएं जैसे-तैसे जान बचाकर भागने में कामयाब हो गईं।
सोयम रामे पैर में गोली लगने के बावजूद कुछ दूर तक भागने के बाद गिर गई।

उन्होंने बताया कि उसके साथ की तीन महिलाओं ने रामे को घायल अवस्था में घर पहुंचाया। घटना के बाद अगले दो दिनों तक गोमपाड़ इलाके में फोर्स का आना-जाना लगा रहा। फोर्स के मूवमेंट से डरकर घायल महिला रामे के परिजनों ने उसे इलाज के लिए अस्पताल नहीं पहुंचाया। सोनी सोरी ने पत्रकारों को बताया कि रामे बेकसूर है।

रामे उसके परिवार के किसी भी सदस्य का नक्सली संगठन या नक्सली गतिविधियों से किसी तरह का लेना देना नहीं है। सोनी ने कहा कि अगर रामे को नक्सली बताकर पुलिस उसे गिरफ्तार करती है तो जिला मुख्यालय में बड़ा आंदोलन किया जाएगा। एसपी दफ्तर का घेराव करने की बात कहते हुए सोनी ने कहा कि वे इस बार पुलिस की गुंडागर्दी के खिलाफ चुप नहीं बैठेंगी।

इस दौरान शिकायतकर्ता सोयम सीता एवं रामे की चाची मडकम लक्ष्मी के अलावा आप पार्टी के सुकमा जिला संयोजक रामदेव बघेल, अरविंद्र कुमार गुप्ता एवं अधिवक्ता प्रियंका भी मौजूद रहीं।

Related posts

जेके लक्ष्मी सीमेंट कंपनी द्वारा मुआवजा राशि देना बंद कर देने के खिलाफ प्रभावित किसानों का धरना जारी

News Desk

अमर सपूत बिरसा मुंडा ने बीस वर्ष की उम्र में आजादी के लिए जो बलिदान दिया, वह सदियों तक याद किया जाएगा : जशपुर मे आयोजन

News Desk

भूपेश ने कहा- मोदी का जोरदार स्वागत करेंगे और डर गए रमन ःः  – लाठी चलाने वाले नीरज चंद्राकर को किया अटैच.

News Desk