आंदोलन दलित शिक्षा-स्वास्थय

गुरुघासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय प्रशासन के द्वारा विद्यार्थियों के भविष्य के साथ किए जा रहे खिलवाड़ के विरोध में राज्य स्तरीय एक दिवसीय विशाल धरना . 6 जून 2019

गुरुवार रथानः गुरु घासीदास विश्वविद्यालय मेन गेट के बाजू में सप्ताहिक बाजार मैदान कोनी समयः – प्रातः 10 . 00 बजे से सायं 5 . 00 बजे तक ।

आप सभी भली भांति जानते ही हैं कि शिक्षा का निजीकरण तो कर ही दिया गया है थोड़ा बहुत कहीं कुछ रह गया है । तो वह भी मनुवादी , जातिवादी मानसिकता के ऊँचे पदों पर बैठे सवर्ण अधिकारियों की वजह से अनुसूचित जाति , जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग के प्रतिभावान , होनहार विद्यार्थियों का भविष्य अंधकारमय हो गया है उनका भावी जीवन ब्राम्हणवादी सोच के भंवरजाल में फंस कर दम तोड़ रहा है वह कलियां जो फूल बनकर देश रुपी बगिया में अपनी सुगंध बिखेरती और देश के उज्जवल भविष्य के निर्माण में नीव का पत्थर साबित होती पर अफसोस इन जातिवादी , तानाशाही विचारधारा के घृणित मानसिकता के उच्चासीन अधिकारियों की देश का शिकार हमारी पीढ़ी अनवरत् हो रही है ।

अगर यही स्थिति आगे यूं ही बदस्तूर जारी रही तो वह दिन दूर नहीं 5000 सालों की गुलामी की ओ काली करतूतें जो हमारे पूर्वजों ने झेली हैं वह आजहमारी भावी पीढ़ियां झेलने के लिए मजबूर होगी साथियों उच्च शिक्षण संस्थानों में चाहे प्रवेश की प्रक्रिया हो | चाहे नौकरी के लिए साक्षात्कार की प्रक्रिया हो सभी जगह बहुसंख्यक समाज के होनहार प्रतिभाओं के साथ भेदभाव , छल – कपट व पक्षपात कर उनकी प्रतिभाओं की हत्या कर दी जाती हैं । और यह सब घटनाएं किसी स्थान विशेष या व्यक्ति विशेष के साथ नहीं हो रही हैं बल्कि पूरे देश के कोने – कोने में यह घटनाएं घटित हो रही हैं । जो कहीं रोहित वेमुला तो कहीं डॉक्टर पायल तड़वी , डॉ . धर्मेन्द्र सतनामी तो कहीं गणेश कोसले के रूप में हमारे सामने दिन – प्रतिदिन दीष्टिगोचर हो रही हैं ।

इन सब के पीछे कारण और कारण एक मात्र यही है । और वह है हम बहुजनों का बिखराव हम कभी एकजुट होकर इन मनुवादी , जातिवादी , घृणित मानसिकता लेकर चलने वाले लोगों के खिलाफ मुखर होकर , एकजुट होकर , न सड़कों पर उतरते हैं और न ही उनकी कुर्सियों को हिलाने की हिमाकत किए हैं और यही कारण है कि सवर्ण अधिकारी हमारे बच्चे के उपर जब चाहे तब कोड़े बरसा कर उन्हें लहूलुहान कर देते हैं । और हम इनके खिलाफ या तो अकेले झेलते हैं या दुबक कर बैठ जाते हैं यह ब्राम्हणवाद व्यवस्था को पल्लवित और पुष्पित करने में संजीवनी बूटी का कार्य करती हैं । मनुवादी सोच ब्राम्हणवादी मानसिकता का ताना बाना यूं ही बुनता रहेगा जब तक हम सब एक मंच पर आकर इनके जाल को कुतरने के लिए वृहद कार्य योजना बनाकर इनके षड्यंत्रों के खिलाफ धरना प्रदर्शन व आंदोलन नहीं करेंगे इसके लिए हर वह व्यक्ति जिम्मेदार हैं जो वर्ण व्यवस्था के अनुसार शुद्र है , और जो ब्राहमिडिकल ताकतों से आहत हो रहे हैं । साथियों यह एक बहुत बड़ी लड़ाई है.

गुरुघासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय बिलासपुर छत्तीसगढ़ जो छत्तीसगढ़ के महान संत गुरुघासीदास जी के नाम से संचालित है । विश्वविद्यालय में उनके ही वर्ग के बच्चों को पढ़ने लिखने से रोका जा रहा है जो इस देश का दुर्भाग्य है , जो संविधान के खिलाफ है , जो गैरकानूनी है , जो असंवैधानिक है , इन व्यवस्थाओं के खिलाफ संघर्ष के लिए सभी विद्यार्थियों , कर्मचारियों , अधिकारियों , युवा बेरोजगार साथियों , रकूल कॉलेजों में पढ़ाने वाले शिक्षकों , अभिभावकों , जनप्रतिनिधियों , माताओं एवं बहनों से यह

एक मार्मिक अपील है कि एक बार देश के इतिहास में 2 अप्रैल 2018 की ऐतिहासिक घटना जिसमें एट्रोसिटी एक्त के समर्थन में पूरा देश अपने अधिकारों की रक्षा के लिए सड़कों पर उतर कर एक जनसैलाब पैदा कर दिया था जिसके कारण भारत सरकार को औंधे मुंह गिरना पड़ा । बहुजनों की एकजुटती के सामने सरकार को घुटने टेकने पड़े और ससम्मान एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव को वापस लेना पड़ा आज उस इतिहास को दोहराने की जरूरत है स्वफुर्त हम सब अपने घरों से निकलें और दूसरों को भी अधिक से अधिक संख्या में निकलने के लिए प्रेरित करें शिक्षण संस्थानों में हमारे प्रतिभाओं की हत्या एट्रोसिटी एक्ट से भी ज्यादा खतरनाक है यह एक ऐसी जगह है जहां हमारी भावी पीढ़ी प्रगति की दहलीज पर अपने कोमल पंजो के । निशान छोड़ेगें , और आने वाले पीढ़ी को उसी मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेंगे . साथियों हम जानते हैं कि यह जून का महिना बहुत ही दुखदाई है . . .
तपतपाती – चिलमिलाती धूप है . पारा 45 डिग्री सेल्सिय से भी उपर चल रहा है ऐसे समय में हर कोई कुलर पंखे व ठंडी हवा में आराम फरमाना चाहता है . .

. हम समझ सकते हैं आप सबके इस दर्द को , इस पीड़ा को , लेकिन मेरे साथियों इस 45 डिग्री सेल्सियस तापमान से कई गुना ज्यादा प्रताड़ना हमारे बच्चों के साथ हमारी आने वाली पीढ़ी के साथ मनुवादी ताकतों द्वारा किया जा रहा है , इन बुरी ताकत को , उनके षडयंत्रों को नेस्तनाबूद करने के लिए हमें अपने घरों से एक बार फिर से निकलना होगा

आप सब से हम निवेदन करते हैं . . .
विनती करते हैं .
आग्रह करते हैं . .
कि आप बिना धूप की परवाह किए 6 जून 2019 दिन गुरुवार को गुरुघासीदास केन्द्रीय विश्वविद्यालय के मनुवादी ताकतों के साथ अपना विरोध दर्ज कराने घरों से जरुर निकलें . . और भी लोगों को निकलने के लिए प्रेरित करें हमें आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि 2 अप्रैल को जिस प्रकार हम अपने दूध पीते बच्चों को गोद में लेकर सड़कों पर उतर पड़े थे । वैसे ही जन सैलाब 6 जून को सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी कोनी बिलासपुर के लिए आप सभी कूच करेंगे और एक नई इतिहास रचेंगे .

आपका . . .

एस सी एस . टी . , ओ . बी . सी . एण्ड माइनोरिटी महासंघ छCग0 एवं महासंघ के सभी अनुषांगिक संगठन – गुरुघासीदास शोध संस्थान ( जी एस . एस ) बहुजन एकीकरण आंदोलन समिति मुंगेली , बापसा , भीम आर्मी , भीम रेजीमेंट , अम्बेडकर युवा मंच , भारती बौद्ध महासभा , अहिरवार समाज , मूल निवासी संगठन , मेहर समाज , बी एस 4 , रजिस्टर्ड बौद्धिक सोसायटी इंडिया , एम्बस , डॉक्टर अम्बेडकर नवयुवक समिति , बौद्ध महासभा , डॉ . अम्बेडकर कल्याण समिति , दलित मुक्ति मोर्चा , एंप्लाइज एसोसिएशन , सतनामी युवा मंच , खटीक समाज बिलासपुर , सारथी समाज बिलासपुर , युवा अहिरवार समाज बिलासपुर , ? सतनाम कल्याण समिति बिलासपुर , सर्व आदिवासी समाज , सतनाम पंथ ज्ञान की धारा समिति , नव युवक मंडल , महंतबाड़ा बिलासपुर , सतनाम एकता मंच उस्लापुर , दिव्य ज्योति महिला समिति , बिलासपुर , सत्य ज्योति महिला समिति बिलासपुर , सेवा कल्याण समिति गणेश नगर , धर्म स्वावलम्बन बिलासपुर , अखिल भारतीय अनु . जाति , जनजाति , महापंचायत सतनाम कल्याण समिति बिल्हा , सतनाम एकता मंच मस्तूरी , पिछड़ा वर्ग कल्याण संघ , अम्बेडकर वाचनालय मोपका , सूर्यवंशी शिक्षा मंच , छत्तीसगदिया समाज , बामसेफ शैडो , सूर्यवंशी समाज , उत्कर्स समिति , जगत कल्याणकारी शिरोमणि गुरुघासीदास सेवा आश्रम , गुरुद्वारा धाम भरनी , सतगुरु सतनाम महिला समिति देवरीखूर्द , कलार समाज भिलाई , सतनामी सामाजिक संगठन देवरीखूर्द , छत्तीसगढ़ मुक्तिमोर्चा , कबीर पंथ सेवा समिति बिलासपुर , जिला कुर्मी समाज बिलासपुर , छत्तीसगढ़ कुर्मी चेतना मंच , सशक्त कुमी समाज बिलासपुर , मनवा कुर्मी समाज बिलासपुर , कुर्मी सेवा समिति बिलासपुर , पाटनवार कुर्मी समाज , जिला साहू समाज संघ छत्तीसगढ़ , प्रदेश साहू संघ , पिछड़ा वर्ग महासभा , पिछड़ा वर्ग कल्याण मंच , पिछडा वर्ग समन्वय समिति ओबीसी महासभा , गोड़वाना समाज , कछवाहा समाज , भोई समाज , पटेल मरार समाज , धीवर समाज , घसिया समाज , मानिकपुरी पनिका समाज , गंधर्व समाज तम्बोली समाज लोहार समजा देवांगन समाज , यादव समाज , श्रीवास समाज , केंवट समाज , राठौर समाज , कछुवाहा समाज , यदुनंदन नगर मुस्लिम कमेटी , किश्चयन समाज बिलासपुर , आमंत्रित प्रदेश के सभी संगठन एवं अतिथिगण –

