आदिवासी जल जंगल ज़मीन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन

कोयलीबेड़ा। मेटाबोदेली माइंस से त्रस्त होकर ग्रामीण विरोधस्वरूप सड़क पर उतरने को मजबूर हो गए हैं।

कोयलीबेड़ा। मेटाबोदेली माइंस से त्रस्त होकर ग्रामीण विरोधस्वरूप सड़क पर उतरने को मजबूर हो गए हैं। माइंस से निकल रहे लाल पानी ने खेतों में खड़ी फसल को बर्बाद कर दिया है।

स्थानीय ग्रामीण के मुताबिक कई बार निवेदन करने के बाद भी ना तो कोई जनप्रतिनिधि मदद के लिये आगे आया है, ना ही अधिकारी ग्रामीणों की बात को तवज्जो दे रहे हैं।

माइंस के भारी वाहनों से सड़कें भी बदहाल हो गई हैं। बारिश के कारण गड्ढे़ वाली सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया है। अंततः ग्रामीण खुद सड़क पर आकर माइंस का विरोध कर रहे है। लगातार जनसमस्याओं को माइंस प्रबंधन द्वारा अनदेखी किया जाता रहा धरना व प्रदर्शन होने पर आश्वाशन मात्र मिलता है परन्तु आज तक कोई ठोस कार्यवाही नही हुई। नही खेतों में आ रहे लाल पानी का कोई इंतेजाम किया जा रहा, न ही जर्जर हो रहे रोड की सुध ली जा रही है मूलभूत सुविधाओं के लिए भी माइंस प्रबंधन ध्यान नही दे रही जिससे प्रभावित क्षेत्र की जनता परेशान हैं । इन्ही परेशानियों को देखते हुए आज मेटाबोदेली माइंस में वाहनों को रोका गया व प्रदर्शन किया गया।

Related posts

कोयंदे बांझ नहीं है – नवल शर्मा

News Desk

क्या 50 हजार मिलियन टन कोयला का भंडार निकालने उत्तर छत्तीसगढ़ के सभी जंगलो का विनाश कर देंगे.

News Desk

पहाड़ बचाओ पर हुआ रायपुर में विमर्श .आदिवासियों के हित में बैलाडीला स्थित ‘नंदराज पहाड़’ को बचाए सरकार , पर्यावरण हित में पहाड़ नीति बनाना जरूरी. ,छत्तीसगढ़ पहाड़ बचाओ अभियान.

News Desk