प्रगतिशील छत्तीसगढ सतनामी समाज , एस . सी . , एस . टी . , ओबीसी . व अल्पसंख्यक संयुक्त मोर्चा छत्तीसगढ़ , अजाक्स छत्तीसगढ़ इकाई , केन्द्रीय समन्वय समिति छ0ग0 , सर्व पिछड़ा वर्ग महासभा , सर्व आदिवासी महासभा , जयस बिलासपुर , सतनाम सेना , सतनाम महासंघ , गुरम्घासीदास सेवादार संघ , सतनाम युवा विंग , छत्तीसगढ़ बहुजन समाज पार्टी छत्तीसगढ़ इकाई , छत्तीसगढ़ कांग्रेस भाजपा , अनु . जाति , जनजाति प्रकोष्ठ पदाधिकारीगण निर्वाचित विधायक एवं सांसद पूर्व एवं वर्तमान विधायक सांसद , छजका जनता कांग्रेस , अम्बेडकराइट पार्टी ऑफ इण्डिया , अन्य सभी पार्टियों के अनुसूचित जाति , जनजाति प्रकोष्ठ के पदाधिकारीगण समस्त न्यायप्रिय संगठन एवं नागरिक गण , केन्द्र एवं राज्य सरकार के अनुसूचित जाति , जनजाति , संगठनों के सभी पदाधिकारीगण ।

अतिथिगण सर्वश्री नंदकुमार बघेल , अमित जोगी , सोहन पोटाई , दाउराम रतनाकर , गिरधर मढरीया , रामकृष्ण जांगड़े जीविष्णु बघेल , डॉ . गोल्डी एम जार्ज , जीवन लाल यादव , यादव गुरु , शगुन वर्मा जी , सियाराम कौशिक जी , संतोष कौशिक , राकेश पात्रे , सोनू चंद्राकर , रामेश्वर भार्गव , चंद्रदेव राय , उत्तरी गनपत जांगड़े , दुर्गा बघेल , केशव चंद्रा , घनश्याम वर्मा , इंदिरा साहू , लखन कुरै सुबोध , अरुण सिंगरोल , हेमचंद जांगड़े , उर्मिला मार्को , सुभाष परते , डमरु मनहर , एस के बंजारा , के . पी . खांडे , एम एल कोसले , देवाराम साहू , देवकुमार कनेरी , काम्ता जोल्हे , दुजराम बौध्द , हेमचंद मिरी , इंदू बंजारे , चुरावन मंगेश्कर , दिलीप लहरीया , सियाराम कौशिक , कृष्ण कुमार नवरंग आदि

**

Related posts

आर पार की लड़ाई हेतु बार अभ्यारण के 71 गांव का संकल्प बैठक जिसमे सभी गांव के मुखिया व पंचायत प्रतिनिधियों का हजारो की संख्या में बैठक लिया गया , अपराधी रेजर संजय रौतिया जब तक गिरफ्तार नही होगा तब तक संघर्ष जारी रहेगा : बारनवापारा

News Desk

नीरव मोदी PNB बैंक घोटाला के मामले मेंआम आदमी पार्टी का विरोध प्रदर्शन , अरुण जेटली के इस्तीफे की भी मांग – डॉ संकेत ठाकुर.

News Desk

कर्फ़्यू लगा दो …अमजद मजीद .

News Desk